menu-icon
India Daily
share--v1

कर्नाटक में महिला को निर्वस्त्र घुमाने को लेकर महिला आयोग का बड़ा एक्शन, BJP ने पांच सदस्यीय पैनल का किया गठन

कर्नाटक के बेलगावी में एक आदिवासी महिला को नग्न घुमाने की जघन्य घटना को लेकर महिला आयोग ने बड़ा एक्शन लिया है.

auth-image
Avinash Kumar Singh
women roaming naked  Karnataka

हाइलाइट्स

  • कर्नाटक में महिला को निर्वस्त्र घुमाने को लेकर महिला आयोग का बड़ा एक्शन
  • BJP ने पांच सदस्यीय पैनल का किया गठन

नई दिल्ली: कर्नाटक के बेलगावी में एक आदिवासी महिला को नग्न घुमाने की जघन्य घटना को लेकर BJP ने बड़ा एक्शन लिया है. बीजेपी के राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा ने कर्नाटक के बेलगावी में एक आदिवासी महिला को नग्न कर घुमाने की घटना की निंदा की है और घटना स्थल का दौरा करने के लिए पांच सदस्यीय पैनल का गठन किया है. 

बेलगावी घटना पर BJP ने पांच सदस्यीय पैनल का किया गठन 

बीजेपी की ओर से जारी विज्ञप्ति में कहा गया "कर्नाटक के बेलगावी में एक लड़के के अपने ही गांव की एक लड़की के साथ भाग जाने के बाद उसकी मां को निर्वस्त्र कर घुमाया गया और मारपीट की गई. मामले की आगे की जांच करने और प्रत्यक्ष जानकारी इकट्ठा करने के लिए जेपी नड्डा ने पांच सदस्यीय तथ्य समिति का गठन किया है. इस पैनल में बीजेपी सांसद अपराजिता सारंगी, सुनीता दुग्गल, लॉकेट चटर्जी, रंजीता कोली और आशा लाकड़ा को शामिल किया गया हैं. यह पैनल घटना स्थल का दौरा करेंगी और जल्द से जल्द पार्टी अध्यक्ष जेपी नड्डा को अपनी रिपोर्ट सौंपेंगी."

'कांग्रेस सरकार के गैर-जिम्मेदाराना व्यवहार उजागर'

BJP के राष्ट्रीय अध्यक्ष जगत प्रकाश नड्डा ने कर्नाटक की कांग्रेस सरकार पर भी तीखा हमला बोला. जेपी नड्डा ने बयान जारी करते हुए कहा कि बेलगावी में एक आदिवासी महिला को नग्न घुमाने की घटना को जघन्य और महिला सुरक्षा के प्रति कांग्रेस पार्टी के गैर-जिम्मेदाराना व्यवहार को दिखाती है. बीजेपी की ओर से जारी विज्ञप्ति में आगे लिखा गया "BJP के राष्ट्रीय अध्यक्ष जगत प्रकाश नड्डा ने कर्नाटक के बेलगावी में एक आदिवासी महिला को नग्न घुमाने की जघन्य घटना की कड़ी निंदा की है. कर्नाटक में कांग्रेस सरकार के सत्ता में आने के बाद से विशेष रूप से महिलाओं के खिलाफ ऐसे जघन्य अपराध नियमित अंतराल पर हो रहे हैं. यह ऐसे अपराधों से निपटने में देश में हर जगह कांग्रेस सरकारों के गैर-जिम्मेदाराना व्यवहार को भी उजागर करता है.''

सीएम सिद्धारमैया और राज्य के गृह मंत्री चुप क्यों? 

कर्नाटक बीजेपी सांसदों ने भी कर्नाटक सरकार के खिलाफ संसद में गांधी प्रतिमा के सामने विरोध प्रदर्शन किया. केंद्रीय राज्य मंत्री शोभा करंदलाजे ने बड़ा बयान देते हुए कहा "महिला को नग्न घुमाया गया और उसे बिजली के खंभे से बांध दिया गया और बेरहमी से पीटा गया. सरकार उसके गांव के पास विधानसभा सत्र चला रही है. यह महिला एवं बाल कल्याण मंत्री के निर्वाचन क्षेत्र में हुआ. क्यों सीएम सिद्धारमैया और राज्य के गृह मंत्री चुप हैं? कोई कार्रवाई नहीं हो रही है?"

तेजस्वी सूर्या ने सिद्धारमैया सरकार पर उठाये सवाल 

बीजेपी सांसद तेजस्वी सूर्या ने इस मामले में एक्स पर पोस्ट करते हुए लिखा "कर्नाटक में कांग्रेस सरकार नागरिकों, विशेषकर महिलाओं को सुरक्षा प्रदान करने की अपनी जिम्मेदारी में हर दिन विफल हो रही है.  बेलगावी की घटना जहां एक मां को खंभे से बांध दिया गया, उसके साथ मारपीट की गई और उसे नग्न घुमाया गया, उडुपी की घटना जहां एक महिला और उसके 3 बच्चों को बेरहमी से मार डाला गया. बेंगलुरु में भूविज्ञान विभाग में महिला अधिकारी की हत्या और ऐसी कई घटनाओं ने साबित कर दिया है कि कांग्रेस कर्नाटक में महिला सुरक्षा की अनदेखी कर रही है. बेलगावी घटना पर उच्च न्यायालय के स्वत: संज्ञान से वर्तमान सरकार को जाग जाना चाहिए राज्य में महिलाओं की दुर्दशा के बारे में गहरी नींद में हैं और अनभिज्ञ हैं.''

महिला आयोग ने जांच समिति को किया गठन 

इस बीच राष्ट्रीय महिला आयोग (एनसीडब्ल्यू) ने कर्नाटक में 42 वर्षीय महिला पर हुए अत्यचार को लेकर गहरी चिंता जताई है. आयोग ने मामले का स्वत: संज्ञान लिया है और शुक्रवार को एक जांच समिति कर्नाटक भेजी है. एनसीडब्ल्यू की चेयरपर्सन रेखा शर्मा ने आयोग की सदस्य डेलिना खोंगडुप के नेतृत्व में टीम का गठन किया है. यह टीम घटनास्थल पर जाकर छानबीन कर रिपोर्ट तैयार करके रेखा शर्मा को सौंपेगी. इसके अलावा महिला आयोग ने पुलिस महानिदेशक (डीजीपी) से 17 दिसंबर तक की गई कार्रवाई रिपोर्ट प्रस्तुत करने का आदेश दिया है. कर्नाटक उच्च न्यायालय ने भी बेलगावी में एक महिला को पीटने, नग्न घुमाने और बिजली के खंभे से बांधने की घटना को रोकने में विफल रहने पर राज्य पुलिस की कड़ी आलोचना की है. फिलहाल इस मामले में सात आरोपियों को पहले ही गिरफ्तार किया जा चुका है और आगे की कारवाई अभी जारी है.