menu-icon
India Daily
share--v1

डाइट कम करके नहीं, ये चीजें खाकर कम हो सकता है वजन, आज ही जान लीजिए क्यों हैं खास

Fiber Food Benefits: इन दिनों मोटापे की समस्या हर उम्र के लोगों को परेशान कर रही है. छोटे-छोटे बच्चों से लेकर बड़े-बूढ़े भी मोटापे की वजह से होने वाली बीमारियों का सामना कर रहे हैं.

auth-image
India Daily Live
Fat
Courtesy: Social Media

आज के युग में मोटापा बीमारी का सबसे बड़ा कारण है. लोग मोटापे से निजात तो पाना चाहते लेकिन कहीं न कहीं व्यस्त जीवन शैली और अच्छा खानपान न होने की वजह से शरीर खराब होता जा रहा है. समय कम होने के कारण लोग समय पर वर्कआउट भी नहीं कर पाते हैं. शरीर में चर्बी जमा होने का आम कारण अनहेल्दी फूड, शराब, सिगरेट और जंक फूड है. यही वे मूल तत्व हैं, जिनकी वजह से शरीर में चर्बी बढ़ती है. साथ ही धीरे-धीरे आपकी शरीर में विभिन्न प्रकार के रोग उत्पन्न होने लगते हैं. 

वर्ल्ड हेल्थ ऑर्गेनाइजेशन की 2022 की रिपोर्ट के मुताबिक, दुनिया में हर सातवां व्यक्ति मोटापे का शिकार है. इस श्रेणी में 37 मिलियन से ज्यादा लोग शामिल हैं. आकड़ों के मुताबिक मोटापे की निम्नतम आयु सीमा पांच साल है और इससे कम उम्र के बच्चे भी इसमें शामिल हैं. ऐसे में यदि आप भी मोटापा का सामना कर रहे हैं और इससे छुटकारा पाना चाहते हैं तो खाने में फाइबर फूड्स को जरूर शामिल कर लें.

फाइबर युक्त फूड किसे कहते हैं?

फाइबर, जिसे आहार फाइबर के रूप में भी जाना जाता है, एक प्रकार का कार्बोहाइड्रेट है जो प्लांट बेस्ड फूड आइटम में पाया जाता है. इसे मानव शरीर पूरी तरह से पचा नहीं सकता है. जिसके कारण बॉडी में फैट नहीं जमा होता है. साथ ही, इसकी मदद से कब्ज से राहत, ब्लड प्रेशर और शुगर आसानी से रेगुलेट होती है.

कौन-कौन से हैं फाइबर युक्त फूड?

फाइबर युक्त फूड वही हैं, जिन्हें आप आमतौर पर कुछ इस प्रकार जानते होंगे जैसे केला, सेब, ओट्स, ब्रोकली, दाल, राजमा, काबूली चना, चिया सिड्स, गाजर, आटा. ये फूड फाइबर के साथ ही हाई प्रोटीन युक्त होते हैं. अगर आप ऐसे फूड्स का सेवन करते हैं तो जाहिर सी बात है कि आप का शरीर स्वस्थ्य और निरोग बना रहेगा.

24 घंटे में कितना फाइबर खाना चाहिए ?

रिर्सच के अनुसार, एक दिन में 18 वर्ष से ऊपर की महिलाओं को 25 और पुरुषों को 38 ग्राम फाइबर की मात्रा शरीर के लिए सबसे अच्छी और सुचारु मानी जाती है.

नोट- यह लेख सामान्य जानकारी पर आधारित है, अपनी डाइट में बदलाव के लिए विशेषज्ञों की राय जरूर लें.