menu-icon
India Daily
share--v1

ट्रूडो ने भारत के खिलाफ उगला जहर, स्वास्तिक चिन्ह को बताया नफरत फैलाने वाला

Justin Trudeau: कनाडा के प्रधानमंत्री ने एक बार फिर से भारत के खिलाफ जहर उगला है. उन्होंने ताजा विवाद में हिंदुओं के स्वास्तिक चिन्ह को नफरत फैलाने वाला करार दिया है.

auth-image
Shubhank Agnihotri
ट्रूडो ने भारत के खिलाफ उगला जहर, स्वास्तिक चिन्ह को बताया नफरत फैलाने वाला

नई दिल्लीः कनाडा के प्रधानमंत्री ने एक बार फिर से भारत के खिलाफ जहर उगला है. उन्होंने ताजा विवाद में हिंदुओं के स्वास्तिक चिन्ह को नफरत फैलाने वाला करार दिया है.सोशल मीडिया प्लेटफार्म एक्स पर उन्होंने कहा कि हम नफरत फैलाने वाले चिन्हों को संसद में प्रदर्शित नहीं कर सकते हैं. उन्होंने कहा कि नफरत फैलाने वाले चिन्हों को हम संसद में प्रदर्शित करने की इजाजत नहीं दे सकते हैं.

संसद में प्रदर्शन की इजाजत नहीं 

ट्रूडो ने अपने ट्वीट में कहा कि जब हम घृणित भाषा और कल्पना को सुनते या महसूस करते हैं तो हमें इसकी निंदा करनी चाहिए. संसद में किसी भी शख्स के द्वारा स्वास्तिक का प्रदर्शन निंदनीय है इसे स्वीकार नहीम किया जा सकता है. कनाडा के लोगों को एक साथ शांतिपूर्ण तरीके से एकत्रित होने का अधिकार है. हम किसी प्रकार की यहूदी विरोध, इस्लामोफोबिया या नफरत को बर्दाश्त नहीं कर सकते हैं.

सोशल मीडिया पर हो रही आलोचना


सोशल मीडिया पर उनके ट्वीट की काफी आलोचना हो रही है. लोग कह रहे हैं कि स्वास्तिक चिन्ह पवित्रता का प्रतीक है वहीं नाजियों का हेकेनक्रूज नफरत और घृणा का प्रतीक है. कुछ दिन पहले ही ट्रूडो ने एक नाजी सैनिक को संसद में सम्मानित किया था. इसके बाद उनकी चारों ओर आलोचना हुई थी. इसके बाद ट्रूडो ने माफी मांगी थी और कनाडाई संसद के स्पीकर को इस्तीफा देना पड़ा था. 

 

यह भी पढ़ेंः India Canada Row: SFJ चीफ की धमकी के बाद एक्शन में भारत! कनाडा के सामने उठाएगा सुरक्षा का मसला