menu-icon
India Daily
share--v1

हीट स्ट्रोक से हो जाएं सावधान, खतरे की घंटी हैं ये लक्षण, बिल्कुल भी न करें लापरवाही

Signs Of Heat Stroke: गर्मी के मौसम में हीट स्ट्रोक होने से पहले कई लक्षण नजर आते हैं. इन लक्षण को नजरअंदाज करने से गंभीर स्वास्थ्य परिणाम का सामना करना पड़ सकता है. आइए जानते हैं हीट स्ट्रोक के कुछ लक्षण के बारे में.

auth-image
India Daily Live
Heat Stroke Symptoms
Courtesy: Freepik

Heat Stroke Symptoms: हीट स्ट्रोक एक गंभीर स्थिति है. यह तब होती है जब शरीर ज्यादा गर्म हो जाता है. आमतौर पर लंबे समय तक हाई टेंपरेचर के संपर्क में रहने से हीट स्ट्रोक का सामना करना पड़ सकता है. अगर शरीर का का तापमान 104°F (40°C) या इससे ज्यादा हो जाए और तुरंत इलाज न किया जाए तो गंभीर दिक्कतों का सामना करना पड़ सकता है.

हीट स्ट्रोक होने से पहले शरीर में कुछ लक्षण नजर आते हैं. इन लक्षणों को जल्दी पहचानने और व्यक्ति को ठंडा करके तुरंत डॉक्टर के सहायता लेने से गंभीर स्वास्थ्य परिणामों को रोका जा सकता है. ऐसे में आज हम आपको उन संकेतों के बारे में बताएंगे जो हीट स्ट्रोक का संकेत दे सकते हैं.

हाई टेंपरेचर

शरीर में पसीना आने से शरीर को ठंडक मिलने में मदद मिलती है. लेकिन पसीना नहीं आए तो शरीर का तापमान तेजी से बढ़ने लगता है. व्यक्ति को तुरंत ठंडे स्थान पर ले जाएं, शरीर से कपड़े हटा दें उनके शरीर का तापमान कम करने के लिए ठंडे पानी या बर्फ की पट्टी का उपयोग करें.

मानसिक स्थिति

गर्मी लगने की वजह से ब्रेन फंक्शन पर प्रभाव पड़ सकता है. जिसकी वजह से न्यूरोलॉजिकल संबंधी लक्षण नजर आते हैं. ऐसे में डॉक्टर से जरूर संपर्क करें. मेडिकल ट्रीटमेंट के दौरान व्यक्ति को जीतना शांत और ठंडा रखा जा सके रखें.

जी मिचलाना और उल्टी

शरीर का टेंपरेचर बढ़ने से पाचन तंत्र में दिक्कत आ सकती है,  जिससे गैस्ट्रोइंटेस्टाइनल संकट होता है. ऐसे में व्यक्ति को ठंडा और हाइड्रेटेड रखें. यदि वे होश में हैं और उल्टी नहीं कर रहे हैं तो उन्हें छोटे-छोटे घूंट पानी पिलाएं.

लाल त्वचा दिखना

शरीर को ठंडा करने के प्रयास में ब्लड वेसल फैल जाती हैं, जिससे त्वचा  लाल दिखाई देने लगती है. अगर कभी किसी व्यक्ति में ऐसे लक्षण नजर आए तो उसे  छायादार जगह में ले जाकर उनकी त्वचा पर गीला कपड़ा रखें या ठंडे पानी से स्नान करवाएं.

तेजी से सांस आना

बढ़ी रेस्पीरेशन के मदद से शरीर ठंडा होने का प्रयास करता है, जिससे हाइपरवेंटिलेशन हो सकता है. ऐसे में सुनिश्चित करें कि व्यक्ति ठंडे वातावरण में है और धीमी, गहरी सांस लेने के लिए कहें . यदि सांस लेने में कठिनाई बनी रहती है तो डॉक्टर से जरूर सहायता लें.

तेज दिल की धड़कन

त्वचा को ठंडा करने के लिए ब्लड को पंप करने के लिए दिल ज्यादा मेहनत करता है. व्यक्ति को ठंडे वातावरण में रखें और उनकी हार्ट रेट की निगरानी करें. यदि तेज दिल की धड़कन जारी रहती है तो डॉक्टर से जरूर सहायता लें.

Disclaimer: यहां दी गई सभी जानकारी सामान्य मान्यताओं और जानकारियों पर आधारित है.  theindiadaily.com  इन मान्यताओं और जानकारियों की पुष्टि नहीं करता है. किसी भी जानकारी को अमल में लाने से पहले संबंधित विशेषज्ञ से सलाह ले लें.