menu-icon
India Daily
share--v1

FD तुड़वाकर लेना पड़ेगा ये आम, आखिर क्यों है इतना महंगा, खासियत जान लीजिए

Most Expensive Mango: मियाजाकी आम दुनिया के सबसे महंगे फलों में से एक माना जाता है. इस नाम की कीमत लगभग ₹2.5 लाख प्रति किलोग्राम है. यह दिखने में लाल या बैंगनी रंग का होता है.

auth-image
India Daily Live
Miyazaki Mango Price
Courtesy: Pinterest

Miyazaki Mango Price: गर्मी में भले ही टेंपरेचर बढ़ने से लोगों की हालत खराब हो जाती है लेकिन फिर भी कई लोग गर्मी का बेहद इंतजार करते हैं. इसके सबसे बड़ी वजह कुछ और नहीं 'आम' है. आम भारत में सभी लोगों के बीच सबसे पसंदीदा फल है. आम स्वाद में मीठे और रसीले होते हैं. आमतौर पर बाजार में 1 किलो आम 100 रुपये किलो मिल जाते हैं. लेकिन क्या आपको पता है दुनिया में एक ऐसा आम भी है जिसके खरीदने के लिए आपको FD भी तुड़वानी पड़ सकती है. 

भारत में 100 से ज्यादा प्रकार के आम मिलते हैं. इनमें से भारतीय किसान जापान के मियाजाकी आम भी उगा रहे हैं. यह नाम दुनिया के सबसे महंगे फलों में से एक माना जाता है. मियाजाकी आम की एक दुर्लभ किस्म है जो लाल या बैंगनी रंग की होती है.

मियाजाकी आम की कीमत

आमतौर पर सामान्य आम की कीमत लगभग ₹100 से ₹200 प्रति किलो होती है. हालांकि, इस जापानी किस्म के फल, जो भारत के कुछ हिस्सों में भी उगाया जाता है उसकी कीमत लगभग ₹2.5 लाख प्रति किलोग्राम है. मियाजाकी आम भारत के कुछ खेतों में उगाया जाता है और यह जापान में सबसे फेमस फलों में से एक है. पिछले साल, मियाजाकी आम को सिलीगुड़ी और रायपुर में एक मैंगो फेस्टिवल में प्रेसेंट किया गया था. 

मियाजाकी आम कहां से आया

आमतौर पर आम जापान में उगाए जाते हैं. फल की बड़े पैमाने पर खेती 1970 में शुरू हुई. आम की इस किस्म की मलाईदार बनावट, स्वादिष्ट खुशबू और रसदार गूदे ने इसे जापान में सबसे फेमस फलों में से एक बना दिया है. सामान्य आमों की तुलना में मियाजाकी आमों की भरपूर मिठास से भरा होता है. मियाजाकी आम जहां ज्यादा धूप होती है वहीं उगाए जाते हैं.

पहली बार कब उगाया था?

यह दुर्लभ आम जापान के मियाजाकी शहर में उगाए जाते हैं. यह शहर अपने गर्म मौसम और धूप के लिए जाना जाता है. इस फल के अलावा जो शहर में भारी मात्रा में उगाए जाते हैं वे हैं ह्युगानात्सू, किंकन (कुमक्वैट), और लीची (Hyuganatsu, Kinkan and lychee). मियाज़ाकी आम का उत्पादन पहली बार 1984 में किया गया था. शहर में पहला आम का खेत 8 यूनिट के एक छोटे से खेत में था.