menu-icon
India Daily
share--v1

अपने बेटों से बात करने के लिए तरसे इमरान खान, अटक जेल अधीक्षक के खिलाफ कर डाली कार्यवाही की मांग

इमरा खान जेल में बंद होने के कारण अपने बेटों से बात नहीं कर पा रहे हैं. पुलिस अधिकारियों ने उन्हें उनके बेटों से बात करने के लिए मना कर दिया है.

auth-image
Shubhank Agnihotri
अपने बेटों से बात करने के लिए तरसे इमरान खान, अटक जेल अधीक्षक के खिलाफ कर डाली कार्यवाही की मांग


नई दिल्लीः जेल में बंद इमरान खान इन दिनों बेहद मुसीबतों का सामना कर रहे हैं. जेल में बंद होने के कारण वे अपने बेटों से बात नहीं कर पा रहे हैं. पुलिस अधिकारियों ने उन्हें उनके बेटों से बात करने के लिए मना कर दिया है. जिस कारण उन्होंने अटक जेल अधीक्षक के खिलाफ कार्रवाई की मांग की है.


अटक जेल में हैं बंद 
मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक, सिफर कॉपी के गायब होने के बाद 70 साल के इमरान खान को 13 सितंबर तक न्यायिक हिरासत में भेजा गया है.आपको बता दें कि भ्रष्टाचार के मामले में दोषी ठहराए जाने के बाद वह 5 अगस्त से अटक जेल में बंद हैं.


अदालत ने दी थी बात करने की इजाजत
पिछले महीने आधिकारिक गोपनीयता अधिनियम के तहत दर्ज हुए मामलों की सुनवाई के लिए गठित की गई विशेष अदालत ने इमरान खान को अपने बेटों कासिम और सुलेमान से बात करने की इजाजत दी थी. जियो न्यूज की रिपोर्ट के अनुसार, इमरान ने अपनी याचिका में अदालत के आदेश के उल्लंघन किए जाने को लेकर अटक जेल अधीक्षक के ऊपर कार्यवाही करने की मांग की है. उन्होंने अपनी याचिका में कहा कि उन्हें जेल के अधिकारियों ने बेटों से बात करने की अनुमति नहीं दी. उन्होंने कहा कि आपको गोपनीयता अधिनियम के तहत हिरासत में रखा गया है जिस वजह से आप किसी से बातचीत नहीं कर सकते हैं.


तोशाखाना मामले में होने वाले थे रिहा...

इस्लामाबाद हाई कोर्ट के चीफ जस्टिस आमिर फारुक और जस्टिस महमूद जहांगीरी की खंडपीठ ने बुधवार को तोशाखाना मामले में उनकी तीन साल की सजा को निलंबित कर दिया था. जिस पर पाक के पूर्व प्रधानमंत्री शहबाज शरीफ ने अदालत पर निशाना साधा था. उसके बाद एक विशेष अदालत ने सिफर मामले में इमरान खान की न्यायिक हिरासत को 13 सितंबर तक बढ़ा दिया था.

यह भी पढ़ेंः चीन के BRI प्रोजेक्ट से बाहर आने के लिए इटली तैयार! पीएम मेलोनी का फैसला चीन पर पड़ेगा भारी