menu-icon
India Daily
share--v1

AI Girlfriends Stealing Personal Data: प्यार के चक्कर में खाना पड़ेगा धोखा, आपको ले डूबेगी AI गर्लफ्रेंड 

AI गर्लफ्रेंड का चलन इतना ज्यादा हो गया है कि लोग इसे लेकर काफी ज्यादा एक्टिव दिख रहे हैं. लेकिन AI गर्लफ्रेंड आपको किस तरह से ब्लैकमेल कर सकती हैं और यह कैसे आपके लिए एक जाल बन सकता है, चलिए जानते हैं. 

auth-image
Shilpa Srivastava
AI Girlfriends Stealing Personal Data

AI Girlfriends Stealing Personal Data: आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस का इस्तेमाल कई वेबसाइट्स और ऐप में किया जा रहा है. हमारी रोजमर्रा की जिंदगी से भी AI अछूता नहीं रह गया है. अगर डेटिंग ऐप्स की बात करें तो यहां पर लोग AI को लेकर ज्यादा एक्टिव दिखाई दे रहे हैं. कई ऐसी रिपोर्ट्स सामने आई हैं जिसमें कई लोग AI पार्टनर से काफी खुश हैं. वर्चुअल गर्लफ्रेंड या AI  गर्लफ्रेंड को लेकर लोग सीरियस नजर आ रहे हैं. 

शायद आपको भी AI गर्लफ्रेंड एक फैंटसी लगती हो जिसकी न तो कोई डिमांड होती है और न ही कोई इमोशनल अटैचमेंट. लेकिन कई बार यह फैंटसी काफी भारी पड़ जाती है. कई बार लोग AI को अपने सारे राज बता देते हैं क्योंकि उन्हें लगता है कि यहां से बात बाहर तो जाएगी नहीं. जबकि ऐसा नहीं है. 

मोजिला फायरफॉक्स ने एंड्रॉइड के लिए एंटी-ट्रैकिंग सिक्योरिटी सिस्टम जारी किया है. मोजिला ने हाल ही में 11 सबसे लोकप्रिय AI गर्लफ्रेंड्स पर स्टडी की है. इससे पता चला है कि AI गर्लफ्रेंड यूजर्स का पर्सनल डाटा चुराती हैं और फिर उन्हें ब्लैकमेल भी करती हैं. स्टडी में पता चला कि एक व्यक्ति को उसकी AI गर्लफ्रेंड ने सुसाइड करने के लिए प्रोत्साहित किया. इस मामले में व्यक्ति ने सुसाइड भी कर ली. ऐसे में AI गर्लफ्रेंड को खतरनाक या हानिकारक कहना गलत नहीं होगा. 

पर्सनल डाटा: AI गर्लफ्रेंड लोगों से बहला-फुसलाकर निजी डाटा मांगती हैं. ये यूजर्स को पहले इमोशनल करती हैं और उसके बाद सभी जानकारी हासिल कर लेती हैं. कई चैटबॉट तो खुद को मेंथल हेल्थ टूल या सॉफ्टवेयर की तरह दिखाती हैं और कहती हैं कि वो आपका मूड और मेंथल हेल्थ सही रखने में मदद करेंगी. इसमें EVA AI Chat Bot और Soulmate शामिल हैं. 

प्राइवेसी को खतरा: इस तरह के रोमांटिक चैटबॉट प्राइवेसी के मामले में सबसे खराब हैं. मोजिला ने अपने ब्लॉग में कहा कि कोई भी चैटबॉट आपका निजी डाटा सुरक्षित नहीं रखता है. इनमें से 90 फीसद चैटबॉट मिनिमम सिक्योरिटी स्टैंडर्ड में फेल हो गए  हैं. इस तरह की ऐप्स आपकी निजी जानकारी को कभी भी लीक कर सकती हैं. इनमें से ज्यातार ऐप्स यह दावा करती हैं कि ये यूजर डाटा को बेचती हैं और विज्ञापन दिखाने में मदद करती हैं. 

जानकारी का इस्तेमाल हो सकता है आपके खिलाफ: जो कुछ भी लोग अपनी AI गर्लफ्रेंड को बताते हैं उस जानकारी का इस्तेमाल यूजर के खिलाफ ही किया जाता है. इनके जरिए यूजर्स को ब्लैकमेल किया जाता है और फिर उनसे फिरौती की मांग भी की जाती है. 

आपको करते हैं ट्रैक: जिस तरह के AI गर्लफ्रेंड आप पर नजर रखती है, उस तरह से कभी आपने भी आपने ह्यूमन पार्टनर पर नजर नहीं रखी होगी. रिपोर्ट के अनुसार, AI गर्लफ्रेंड हजारों तरीके से यूजर की डिवाइस की जानकारी हासिल करती है जिसमें पर्सनल जानकारी शामिल होती है जिसे थर्ड पार्टी एडवर्टाइजमेंट कंपनी को बेचा जाता है. कंपनी ने बताया कि ये ऐप्स यूजर का डाटा चुराने के लिए हर मिनट औसतन 2663 ट्रैकर्स का इस्तेमाल करते हैं.

कैसे बच सकते हैं:

  • सबसे पहले तो आपको ऐसी ऐप डाउनलोड ही नहीं करनी चाहिए.

  • अपने फोन का पासवर्ड मजबूत रखें. 

  • ऐप्स को हमेशा अपडेट रखें. 

  • अगर आप ऐसी ऐप डाउनलोड करते भी हैं तो आपको इसके इस्तेमाल के बाद अपना पर्सनल डाटा रिमूव कर देना होगा. 

  • AI मॉडल्स को ट्रेन करने के लिए पर्सनल चैट के कंटेंट के ऑप्शन से ऑप्ट-आउट करें. पर्सनल डाटा का न्यूनतम एक्सेस दें.