menu-icon
India Daily
share--v1

उम्र बढ़ते ही क्यों चेहरे पर पड़ने लगती हैं झुर्रियां, कैसे आ जाता है बुढ़ापा? सुलझ गई गुत्थी

Causes Of Early Ageing: वैज्ञानिकों के मुताबिक कुछ ऐसे फैक्ट्स हैं जिसकी वजह से इंसान का शरीर जल्दी बूढ़ा हो जाता है. आइए इस विषय के बारे में विस्तार से जानते हैं. 

auth-image
India Daily Live
 Cause Of Aging
Courtesy: Freepik

Cause Of Aging: हर कोई खुद को जवान और सुंदर देखना चाहता है. लेकिन जैसे-जैसे उम्र बढ़ने लग जाती है इंसान के चेहरे पर झुर्रियां नजर आने लगती है और धीरे-धीरे बूढ़ा होने लगता है. क्या आपने कभी सोचा है कि इंसान बूढ़े क्यों होते हैं. चलिए जानते हैं इसके पीछे का कारण क्या है. 

वैज्ञानिकों के अनुसार, जल्दी बूढ़े होने का एक कारण धूल-मिट्टी और प्रदूषण है. जब आपका शरीर धूल-मिट्टी और प्रदूषण के संपर्क में आता है तो त्वचा को नुकसान पहुंचता है. वैज्ञानिकों के मुताबिक कुछ ऐसे फैक्ट्स हैं जिसकी वजह से इंसान का शरीर जल्दी बूढ़ा हो जाता है. आइए इस विषय के बारे में विस्तार से जानते हैं. 

माइटोकॉन्ड्रिया सिस्टम में गिरावट

माइटोकॉन्ड्रिया को साइंस की भाषा में शरीर का पावर हॉउस कहा जाता है. यह सेल्स के काम को कंट्रोल करने में मदद करता है. माइटोकॉन्ड्रिया सिस्टम में गिरावट आ जाए तो शरीर के फंक्शन में गिरावट हो जाती है. 

टेलीमियर की मात्रा कम होना 

सेल्स के DNA के अंदर मिलने वाले क्रोमोसोम के सिर पर टेलिमियर नाम क सुरक्षा कवच पाया जाता है. जब सेल्स में  टेलीमियर मात्रा कम होने लगती है तो शरीर बूढ़ा होने लगता है और चेहरे पर झुर्रियां आना, बाल झड़ना जैसी परेशानी का सामना करना पड़ता है.

स्टेम सेल 

स्टेम सेल वो सेल्स होते हैं जो कई तरह के सेल्स को बांटने में मदद करता है. स्टेम सेल रिपेयर सिस्टम की तरह काम करती हैं. उम्र बढ़ने के साथ-साथ इनका रेप्लिकेशन कम हो जाता है जिसके कारण आपकी शरीर की हड्डियां मजबूत नहीं रहती है और घुटने-कमर में दर्द के शिकायत होने लगती है. 

स्टेम सेल नष्ट होना

खराब लाइफस्टाइल और खाना के कारण स्टेम सेल जल्दी नष्ट होने लगते हैं. जिसकी वजह से सेल्स को बीमारियों से लड़ने में परेशानी होती है और इंसान जल्दी बूढ़े हो जाते हैं. इसलिए इंसान को हेल्दी लाइफ अपनाना चाहिए. 

सेल्स के फंक्शन में गिरावट

जैसे-जैसे उम्र बढ़ने लगती है सेल्स के फंक्शन में गिरावट आने लगती है. जिसके कारण वह पहले की तरह सही प्रोटीन को पहचान नहीं पाते हैं. ऐसे में जहरीले या खराब प्रोटीन शरीर में आने लगते हैं और मेटाबॉलिक एक्टिविटी जरूरत से ज्यादा तेज हो जाती है. इसके वजह से इंसान में बुढ़ापे के लक्षण नजर आने लगते हैं.