menu-icon
India Daily
share--v1

कौन हैं कंगना रनौत को थप्पड़ मारने वाली कुलविंदर कौर, किसान आंदोलन से क्या है कनेक्शन?

कॉन्स्टेबल कुलविंदर कौर किसान आंदोलन के दौरान किसानों को लेकर किए गए कंगना के बयान से वो आहत थीं.  इस घटना के बाद कंगान रनौत का एक रेकॉर्डेड बयान सामने आया.

auth-image
India Daily Live
kulwinder-kaur
Courtesy: Social Media

बॉलीवुड अभिनेत्री और बीजेपी सांसद कंगना रनौत को  गुरुवार दोपहर चंडीगढ़ एयरपोर्ट पर थप्पड़ मारने की खबर है. खबर है कि  कंगना को सीआईएसएफ (CISF) की एक महिला कॉन्स्टेबल ने थप्पड़ मार दिया. कंगना दिल्ली के लिए फ्लाइट ले रही थी उसी दौरान ये घटना हुई. थप्पड़ मारने वाली कॉन्स्टेबल का नाम कुलविंदर कौर है. घटना के बाद उनका एक वीडिया सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा है. जिसमें उन्होंने कंगान को थप्पड़ मारने की वजह के बारे में बोलता सुना गया.

कॉन्स्टेबल कुलविंदर कौर किसान आंदोलन के दौरान किसानों को लेकर किए गए कंगना के बयान से वो आहत थीं.  इस घटना के बाद कंगान रनौत का एक रेकॉर्डेड बयान सामने आया. उन्होंने इसमें कहा कि मैं सुरक्षित हूं. मैं बिल्कुल ठीक हूं. घटना सुरक्षा जांच के दौरान हुई. महिला गार्ड मेरे पार होने का इंतजार कर रही थी. तभी वह साइड से आई और मुझे मारा. उसने अपशब्द कहने शुरू कर दिए. मैंने पूछा कि उसने मुझे क्यों मारा उन्होंने कहा कि मैं किसानों का समर्थन करती हूं. लेकिन मेरी चिंता यह है कि पंजाब में आतंकवाद बढ़ रहा है. 

कौन हैं कुलविंदर कौर?

कुलविंदर कौर 35 साल की हैं, जो पंजाब के सुल्तानपुर लोधी की रहने वाली हैं. कुलविंदर कौर 2009 में सीआईएसएफ में शामिल हुईं. 2021 से चंडीगढ़ हवाई अड्डे पर बल के विमानन सुरक्षा समूह के साथ आईं. पिछले 2 सालों से वह चंडीगढ़ हवाई अड्डे पर अपनी सेवाए दे रही हैं. उनके भाई शेर सिंह एक किसान नेता और किसान मजदूर संघर्ष समिति के संगठन सचिव हैं. कुलविंदर के पति भी सीआईएसएफ में ही हैं. कुलविंदर कौर के दो बच्चे हैं. कंगना के थप्पड़काड़ से पहले अब तक कुलविंदर या उनके पति के खिलाफ कोई सतर्कता जांच या सजा नहीं हुई है.

कंगना की राजनीति में एंट्री

बता दें कि फिल्मी दुनिया से कंगना रनौत की राजनीति में एंट्री मार दी है. लोकसभा चुनाव में हिमाचल प्रदेश की मंडी सीट से उन्होंने चुनाव जीता है. कंगना ने मंडी से हिमाचल प्रदेश के 6 बार मुख्यमंत्री रहे दिवंगत वीरभद्र सिंह के बेटे विक्रमादित्य सिंह को  74,755 मतों से हराया.