menu-icon
India Daily
share--v1

पाकिस्तान के कार्यवाहक पीएम का दावा, तख्तापलट को लेकर हुई थी 9 मई की हिंसा

पाकिस्तान के कार्यवाहक प्रधानमंत्री अनवारुल-हक-काकर ने बड़ा खुलासा किया है.काकर ने कहा कि 9 मई की हिंसा तख्तापलट और गृह युद्ध को संदर्भित थी.

auth-image
Shubhank Agnihotri
पाकिस्तान के कार्यवाहक पीएम का दावा, तख्तापलट को लेकर हुई थी 9 मई की हिंसा

 

नई दिल्लीः पाकिस्तान के पूर्व प्रधानमंत्री इमरान खान की गिरफ्तार होने के बाद भड़की हिंसा को लेकर पाकिस्तान के कार्यवाहक प्रधानमंत्री अनवारुल-हक-काकर ने बड़ा खुलासा किया है.काकर ने कहा कि 9 मई की हिंसा तख्तापलट और गृह युद्ध को संदर्भित थी. उन्होंने कहा कि यह घटना पाकिस्तान को कमजोर करने और गृहयुद्ध में धकेलने के लिए हुई थी. इसका मुख्य लक्ष्य पाक सेना प्रमुख और उनकी टीम को निशाना बनाना था. द न्यूज इंटरनेशनल ने इसको लेकर एक रिपोर्ट प्रकाशित की है.


यह कतई स्वीकार्य नहीं
जियो न्यूज को दिए गए अपने साक्षात्कार में उन्होंने कहा कि 9 मई की हिंसा को पूरी दुनिया ने देखा. किस तरह इस हिंसा में भयानक स्तर पर  तोड़फोड़ और आगजनी की घटना हुई.  दुनियाभर के प्रमुख अखबारों ने इस घटना को बड़ी त्रासदी बताया. उन्होंने कहा कि इस तरह की हेराफेरी किसी भी सरकार में स्वीकार नहीं की जा सकती.


बदले की धारणा नहीं 
अंतरिम प्रधानमंत्री ने कहा कि हम यह धारणा नहीं बना रहे हैं 9 मई को आरोपियों के खिलाफ किसी तरह का कोई बदला लिया जा रहा है. हम मानते हैं कि यदि सरकार कानून का उल्लंघन करने वालों और यातना देने वालों के खिलाफ कार्रवाई करने में अक्षम होती है तो हमारी ओर से इस मामले को एक दूसरे पक्ष के तौर पर देखा जाए.


बातचीत और बल दोनों का प्रयोग

कायर्वाहक प्रधानमंत्री ने कहा कि किसी भी राजनीतिक दल को यह अधिकार नहीं है कि वह दूसरों पर पत्थर फेंके, गाली दे या इमारतों को आग के हवाले कर दे. उन्होंने आगे कहा कि मैं क भी नहीं जानता था कि मैं कभी भी पीएम पद की कुर्सी पर बैंठूंगा. टीटीपी या उसके जैसे अन्य प्रतिबंधित संगठनों से निपटने के लिए बातचीत और बल दोनों का ही प्रयोग करेंगे.

क्या हुआ था 9 मई को ? 
पाकिस्तान तहरीक-ए-इंसाफ यानी पीटीआई चीफ इमरान खान को 9 मई को इस्लामाबाद के हाई कोर्ट से हिरासत में लिया गया था. इसके  बाद पूरे पाकिस्तान में हिंसा भड़क गई थी. पीटीआई कार्यकर्ताओं ने सैन्य प्रतिष्ठानों के साथ ही कोर कमांडर के घर पर भी हमला कर दिया था.

 

यह भी पढ़ेंः Nobel Foundation का यू-टर्न, विरोध के बाद रूस, बेलारूस और ईरान से वापस लिया निमंत्रण