menu-icon
India Daily
share--v1

Nuclear पावर बढ़ा रहा चीन, Pak भी चल रहा अपनी चाल, जानिए परमाणु शक्ति में कहां खड़ा है हिंदुस्तान 

Sipri Report: स्वीडन के थिंक टैंक स्टॉकहोम इंटरनेशनल पीस रिसर्च इंस्टीट्यूट ( SIPRI ) ने दुनियाभर में मौजूद परमाणु हथियारों को लेकर एक रिपोर्ट प्रकाशित की है. इस रिपोर्ट में कहा गया है कि रूस और अमेरिका के पास कुल परमाणु हथियारों का 90 फीसदी हिस्सा है. वहीं, चीन अपने परमाणु जखीरे में सबसे तेजी से विस्तार कर रहा है.भारत, पाकिस्तान, उत्तर कोरिया , इजरायल जैसे देश परमाणु जखीरे का आधुनिकीकरण कर रहे हैं.

auth-image
India Daily Live
Sipri Report
Courtesy: Social Media

Sipri Report: चीन लगातार अपने परमाणु जखीरे में बढ़ोत्तरी करता जा रहा है. चीन के पास पिछले साल जनवरी माह में 410 परमाणु हथियार थे जो अब बढ़कर 500 हो गए हैं. यह रिपोर्ट स्वीडन के थिंक टैंक SIPRI ने प्रकाशित की है. इस रिपोर्ट में दावा किया गया है कि पाकिस्तान भी अपने परमाणु जखीरे को बढ़ा रहा है. हालांकि वह भारत से पीछे हैं. सिप्री की रिपोर्ट में दावा किया गया कि भारत के पास पाकिस्तान से ज्यादा परमाणु हथियार हैं. 

स्वीडिश थिंक टैंक स्टॉकहोम इंटरनेशनल पीस रिसर्च इंस्टीट्यूट SIPRI  ने अपनी रिपोर्ट में कहा कि चीन,पाक,भारत, रुस,इजरायल सहित कुल नौ देश अपने परमाणु जखीरे का आधुनिकीकरण कर रहे हैं. इन देशों में अमेरिका, ब्रिटेन, फ्रांस और उत्तर कोरिया जैसे देश भी शामिल हैं. 

अमेरिका और रूस के पास 90 फीसदी हिस्सा 

सिप्री की रिपोर्ट में तस्दीक की गई है कि रूस और अमेरिका के पास पूरी दुनिया के परमाणु हथियारों का 90 फीसदी हिस्सा है. अमेरिका और रूस के करीब 2100 परमाणु हथियार बैलिस्टिक मिसाइलों पर हाई ऑपरेशनल मोड में रखे गए हैं. कहा जा रहा है कि चीन ने भी पहली बार अपनी मिसाइलों पर कुछ परमाणु हथियारों को हाई अलर्ट पर रखा हुआ है. चीन किसी अन्य देश की तुलना में सबसे ज्यादा तेजी से परमाणु हथियारों का विस्तार कर रहा है. 

भारत के पास कितने हैं परमाणु हथियार 

इस रिपोर्ट में कहा गया है कि जनवरी 2024 तक भारत के पास कुल 172 परमाणु हथियार हैं. वहीं पाकिस्तान के पास इनकी संख्या 170 है. भारत लंबी दूरी के हथियारों को बनाने पर ज्यादा ध्यान दे रहा है. रिपोर्ट कहती है कि भारत, पाक ,उत्तर कोरिया बैलिस्टिक मिसाइलों पर परमाणु हथियारों का इस्तेमाल करने के लिए अमेरिका और रूसी चाल चल रहे हैं.