menu-icon
India Daily
share--v1

Yasin Malik Wife: यासीन मलिक की तरह ही जहर उगलती हैं उनकी पाकिस्तानी बीवी, जानें कौन हैं 'हुस्न परी' मुशाल हुसैन?

Who Is Mushaal Hussein Mullick: जम्मू-कश्मीर के अलगाववादी नेता यासीन मलिक को दो मामलों में उम्रकैद और 5 मामलों में 10 साल की सजा मिली है. वहीं उस बचाने के लिए उसकी पाकिस्तानी बीवी ने सारे जोर लगा लिए हैं. आइये जानते हैं कौन हैं मुशाल हुसैन.

Srishti Srivastava
Courtesy: mushaal hussein mullick###Yasin Malik

जम्मू-कश्मीर में अलगाववाद का चेहरा रहा यासीन मलिक भारत के तिहाड़ जेल में उम्रकैद की सजा भुगत रहा है. यहां उसे मौत की सजा भी दी जा सकती है. वहीं, यासिन की बीवी उसे बचाने के लिए एड़ी-चोटी का जोर लगा रही है.

जम्मू-कश्मीर में अलगाववाद का चेहरा रहा यासीन मलिक भारत के तिहाड़ जेल में उम्रकैद की सजा भुगत रहा है. यहां उसे मौत की सजा भी दी जा सकती है. वहीं, यासिन की बीवी उसे बचाने के लिए एड़ी-चोटी का जोर लगा रही है.

Courtesy: mushaal hussein mullick###Yasin Malik

यासीन मलिक जम्मू-कश्मीर लिबरेशन फ्रंट का अगुआ था. लगभग डेढ़ दशक पहले यासीन राजनीति करने पाकिस्तान गया और, वहां एक लड़की को दिल दे बैठा.

यासीन मलिक जम्मू-कश्मीर लिबरेशन फ्रंट का अगुआ था. लगभग डेढ़ दशक पहले यासीन राजनीति करने पाकिस्तान गया और, वहां एक लड़की को दिल दे बैठा.

Courtesy: mushaal hussein mullick###Yasin Malik

पाकिस्तान में यासीन को जिस लड़की से उसे प्यार हुआ, वो मुशाल हुसैन ही थी. लंदन में पढ़ी-बढ़ी मुशाल उम्र में यासीन से 20 साल छोटी थी, लेकिन वह भी यासीन के भाषण की मुरिद थीं.

पाकिस्तान में यासीन को जिस लड़की से उसे प्यार हुआ, वो मुशाल हुसैन ही थी. लंदन में पढ़ी-बढ़ी मुशाल उम्र में यासीन से 20 साल छोटी थी, लेकिन वह भी यासीन के भाषण की मुरिद थीं.

Courtesy: mushaal hussein mullick###Yasin Malik

दोनों ने 2009 में लव मैरिज की थी. उनके रिश्ते के पाकिस्तान में काफी चर्चे हुए थे. दरअसल, मुशाल पाकिस्तान के एक रसूखदार राजनीतिक परिवार से ताल्लुक रखती है. उसकी मां रेहाना पाकिस्तानी मुस्लिम लीग (नवाज) की महिला विंग की महासचिव रह चुकी हैं.

दोनों ने 2009 में लव मैरिज की थी. उनके रिश्ते के पाकिस्तान में काफी चर्चे हुए थे. दरअसल, मुशाल पाकिस्तान के एक रसूखदार राजनीतिक परिवार से ताल्लुक रखती है. उसकी मां रेहाना पाकिस्तानी मुस्लिम लीग (नवाज) की महिला विंग की महासचिव रह चुकी हैं.

Courtesy: mushaal hussein mullick###Yasin Malik

बता दें कि पाकिस्तान की रहने वाली मुशाल हुसैन ने अपने शौहर यासीन मलिक को बचाने के लिए पाकिस्तानी सरकार से गुहार लगाई है. मुशाल ने दावा किया है कि भारत में उसके शौहर को फांसी दी जा सकती है. उसका कहना है कि इंडिया की जेल में यातनाओं के कारण यासीन की तबियत काफी खराब रहती है.

बता दें कि पाकिस्तान की रहने वाली मुशाल हुसैन ने अपने शौहर यासीन मलिक को बचाने के लिए पाकिस्तानी सरकार से गुहार लगाई है. मुशाल ने दावा किया है कि भारत में उसके शौहर को फांसी दी जा सकती है. उसका कहना है कि इंडिया की जेल में यातनाओं के कारण यासीन की तबियत काफी खराब रहती है.

Courtesy: mushaal hussein mullick###Yasin Malik

बता दें कि मुशाल पाकिस्तान में पीस एंड कल्चर ऑर्गनाइजेशन की अध्यक्ष है. उसने लाहौर के जिन्ना हाउस में मीडिया के समक्ष अपने शौहर के बारे में बात करते हुए इंडियन एजेंसी NIA को लेकर काफी कुछ कहा था.

बता दें कि मुशाल पाकिस्तान में पीस एंड कल्चर ऑर्गनाइजेशन की अध्यक्ष है. उसने लाहौर के जिन्ना हाउस में मीडिया के समक्ष अपने शौहर के बारे में बात करते हुए इंडियन एजेंसी NIA को लेकर काफी कुछ कहा था.

Courtesy: mushaal hussein mullick###Yasin Malik

मुशाल मलिक ने कहा, 'मैं पाकिस्तानी हुकूमत से अपील करती हूं कि मेरे शौहर को बचाने के लिए आगे आएं. उन्हें इंडिया में फांसी दी जा सकती है.' मुशाल ने अनुसार इंडिया में ह्यूमन राइट्स वॉयलेशन हो रहा है और मुस्लिमों पर जुल्म ढहाए जाते हैं.

मुशाल मलिक ने कहा, 'मैं पाकिस्तानी हुकूमत से अपील करती हूं कि मेरे शौहर को बचाने के लिए आगे आएं. उन्हें इंडिया में फांसी दी जा सकती है.' मुशाल ने अनुसार इंडिया में ह्यूमन राइट्स वॉयलेशन हो रहा है और मुस्लिमों पर जुल्म ढहाए जाते हैं.

Courtesy: mushaal hussein mullick###Yasin Malik

मुशाल ने इस दौरान भारतीय प्रधानमंत्री का नाम लेकर गीदड़भभकी भी दी. उसने कहा- 'मैं इंडिया के वजीर ए आजम मोदी को बताना चाहती हूं कि कोई भी कश्मीरी मौत से नहीं डरता.'

मुशाल ने इस दौरान भारतीय प्रधानमंत्री का नाम लेकर गीदड़भभकी भी दी. उसने कहा- 'मैं इंडिया के वजीर ए आजम मोदी को बताना चाहती हूं कि कोई भी कश्मीरी मौत से नहीं डरता.'

Courtesy: mushaal hussein mullick###Yasin Malik

बता दें कि यासीन मलिक को पिछले साल 25 मई को NIA कोर्ट ने टेरर फंडिंग केस में उम्रकैद की सजा सुनाई थी. यासीन उन 5 आतंकवादियों में से एक है, जिन्होंने 1989 में कश्मीर की आजादी के लिए अभियान शुरू किया था.

बता दें कि यासीन मलिक को पिछले साल 25 मई को NIA कोर्ट ने टेरर फंडिंग केस में उम्रकैद की सजा सुनाई थी. यासीन उन 5 आतंकवादियों में से एक है, जिन्होंने 1989 में कश्मीर की आजादी के लिए अभियान शुरू किया था.