menu-icon
India Daily
share--v1

जिन्होंने लगवाई कोविड की वैक्सीन उनकी हो रही जल्दी मौत? रिसर्च में अब हो गया दूध का दूध और पानी का पानी       

Covid 19 Vaccine: कोविड 19 महामारी के बाद मृत्यु दर में बढ़ोतरी हुई है. हाल ही में पब्लिक हेल्थ में प्रकाशित हुए शोध में कई बड़े खुलासे हुए हैं. अध्ययन में पाया गया कि यूएसए और अफ्रीकी देशों में कोविड महामारी के बाद से मृत्यु दर में इजाफा हुआ है.

auth-image
India Daily Live
covid 19 vaccine
Courtesy: Social Media

Covid 19 Vaccine: महामारी कोविड 19 की वैक्सीन लगवाने वाले से जुड़ी एक खबर सामने आई है. कोविड की वैक्सीन लगवाने वाले लोगों में मौत का खतरा अधिक बढ़ा है. ऐसा हम नहीं बल्कि हाल ही में आई एक रिसर्च रिपोर्ट कह रही है. बीते महीने वैक्सीन बनाने वाली ब्रिटेन की एस्ट्राजेनेका ने कोर्ट में इस बात को कबूला था कि उसकी वैक्सीन लगाने वालों में खून के थक्के जमने का खतरा है. इस बात के बाद पूरी दुनिया में कोविड वैक्सीन पर सवालिया निशान उठने लगे थे. अब हाल ही कोविड से जल्दी होने वाली मौत वाली रिसर्च ने फिर से एक बार दुनिया को सदमे में डाल दिया है.

इस रिसर्च को बीएमजे पब्लिक हेल्थ में पब्लिश किया गया है. इस रिसर्च में वैज्ञानिकों ने कोविड वैक्सीन के बाद हुई मौत का अध्ययन किया और इस निष्कर्ष पर पहुंचे कि कोविड वैक्सीन से मरने वालों की संख्या में इजाफा हुआ है.    

कोविड के बाद 47 पश्चिमी देशों में मृत्यु दर में इजाफा

वैज्ञानिकों ने 47 पश्चिमी देशों में कोविड महामारी के बाद वैक्सीन लगवाने के बाद हुई मौतों का अध्ययन किया. अध्ययन के आधार पर उन्होंने एक रिपोर्ट तैयार की. कोविड संक्रमण को रोकने व्यापक उपाय के बावजूद 2020 से डेथ रेट में बढ़ोतरी हुई है.

वैज्ञानिकों ने अपने शोध में कहा वैक्सीन की वजह से अमेरिका समेत कई पश्चिमी देशों में हुई मौतों के मामले में इजाफा हुआ है. न्यूयॉर्क टाइम्स की एक रिपोर्ट के अनुसार नीदरलैंड की  ब्रीजे विश्वविद्यालय के शोधार्थियों ने अपनी एक रिसर्च में पाया था कि कोविड वैक्सीन लगाने वाले लोगों में गंभीर समस्या के अलावा मरने के अधिक मामले पाए गए हैं.

इन देशों में बढ़ी मृत्यु दर

कोविड 19 टीके की वजह से अलग-अलग देशों में हो रही मौतों की दर अलग-अलग है. रिसर्च की मानें तो यूरोप, अमेरिका और ऑस्ट्रेलिया में 2020 में 30 लाख से अधिक लोगों की मौत हुई. 2021 में 12 और 2022 में 8 लाख लोगों की मौत हुई.