menu-icon
India Daily
share--v1

North Korea News: हथियारों की सनक ने तानाशाह के देश को कर दिया दिवालिया, अब बंद कर रहा अपने विदेशी मिशन

North Korea News: उत्तर कोरिया अपनी दोस्ती चीन और रूस जैसे पारंपरिक दोस्तों से कर रहा है. मगर उसकी अर्थव्यवस्था फिर भी हिलोरें मार रही है. जापानी न्यूज आउटलेट योमीउरी शिमबुन की रिपोर्ट के अनुसार, यूगांडा, अंगोला, हांगकांग और स्पेन जैसे देशों में उत्तर कोरिया के दूतावास बंद हो गए हैं.

auth-image
Shubhank Agnihotri
North Korea News: हथियारों की सनक ने तानाशाह के देश को कर दिया दिवालिया, अब बंद कर रहा अपने विदेशी मिशन

North Korea News: उत्तर कोरिया अपनी दोस्ती चीन और रूस जैसे पारंपरिक दोस्तों से कर रहा है. मगर उसकी अर्थव्यवस्था फिर भी हिलोरें मार रही है. तानाशाह किम जोंग का देश पैसों की तंगी से जूझ रहा है. इसका असर अब उसके विदेशी मिशनों पर भी दिखने लगा है. जापानी न्यूज आउटलेट योमीउरी शिमबुन की रिपोर्ट के अनुसार, यूगांडा, अंगोला, हांगकांग और स्पेन जैसे देशों में उत्तर कोरिया के दूतावास बंद हो गए हैं. यहां काम करने वाले राजनयिकों और स्टाफ जल्द उत्तर कोरिया के लिए रवाना होने वाले हैं.

मिसाइल प्रोग्राम ने लगवाए प्रतिबंध

जापानी न्यूज आउटलेट के मुताबिक, जिन देशों में उसके दूतावास बंद हुए उन देशों के साथ उत्तर कोरिया के संबंध भी अच्छे थे. दरअसल, नॉर्थ कोरिया न्यूक्लियर और बैलिस्टिक मिसाइल प्रोग्राम में महारत हासिल कर चुका है. इस कारण अमेरिका और पश्चिमी देशों ने उस पर कड़े प्रतिबंध लगाए हैं. प्रतिबंधों की वजह से उसके पास विदेशी मुद्रा नहीं है. विदेशी मुद्रा के जरिए ही विदेशी मिशन संचालित होते हैं. रिपोर्ट के अनुसार, उत्तर कोरिया के दूतावासों को सीधे देश से पैसे प्राप्त नहीं होते बल्कि उसका पैसा प्राप्त करने का मुख्य स्रोत अवैध निर्माण, अवैध व्यापार, तस्करी, मनी लॉन्ड्रिंग रहा है.


चीन उत्तर कोरिया का सबसे बड़ा पार्टनर

दक्षिण कोरिया के यूनिफिकेशन मिनिस्ट्री ने बताया कि कड़े प्रतिबंधों की वजह से नॉर्थ कोरिया को पैसे बनाने में दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है. मिनिस्ट्री ने कहा है कि यह तथ्य उसका बिगड़ती अर्थव्यवस्था का संकेत हैं. उत्तर कोरिया ने चीन के साथ लगने वाली सीमाओं को बंद किया है. चीन उत्तर कोरिया का सबसे बड़ा व्यापारिक साझेदार है.

ऐसा कोई पहली बार नहीं


उत्तर कोरिया ने अपने विदेशी मिशन को बंद करने के लिए कहा कि किसी भी संप्रभु राष्ट्र को अपनी राजनयिक प्राथमिकताओं पर निर्णय लेने का अधिकार है. दूतावासों को बंद करना एक सामान्य प्रक्रिया का हिस्सा है. उत्तर कोरियाई विदेश मंत्रालय ने कहा कि हम न तो अन्य देशों में अपने राजनयिक मिशन बंद कर रहे हैं और न ही अपने मिशन खोल रहे हैं. यह पहले भी हो चुका है.

 

 

यह भी पढ़ेंः Israel Hamas War: बेगुनाहों की मौत पर भड़का फ्रांस, कहा- आतंकी हमले की निंदा लेकिन गाजा में बच्चों और...हमले बंद करे इजरायल