menu-icon
India Daily
share--v1

मक्खियों और कीड़ों से परेशान हैं इमरान खान, जेल से बाहर निकालने की लगाई गुहार

Imran Khan: इमरान खान ने अपने वकीलों से कहा कि वह जेल में मक्खियों और कीड़ों से परेशान हैं, उन्हें जल्द से जल्द बाहर निकाला जाए.

auth-image
Gyanendra Tiwari
मक्खियों और कीड़ों से परेशान हैं इमरान खान, जेल से बाहर निकालने की लगाई गुहार

नई दिल्ली. पाकिस्तान के पूर्व प्रधानमंत्री इमरान खान जेल में बंद हैं. उन्हें तोशाखाना मामले में कोर्ट ने दोषी ठहराते हुए 3 साल की सजा सुनाई थी. इसके साथ ही उन पर 1 लाख का जुर्माना भी लगाया था. फिलहाल, वह अटक जेल में बंद हैं. उन्होंने अपने वकील से कहा कि दिन में मक्खियां और रात में कीड़े-मकोड़े भरे रहते हैं. वह ऐसी जेल में नहीं रहना चाहते हैं. उन्हें बाहर निकाला जाए.

यह भी पढ़ें- राष्ट्रपति पद के उम्मीदवार की गोली मारकर हत्या, जानिए कहां का है मामला

सी कैटेगरी की जेल में बंद इमरान खान का जीना मुहाल हो गया है. उन्होंने अपने वकील से जेल में सह रहे दर्द को बया किया है. उनके वकील का कहना है कि उनके मुवक्किल 70 साल के हैं, जिस जेल में वो बंद है. वहां उनका जीना मुहाल हो गया है.

सोमवार को इस्लामाबाद हाई कोर्ट में इमरान के वकील ने याचिका दायर कर इमरान को अटल जेल से रावलपिंडी जेल में शिफ्ट करने का आग्रह किया है. साथ ही वकील ने याचिका में मांग की है इमरान को उनके परिवार वालों और डॉक्टर से मिलने की इजाजत दी जाए.

सूत्रों के हवाले से बताया गया कि इमरान ने अपने वकीलों से कहा है कि किसी भी कीमत पर उन्हें अटक जेल से बाहर निकाला जाए. वह वहां नहीं रहना चाहते.

इमरान के वकील नईम हैदर पंजोथा के मुताबिक इमरान को बड़ी ही दयनीय हालत में रखा गया है. उन्हें 'सी' श्रेणी की सुविधाएं मिल रही है. वो पाकिस्तान के पूर्व प्रधानमंत्री रहे हैं. वो ए श्रेणी की सुरक्षा पाने के हकदार हैं.

आपको बता दें कि इमरान खान पर विदेशों से मिले सरकारी उपहारों को सस्ते दामों पर खरीदकर उन्हें महंगे दामों में बेचने का आरोप है. रिपोर्ट्स के मुताबिक इन उपहारों की कीमत करीब 140 मिलियन रुपए से अधिक थी.

विदेश से मिलने वाले उपहारों को पाकिस्तान में तोशाखाना में रखा जाता है. अगर कोई प्रधानमंत्री उन्हें अपने पास रखना चाहता है तो उस उपहार की उचित कीमत चुका कर रख सकता है लेकिन इमरान ने बहुत सस्ते दामों में उपहारों को खरीदकर महंगे दामों में बेचा है. उन्होंने इसकी जानकारी आयकर रिटर्न में भी नहीं दी थी.

यह भी पढ़ें- उत्तर कोरिया की सेना का शीर्ष जनरल बर्खास्त, तानाशाह किम जोंग ने किया युद्ध का आह्वान