menu-icon
India Daily
share--v1

Hamas: हमास की जड़ें कितनी मजबूत, इन देशों का हासिल है समर्थन जो चाहता है इजरायल का खात्मा!

Israel War: इजरायल के मजबूत सुरक्षा व्यवस्था को ध्वस्त करने वाले आतंकी संगठन हमास के बारे में जानिए जो इजरायल के खात्मे के लिए तरह-तरह के प्रॉक्सी वॉर का सहारा लेता है.

auth-image
Shubhank Agnihotri
Hamas: हमास की जड़ें कितनी मजबूत, इन देशों का हासिल है समर्थन जो चाहता है इजरायल का खात्मा!

नई दिल्लीः फिलिस्तीनी आतंकी समूह हमास ने शनिवार को इजरायल पर अब तक का सबसे भयानक हमला कर दिया. दोनों के बीच भयानक जंग अब भी जारी है. इन हमलों में सैकड़ों लोगों की मौत हो गई तो कई हजार लोग घायल हुए हैं. शनिवार को हमास की ओर से वीडियो और तस्वीरें आई वह दिल दहला देने वाली थी. इन सबके इतर लोग यह जानना चाहते हैं आखिर यह हमास क्या है जिसने मजबूत इजरायली सुरक्षा कवच को तोड़ दिया.


फिलिस्तीनी आतंकी संगठन है हमास 


हमास एक फिलिस्तीनी आतंकी संगठन है. इसका गाजा पट्टी इलाके पर कब्जा है.हमास इजरायल को एक देश के रूप में मान्यता नहीं देता है. इसने इजरायल के खात्मे की शपथ ली है. 2007 में गाजा में सत्ता संभालने के बाद उसने कई युद्ध लड़े हैं. इनमें उसने इजरायल के ऊपर रॉकेट लॉन्चर मिसाइलों से हमले किए हैं. इजरायल ने भी इनका जवाब देने के एवज में हमला किया. इजरायल ने 2007 में ही मिस्र के साथ मिलकर अपनी सुरक्षा को सुनिश्चित करने के लिए गाजा पट्टी को ब्लॉक कर दिया.

हुआ इंतिफादा का एलान

हमास यानी इस्लामी प्रतिरोध आंदोलन की स्थापना साल 1987 के पहले फिलिस्तीनी इंतिफादा के दौरान हुई थी. इंतिफादा का मतलब होता है बगावत करना या विद्रोह करना.इसे ईरान का समर्थन प्राप्त है.यह आतंकी संगठन इजरायल का खात्मा करना चाहता है. अहमद यासीन ने हमास की स्थापना की थी और इजरायल के खिलाफ पहले इंतिफादा का एलान किया था.

इन देशों का हासिल है समर्थन 


हमास को मध्य पूर्व के प्रमुख देशों ईरान,कतर सीरिया, और लेबनान जैसे देशों से समर्थन हासिल है. इसे तुर्किये से फंडिंग मिलती है. यह सभी देश इस क्षेत्र में अमेरिका ऐऔर इजरायल की नीतियों का व्यापक तौर पर विरोध करते हैं. हमास हमेशा से ही इजरायल को मान्यता देने से इंकार करता रहा है. हमास को अमेरिका, कनाडा, ब्रिटेन, यूरोपीय संघ जापान के द्वारा एक आतंकवादी संगठन के तौर नामित किया गया है.

 

 

यह भी पढ़ेंः Afghanistan Earthquake: अफगानिस्तान में भूकंप से 2 हजार लोगों की मौत, जान-माल का भारी नुकसान