share--v1

Period Blood Colour: रेड, ब्राउन या ब्लैक.. इन बीमारियों का संकेत देते हैं पीरियड ब्लड

Period Blood Colour Meaning: पीरियड्स साइकल से जुड़ी ऐसी कई बाते हैं, जिन्हें महिलाएं इग्नोर कर देती हैं. इनमें एक अहम मुद्दा है पीरियड ब्लड का रंग, जो बताता है कि किसी महिला का शरीर कितना स्वस्थ है.

auth-image
Srishti Srivastava
फॉलो करें:

Period Blood Colour Meaning: पीरियड, महिलाओं के बायोलॉजिकल क्लॉक का एक जरूरी हिस्सा है. आमतौर पर किसी भी महिला को 12 से 14 साल की उम्र में पीरियड आ जाते हैं. हालांकि, आजकल के दौर में कम उम्र में की लड़कियां भी पीरियड का दर्द झेल रही हैं. पीरियड का मासिक चक्र 21 से 35 दिन का होता है. वहीं बात करें पीरियड ब्लड के कलर की तो कई कारणों से इनमें बदलाव आता है. ज्यादातर महिलाएं ब्लड कलर, ब्लड फ्लो और पीरियड से जुड़े दूसरे बदलाव को इग्नोर करती हैं लेकिन डॉक्टर भी कहते हैं कि पीरियड से जुड़ी किसी भी बदलाव को कभी हल्के में नहीं लेना चाहिए, क्योंकि इसका सीधा संबंध आपके स्वास्थ से जुड़ा हो सकता है.

यह भी पढ़ें- Parineeti Raghav Wedding Inside Photos: राघव की हुईं परिणीति.. शादी की रश्मों में बज रहा ये गाना, देखें इनसाइड फोटोज

पीरियड ब्लड के बदलते रंग के क्या हो सकते हैं कारण?

एक्सपर्ट्स के अनुसार, हर महीने हार्मोन चेंज होने की वजह से ब्लड का टेक्सचर और कलर बदलता रहता है. ब्लड के कलर में बदलाव महिला की डाइट, उम्र, लाइफस्टाइल और वातावरण पर भी डिपेंड करता है. हालांकि, इन्फेक्शन, प्रेगनेंसी और कुछ चुनिंदा केसस में सर्वाइकल कैंसर की वजह से खून के रंग में बदलाव और अनियमित ब्लीडिंग की समस्या होती है.

यह भी पढ़ें- 1 लाख में बिका था इस एक्ट्रेस का जूठा सेब!

पीरियड ब्लड के किस रंग का क्या मतलब होता है?

1. गाढ़ा लाल रंग
पीरियड ब्लड का गाढ़ा लाल रंग होना हेल्दी पीरियड की तरफ इशारा करता है. ऐसा रंग पीरियड के शुरुआती दिनों में देखा जा सकता है. इसे फ्रेश फ्लो या ताजा खून भी कहते हैं.

2.भूरा रंग
अगर पीरियड की शुरुआत में ही ऐसा महसूस होता है कि ब्लीडिंग खत्म होने वाली है तब इसका रंग भूरा या काला दिखने लगता है तो यह ऑक्सीजन की कमी के कारण होता है. हालांकि, ऐसा प्रेग्नेंसी में भी होता है. ऐसे में खून पतला और वेजाइनल डिसचार्ज के साथ नजर आता है. इस दौरान सामान्य धब्बे पानी के खून की तरह दिख सकते हैं.

यह भी पढ़ें- Diabetes Diet: अगर हैं डायबिटीज के मरीज तो भूलकर भी न खाएं ये चीज, आफत में पड़ सकती है जान

3.पिंक ब्लड
पिंक ब्लड को स्पॉटिंग भी कहते हैं. आमतौर पर ऐसा तब होता है जब पीरियड ब्लड सर्वाइकल फ्लूइड के साथ मिल जाए. हार्मोनल बर्थ कंट्रोल खाने से शरीर में एस्ट्रोजन का लेवल कम हो जाता है, जिससे पीरियड्स के दौरान गुलाबी रंग के साथ हल्का फ्लो आता है.

4.ऑरेंज ब्लड
पीरियड ब्लड ऑरेंज कलर का तब दिखता है जब सर्वाइकल फ्लूइड के साथ पीरियड्स ब्लड मिक्स हो जाए. पीरियड का ये रंग बैक्टीरियल वेजिनोसिस या ट्राइकोमोनिएसिस इन्फेक्शन का भी संकेत देते हैं. ऐसे में महिलाओं को खुजली, बेचैनी और दुर्गंधयुक्त स्राव की समस्या होती है.

यह भी पढ़ें- Missed Periods: प्रेग्नेंसी ही नहीं, इन 5 जानलेवा कारणों से भी रुक जाते हैं पीरियड्स

5.ग्रे ब्लड
ग्रे ब्लड सीधे तौर पर बैक्टीरियल वेजिनोसिस का संकेत है. यह प्राइवेट पार्ट में बैक्टीरिया के बीच बैलेंस बिगड़ने के कारण होता है. अगर आपमें भी ऐसे ही कुछ लक्षण दिखाई दे रहे हैं तो डॉक्टर से सलाह जरूर लें.

6.ब्लैक ब्लड
ब्लैक पीरियड ब्लड पीरियड की शुरुआत या अंत के दिनों में दिखाई देते हैं. दरअसल, शरीर में पुराने या रुके हुए ब्लड काले पड़ जाते हैं. ब्लैक ब्ल्ड से घबराने की कोई बात नहीं है. 

Disclaimer: यहां दी गई सभी जानकारी सामान्य मान्यताओं और जानकारियों पर आधारित है. theindiadaily.com इन मान्यताओं और जानकारियों की पुष्टि नहीं करता है. किसी भी जानकारी को अमल में लाने से पहले संबंधित विशेषज्ञ से सलाह ले लें.

First Published : 24 September 2023, 09:48 PM IST