menu-icon
India Daily
share--v1

नहीं सुधर रहा चीन, दक्षिण चीन सागर में फिलिपींस के जहाज को फिर मारी टक्कर

China News: चीन ने एक बार फिर से दक्षिण चीन सागर में आक्रामक रवैये का प्रदर्शन किया है. चीनी कोस्टगार्ड के जहाज ने फिलिपींस के जहाज को टक्कर मार दी. चीन ने अपनी प्रतिक्रिया में कहा कि फिलिपींस का जहाज उसकी चेतावनी को नजरअंदाज कर रहा था इसलिए उसने यह कदम उठाया है. चीन ने फिलिपींस के जहाज को अपने कब्जे मे ले लिया है. फिलिपींस ने चीन के इस आक्रामक रवैये पर चिंता जताई है.

auth-image
India Daily Live
China sea
Courtesy: Social Media

China News: चीन अपने तानाशाही रवैये में सुधार नहीं करना चाहता इसीलिए वह आए दिन अपने पड़ोसियों से उलझता रहता है. चीन ने एक बार फिर फिलिपींस के जहाज को टक्कर मार दी. दक्षिण चीन सागर में फिलिपींस और चीनी जहाज आपस में टकरा गए. चीनी कोस्टगार्ड का कहना है कि यह घटना इसलिए हुई क्योंकि फिलीपींस का जहाज लगातार उसकी चेतावनी को अनदेखाकर रहा था. चीन दक्षिण चीन सागर के पूरे इलाके पर अपना दावा करता है. इस इलाके से दुनियाभर का लगभग 3 ट्रिलियन डॉलर का कारोबार होता है. 

रिपोर्ट के अनुसार, दक्षिण चीन सागर के कई इलाकों पर चीन, ब्रुनेई, वियतनाम, इंडोनेशिया, मलेशियाई जैसे देश भी अपना दावा ठोकते हैं. चूंकि चीनी नौसेना बेहद मजबूत है तो इस कारण वह पूरे क्षेत्र में अपनी दादागीरी करने में कामयाब हो जाती है.

चीन के नए नियम बनेंगे मुसीबत 

चीन ने दक्षिणी चीन सागर में कई जगहों पर आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस द्वीप बना रखे हैं. चीन के कई जहाज यहां पेट्रोलिंग करते हैं. चीन और फिलिपींस के बीच विवादित जगहों को लेकर टकराव कोई नया नहीं है. यह लगातार होता रहता है. रिपोर्ट के अनुसार, 15 जून से चीन के नए कोस्ट गार्ड नियम लागू हो चुके हैं. इन नियमों के मुताबिक, चीन के कोस्टगार्ड शिप साउथ चाइना सी में किसी भी देश के खिलाफ घातक हथियारों का प्रयोग कर सकते हैं. 

फिलिपींस ने क्या कहा? 

नए नियमों के अनुसार, चीनी कोस्टगार्ड संदेह के आधार पर किसी भी विदेशी जहाज को 60 दिन तक बिना किसी ट्रायल के बंदी बना सकती है. चीनी कोस्टगार्ड का कहना है कि फिलिपींस के जहाज ने उनकी चेतावनी को नजरअंदाज किया है. नए नियमों के तहत चीनी कोस्टगार्ड ने फिलिपींस के जहाज को अपने कब्जे में कर लिया है. फिलपींस ने चीनी रवैये पर आपत्ति जताई है. फिलिपींस ने कहा कि चीन का रवैया अमानवीय है. चीनी नौसेना के नए नियम पूरी दुनिया के लिए चिंता का विषय है.