menu-icon
India Daily
share--v1

दुनिया में तेजी से फैल रही 14 साल पहले आई ये बीमारी, जान लीजिए इसके बारे में नहीं तो हो सकते हैं शिकार

Candida Auris: दुनिया में यह बीमारी तेजी के साथ फैल रही है. बताया जा रहा है कि बढ़ते तापमान की वजह से ये फंगल अपने आपको और मजबूत बना सकता है.

auth-image
Gyanendra Tiwari
दुनिया में तेजी से फैल रही 14 साल पहले आई ये बीमारी, जान लीजिए इसके बारे में नहीं तो हो सकते हैं शिकार

नई दिल्ली.  दुनिया में कई तरह की बीमारियां होती है. आपने कई बीमारियों के बारे में सुना होगा कइयों के बारे में नहीं. बीमारी को महामारी बनते देर नहीं लगती. एक ऐसी ही बीमारी फिर से फैल रही है. इसे 2009 से पहले नहीं देखा गया था. इसका नाम है कैंडिडा ऑरिस.

यह भी पढ़ें- International Tiger Day आज, जानें भारत में अभी कितनी है बाघों की संख्या; क्या आपने की है इन टाइगर रिजर्व्स की सैर

रिपोर्ट्स के मुताबिक वर्ष 2016 में अमेरिका के न्यूयॉर्क के अस्पतालों में एकाएक एक ही तरह की बीमारी से ग्रसित लोग आने लगे थे. बताया जाता है कि यह एक फंगल इंफेक्शन है. इसके आने से शोधकर्ताओं में अफरा-तफरी मच गई थी.

कैंडिडा ऑरिस है बेहद खतरनाक
रिपोर्ट्स की मानें तो यह एक खतरनाक बीमारी है. 2009 से पहले यह बीमारी इंसानों को हुई ही नहीं थी. इसकी वजह से रोगी बहुत कमजोरो हो जाता है, जिसके चलते उसका रक्त संचार बहुत धीमा हो जाता है. और इससे सांस का इंफेक्शन भी हो जाता है. इस बीमारी से पीड़ित होने वाले 60 फीसदी लोगों की मौत हो सकती है.
2022 में अमेरिका के नेवादा और कैलिफॉर्निया में इसके सबसे ज्यादा मरीज पाए गए थे. न्यूयॉर्क में अभी भी इसके काफी ज्यादा मामले सामने आ रहे हैं. पिछले साल अमेरिका में इसके 2377 मामले सामने आए थे.

14 साल पहले तीन महाद्वीपों में
रिपोर्ट्स की मानें तो यह फंगल इंफेक्शन 14 साल पहले इंसानों पर एक-एक तीन महाद्वीपों में एक साथ पाया गया. वेनेजुएला, भारत और दक्षिण अफ्रीका में इस फंगल के मामले पाए गए थे. इस बीमारी के बारे में जॉन्स हॉपकिंस यूनिवर्सिटी में प्रोफेसर डॉ. आर्तुरो कासाडेवाल बताते हैं कि तीन अलग-अलग महाद्वीपों में इस संक्रमण का पाया जाना हैरान कर देने वाला है. क्योंकि तीनों जगह जलवायु एक-दूसरे से भिन्न है.

वैश्विक बीमारी बन रही कैंडिडा ऑरिस

कैंडिडा ऑरिस को लेकर पिछले साल यूरोप में हुए एक सर्वे में पाया गया कि 2020 से 2021 के बीच इस बीमारी के मामलों की संख्या दोगुनी हो गई थी. वैज्ञानिकों का कहना है कि आने वाले समय में यह बीमारी वैश्विक स्तर पर महामारी का भी रूप ले सकती है. क्योंकि वैश्विक तापमान में बढ़ोतरी दर्ज हो रही है. ऐसे में मौजूद फंगस तापमान के हिसाब से अपने आपको गढ़ सकता है.

यह भी पढ़ें- उम्र बढ़ने से क्यों कमजोर हो जाती है हमारी याददाश्त, रिसर्च में पता चला कारण