menu-icon
India Daily
share--v1

तोशखाना मामले में इमरान को नहीं मिली राहत, अब सुप्रीम कोर्ट पहुंचे पाकिस्तान के पूर्व प्रधानमंत्री

नई दिल्ली: पाकिस्तान के पूर्व प्रधानमंत्री और तहरीक-ए-इंसाफ (पीटीआई) पार्टी के प्रमुख इमरान खान के लिए मुश्किलें कम होने का नाम नहीं ले रही हैं.

auth-image
Vineet Kumar
तोशखाना मामले में इमरान को नहीं मिली राहत, अब सुप्रीम कोर्ट पहुंचे पाकिस्तान के पूर्व प्रधानमंत्री

नई दिल्ली: पाकिस्तान के पूर्व प्रधानमंत्री और तहरीक-ए-इंसाफ (पीटीआई) पार्टी के प्रमुख इमरान खान के लिए मुश्किलें कम होने का नाम नहीं ले रही हैं. तोशखाना मामले में भ्रष्टाचार के आरोपों का सामना कर रहे इमरान खान को इस्लामाबाद की हाई कोर्ट ने राहत देने से इंकार कर दिया है जिसके चलते अब इमरान खान और उनके समर्थकों ने सुप्रीम कोर्ट का रुख कर लिया है. 

हाई कोर्ट के फैसले के खिलाफ सुप्रीम कोर्ट पहुंचे इमरान खान

इमरान खान ने सुप्रीम कोर्ट में याचिका दायर की है जिसमें हाई कोर्ट के उस फैसले को चुनौती है जिसमें निचली अदालत को एक हफ्ते के अंदर तोशाखाना भ्रष्टाचार मामले की पोषणीयता पर दोबारा विचार करने का निर्देश दिया गया है. अतिरिक्त जिला एवं सत्र न्यायाधीश हुमायूं दिलावर ने 10 मई को तोशाखाना भ्रष्टाचार मामले में 70 वर्षीय खान को दोषी ठहराया था, जिन्होंने मामले की स्वीकार्यता के बारे में आपत्तियों को खारिज कर दिया था. 

खान ने इस्लामाबाद हाई कोर्ट (आईएचसी) के समक्ष मामले की स्वीकार्यता को चुनौती दी थी, जिसने निचली अदालत के फैसले को रद्द कर दिया था. हाई कोर्ट की पीठ ने कहा था कि निचली अदालत ने कमजोर आधार पर खान की याचिका खारिज कर दी थी. पीठ ने निचली अदालत से खान की याचिका को लंबित मानने को कहा. 

सुप्रीम कोर्ट का फैसला आने तक नहीं हो कोई सुनवाई

‘द डॉन अखबार' में छपी खबर के अनुसार इमरान खान ने अपनी याचिका में दलील दी है कि हाई कोर्ट ने निचली अदालत में उसी न्यायाधीश को मामला सौंपा है जिसने पहले ही इसे नामंजूर किया था. इमरान खान ने इसे न्यायिक गलती बताकर इसके खिलाफ सुप्रीम कोर्ट में याचिका दायर की है और मामले को दूसरी अदालत में भेजने का अनुरोध किया है.

वरिष्ठ वकील ख्वाजा हैरिस अहमद के माध्यम से दायर की गई खान की याचिका में अतिरिक्त जिला और सत्र न्यायाधीश (एडीएसजे) दिलावर के समक्ष कार्यवाही पर तब तक रोक लगाने का अनुरोध किया गया है, जब तक कि सुप्रीम कोर्ट की ओर से उनकी अपील पर कोई फैसला नहीं आ जाता. 

आखिर क्या है तोशखाना मामला

गौरतलब है कि इमरान को मिले राजकीय उपहार की बिक्री को लेकर पाकिस्तान चुनाव आयोग (ईसीपी) ने पूर्व प्रधानमंत्री को ‘झूठे बयान और गलत घोषणा' करने के लिए अयोग्य ठहरा दिया था जिसके बाद यह मामला राष्ट्रीय मुद्दा बन गया.  

140 से अधिक मामलों का सामना कर रहे हैं इमरान खान

पिछले साल 21 अक्टूबर को ईसीपी ने अनुच्छेद 63 (एक) (पी) के तहत तोशाखाना मामले में इमरान को अयोग्य ठहराया था. इमरान खान फिलहाल 140 से अधिक मामलों का सामना कर रहे हैं जिसमें आतंकवाद, हिंसा, भ्रष्टाचार और हत्या जैसे गंभीर मामले शामिल हैं.