menu-icon
India Daily
share--v1

रफाह में हमास ने तोड़ दी इजरायल की कमर, मार डाले इतने सैनिक कि खुद ही जवाब देने लगी सेना 

Israel Hamas War: इजरायली सेना के गाजा के दक्षिणी शहर रफाह शहर में चल रहे ऑपरेशन को बड़ा झटका लगा है. दरअसल हमास के आतंकियों ने इजरायली सेना के बख्तरबंद काफिले पर हमला कर दिया. इस हमले में इजरायल के कई सैनिकों की मौत हो गई. इस हमले की जानकारी खुद इजरायली सेना ने दी है. इजरायली सेना ने इस दौरान कहा कि उसने हमास के सुरंग नेटवर्क का पता लगाया है, जहां उसे बड़ी मात्रा में विस्फोटक पदार्थ और हथियार मिले हैं.

auth-image
India Daily Live
Israel Hamas War
Courtesy: Social Media

Israel Hamas War: साउथ गाजा के रफाह शहर में हमास के हमले में इजरायल के 8 सैनिकों की मौत हो गई है. इजरायली डिफेंस फोर्स ने इस हमले की जानकारी खुद दी है. इजरायली सेना ने कहा कि पिछले कई महीनों के दौरान हमास का यह सबसे बड़ा हमला था. इजरायली सेना ने इस हमले में अब तक एक सैनिक की ही पहचान कर पाई है जिसकी मौत हुई है. इस सैनिक की मौत के साथ हमास के हमलों में जान गंवाने वाले इजरायली सैनिकों की संख्या 307 हो गई है. सेना ने अपने सैनिक की पहचान 23 साल के कैप्टन वासेम महमूद के रूप में की है. 

इजरायली सेना के अनुसार, सभी सैनिकों की मौत एक बख्तरबंद लड़ाकू इंजीनियरिंग वाहन (CEV) के अंदर हुई.इसमें सवार सभी सैनिक ऑपरेशन के बाद कब्जे में ली गई इमारतों में आराम के लिए जा रहे थे. इसी दौरान काफिले पर बड़ा हमला हो गया. टाइम्स ऑफ इजरायल की खबर के अनुसार, काफिला जैसे ही आगे बढ़ा उस पर एक भयानक हमला हो गया. 

हर दिन हो रही दर्जनों लोगों की मौत 

इससे पहले फिलिस्तीन के चरमपंथी इस्लामिक संगठन हमास ने पहले ही घोषणा करते हुए कहा था कि उसके लड़ाकों ने पश्चिम रफाह के तेल अल-सुल्तान क्षेत्र में इजरायल के बख्तरबंद वाहन पर हमला किया है. इस हमले में कई इजरायली सैनिकों की मौत हुई है. इजरायली सेना रफाह इलाके में लगातार सैन्य कार्रवाई कर रही है. इजरायली हमलों में हर दिन दर्जनों फिलिस्तीनी लोगों की मौतें हो रही हैं. 

संघर्ष विराम पर बन सकती है बात 

इजरायली सेना ने कहा कि रफाह में उसके सैनिकों ने हमास के बनाए गए सुरंग नेटवर्क से भारी मात्रा में हथियार और विस्फोटक सामग्री बरामद की है. इजरायली सैनिकों की मौत ऐसे समय हुई है जब दोनों पक्ष संघर्ष विराम के पक्ष पर आगे बढ़ते हुए दिखाई दे रहे हैं. इस हमले के बाद इजरायल के ऊपर संघर्ष विराम का दबाब और बढ़ सकता है. वहां की जनता पहले से ही रूढ़िवादी नेताओं के रवैये से नाराज है.