menu-icon
India Daily
share--v1

ड्रैगन के इस एक्शन से टेंशन में इंडिया! अरूणाचल बॉर्डर पर करेगा समिट, पाक और अफगानिस्तान को भी न्योता

China India Tension: चीन भारतीय राज्य अरुणाचल प्रदेश की सीमा के निकट ट्रांस हिमालय समिट का आयोजन करने जा रहा है. यह आयोजन 4 से 5 अक्टूबर तक चलेगा.

auth-image
Shubhank Agnihotri
ड्रैगन के इस एक्शन से टेंशन में इंडिया! अरूणाचल बॉर्डर पर करेगा समिट, पाक और अफगानिस्तान को भी न्योता

China India Tension: चीन एक बार फिर अपनी शरारत से भारत की टेंशन बढ़ाने वाला है. दरअसल अरुणाचल सीमा पर चीन एक समिट का आयोजन करने वाला है. इस समिट में उसने पाकिस्तान, अफगानिस्तान, मंगोलिया जैसे देशों को न्योता भेजा है. चीन अक्सर अरुणाचल प्रदेश पर अपना दावा करता रहा है, वहीं भारत इसे अपना अभिन्न हिस्सा मानता है.  रिपोर्ट के मुताबिक, चीन  ने अरूणाचल सीमा पर तीसरे ट्रांस हिमालय फोरम फॉर इंटरनेशनल कॉपरेशन समिट को आयोजित करने का फैसला लिया है. ऐसे में दोनों देशों के संबंधों में और दरार आ सकती है.


कई देशों को मिला आमंत्रण

रिपोर्ट के अनुसार, चीन की ओर से इस सम्मेलन में पाक के कार्यवाहक विदेशमंत्री जलील अब्बास जिलानी भी भाग लेने आ सकते हैं. इस वजह से दोनों देशों के संबंध औक बिगड़ने की आशंका है. चीन ने हाल ही में एशियन गेम्स में भाग लेने के लिए अरुणाचल के खिलाड़ियों को वीजा देने से मना कर दिया था. इस मामले पर भारत ने कड़ी आपत्ति जताई थी. चीन ने इस समिट में पाक के अलावा अफगानिस्तान, और मंगोलिया को भी आमंत्रित किया है.


2018 में हुई इस समिट की शुरुआत

चीन इस समिट का आयोजन न्यिंगची में करेगा. इसकी अरुणाचल प्रदेश से दूरी महज 160 किमी है. पाक के विदेश मंत्रालय ने विदेश मंत्री जिलानी के इस सम्मेलन में भाग लेने की पुष्टि की है. मंत्रालय ने अपने बयान में कहा कि इस समिट का आयोजन 4 से 5 अक्टूबर के बीच होना है. चीन ने ट्रांस हिमालय फोरम समिट की शुरुआत 2018 में की थी.  चीन इसके जरिए भौगौलिक कनेक्टिविटी, पर्यावरण सरंक्षण और सांस्कृतिक संबंधों को मजबूत करने का हवाला देता रहा है.

4 साल बाद हो रहा आयोजन


इस समिट का आखिरी बार आयोजन 2019 में हुआ था. 4 साल बाद यह पहला मौका है जब इस समिट का आयोजन किया जा रहा है. रिपोर्ट के मुताबिक, पाक विदेश मंत्री जिलानी समिट के उद्घाटन सत्र को संबोधित करेंगे. चीन तिब्बत के ऊपर पहले ही अपना कब्जा जमा चुका है और अरुणाचल प्रदेश को तिब्बत का दक्षिणी हिस्सा बताते हुए उस पर भी अपना दावा करता रहा है. हाल ही में भारतीय खिलाड़ियों को वीजा देने से मना करने के बाद भारत ने चीन की कड़ी आलोचना की थी. 
 

यह भी पढ़ेंः अमेरीकी संसद का ऐतिहासिक फैसला, प्रतिनिधि सभा के स्पीकर पद से हटाए गए कैविन मैक्कार्थी, ये रही वजह