menu-icon
India Daily
share--v1

एलन मस्क की स्पेस एक्स का बड़ा कारनामा, चौथे एटेम्पट में स्टारशिप ने पास की अग्नि परीक्षा

SpaceX Starship: एलन मस्क की स्पेस एक्स ने चौथे प्रयास में स्टारशिप रॉकेट की टेस्टिंग में सफलता प्राप्त कर ली है. स्टारशिप को अंतरिक्ष में ले जाने के बाद वापस पृथ्वी में समुद्र पर सफलतापूर्वक लैंड कराया गया.

auth-image
India Daily Live
starship
Courtesy: Social Media

SpaceX Starship: एलन मस्क की कंपनी स्पेस एक्स ने बड़ा कारनामा कर दिखाया है. दुनिया के सबसे ताकतवर रॉकेट स्टारशिप ने चौथे एटेम्पट में सफलता प्राप्त कर ली है. स्टारशिप रॉकेट को पृथ्वी से शाम 6 बजकर 20 मिनट पर उड़ान भरी और अंत 1 घंटे पांच मिनट बाद हिंद महासागर में सफलतापूर्वक सॉफ्ट लैंडिंग की. अब पृथ्वी से अंतरिक्ष में जाना और भी आसान हो जाएगा. इससे पहले स्पेसएक्स के 3 अनसक्सेसफुल एटेम्पट भी रहे हैं.

स्पेस एक्स के रॉकेट स्टारशिप के चौथे एटेम्पट का प्रमुख लक्ष्य था कि इसे अंतरिक्ष में ले जाना और फिर वापस पृथ्वी में सफलतापूर्वक लैंड कराना. इस टेस्टिंग के जरिए स्पेसएक्स की टीम यह जानना चाह रही थी कि क्या पृथ्वी में एंट्री के दौरान सर्वाइव कर पाता है कि नहीं.

पानी में सफलतापूर्वक लैंड हुआ स्टारशिप

कंपनी ने सोशल मीडिया प्लेटफार्म एक्स पर इसके बारे में जानकारी देते हुए लिखा कि स्टारशिप के चौथी टेस्टिंग सफल होने पर स्पेसएक्स की टीम का बधाई. पानी में रॉकेट की लैंडिंग सफल रही .

कंपनी के मालिक एलन मस्क ने भी इस सफलता पर पूरी टीम को बधाई दी है. मस्क ने लिखा कि थोड़ा बहुत डैमेज होने के बावजूद स्टारशिप रॉकेट की समुद्र में सॉफ्ट लैंडिंग हुई.

100 लोगों को एक साथ मंगल ग्रह पर ले जा सकता है रॉकेट

स्टारशिप का यह रॉकेट पूरी तरह से रीयूजेबल है. अभी यह 150 मीट्रिक टन वजन ले जाने में सक्षम है. यह रॉकेट इंसानों को आसानी से मंगल ग्रह पर ले जा सकता है. रिपोर्ट के मुताबिक यह एक साथ 100 लोगों को मंगल ग्रह पर ले जा सकता है.

स्पेसएक्स का यह पूरा मिशन 1 घंटे पांच मिनट और 48 सेकेंड में पूरा हुआ. पहले स्टारशिप को स्पेस भेजा गया फिर वापस धरती के वायुमंडल में प्रवेश कराया गया.