menu-icon
India Daily
share--v1

अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट में पहली बार हुई ट्रांसजेंडर खिलाड़ी की एंट्री, ICC ने दी हरी झंडी

Danielle Mcgahey: क्रिकेट की दुनिया में पुरुष और महिला के बाद अब ट्रांसजेंडर की भी एंट्री हो गई है. कनाडा की महिला टीम में शामिल होने वाले डेनियल मैकगाहे ने आईसीसी की सभी पात्रताओं पर खरी उतरी हैं.

auth-image
Suraj Tiwari
अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट में पहली बार हुई ट्रांसजेंडर खिलाड़ी की एंट्री, ICC ने दी हरी झंडी

नई दिल्ली : क्रिकेट की दुनिया में पुरुष और महिला के बाद अब ट्रांसजेंडर की भी एंट्री हो गई है. कनाडा की महिला टीम में शामिल होने वाले डेनियल मैकगाहे ने आईसीसी की सभी पात्रताओं पर खरी उतरी हैं. कनाडा और अमेरिका के बीच अगले महीने होने वाले 2024 टी20 विश्वकप क्वालीफायर मैच में डेनियल कनाडा की महिला टीम की ओर से प्रतिनिधित्व करेंगी.

आईसीसी के नियमों पर खरी उतरी मैकगाहे

साल 2020 से पहले कनाडा महिला टीम में शामिल होने वाली खिलाड़ी डेनियल मैकगाहे पुरुष थी. इसके बाद से वो मेडिकल प्रक्रिया के तहत महिला बनी हैं. आईसीसी द्वारा 2018 में जारी नियमों के अनुसार अगर कोई ट्रांस महिला को अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट खेलना है तो उसे अपने खून में टेस्टोस्टोरान का स्तर कम से कम 12 महीने तक 5 नैनोमोल प्रति लीटर से कम रखना होगा. डेनियल आईसीसी के इस नियम पर खरी उतरी है जिसके बाद उनको कनाड़ा की महिला टीम में शामिल करने की हरी झंडी मिली है.

मैकगाहे आईसीसी के आदेश पर हैं खुश

कनाडा की महिला टीम में शामिल होने वाली पहली ट्रांस जेंडर खिलाड़ी डेनियल मैकगाहे ने मीडिया को बताया कि आईसीसी से आदेश मिलने के बाद मैं अपने को गौरवान्वित महसूस कर रही हूं. अपने समुदाय का प्रतिनिधित्व करना मेरे लिए सपना सच होने जैसा है. इसके साथ ही उन्होंने कहा, "अपने टेस्टोस्टेरोन का स्तर पता करने के लिए मैंने पिछले दो साल से हर महीने खून की जांच कराई है. क्रिकेट खेलते समय इतनी यात्रा करनी होती है कि यह थोड़ा मुश्किल था. मुझे इस बात पर फक्र है, सिर्फ अपने लिए नहीं बल्कि ट्रांसजेंडर समुदाय के लिए कि मैं उनका प्रतिनिधित्व कर रही हूं."

ऑस्ट्रलिया में जन्मी हैं डेनियल मैकगाहे

ऑस्ट्रेलिया में जन्मी डेनियल मैकगाहे महिला टी20 विश्व कप क्वालीफायर में कनाडा का प्रतिनिधित्व करते हुए अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट में खेलने वाली पहली ट्रांसजेंडर महिला बनने के लिए तैयार हैं. 29 वर्षीय सलामी बल्लेबाज फरवरी 2020 में कनाडा चली गईं और मई 2021 में अपना मेडिकल प्रकिया शुरू करने से पहले नवंबर 2020 में सामाजिक रूप से एक महिला के रूप में पहचान बनाना शुरू कर दिया था.

इसे भी पढ़ें-  IND vs PAK: भारत-पाकिस्तान मैच में इन खिलाड़ियों पर दांव लगा जीत सकते हैं करोड़ों, ऐसे रखें अपनी फैंटेसी 11