menu-icon
India Daily
share--v1

केंद्रीय मंत्री किरेन रिजिजू को मिजोरम विधानसभा चुनाव का बनाया गया प्रभारी, इन नेताओं को भी मिली बड़ी जिम्मेदारी

Mizoram Election 2023: BJP ने मिजोरम विधानसभा चुनाव के लिए केंद्रीय पृथ्वी विज्ञान मंत्री किरण रिजिजू को चुनाव प्रभारी नियुक्त किया है.

auth-image
Avinash Kumar Singh
केंद्रीय मंत्री किरेन रिजिजू को मिजोरम विधानसभा चुनाव का बनाया गया प्रभारी, इन नेताओं को भी मिली बड़ी जिम्मेदारी

नई दिल्ली: BJP ने मिजोरम विधानसभा चुनाव के लिए केंद्रीय पृथ्वी विज्ञान मंत्री किरण रिजिजू को चुनाव प्रभारी नियुक्त किया है. वहीं नागालैंड के उप मुख्यमंत्री यानथुंगो पैटन और पार्टी के राष्ट्रीय सचिव और प्रवक्ता अनिल एंटनी को चुनाव सह-प्रभारी नियुक्त किया गया है. इसके साथ ही जितेंद्र पाल मल्होत्रा को चंडीगढ़ बीजेपी प्रदेश अध्यक्ष बनाया गया है. 

बीजेपी के राष्ट्रीय महासचिव और केंद्रीय मुख्यालय प्रभारी अरुण सिंह की ओर से जारी विज्ञप्ति में कहा गया है कि पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा ने इन नियुक्तियों को मंजूरी दी है. ये नियुक्ति तत्काल प्रभाव से लागू होगी.

जानें कौन है अनिल एंटनी?

बीजेपी के राष्ट्रीय प्रवक्ता नियुक्त किये गए अनिल एंटनी कांग्रेस के वरिष्ठ नेता एके एंटनी के बेटे हैं. अनिल एंटनी इस साल अप्रैल में केंद्रीय मंत्री पीयूष गोयल की मौजदूगी में बीजेपी में शामिल हुए थे. बीते दिनों जेपी नड्डा की टीम में उन्हें बीजेपी का राष्ट्रीय सचिव के साथ-साथ पार्टी का राष्ट्रीय प्रवक्ता बनाकर दोहरी जिम्मेदारी दी थी. ऐसे में मिजोरम विधानसभा चुनाव में बीजेपी ने अनिल एंटनी को चुनाव सह-प्रभारी नियुक्त करके उनका कद बढ़ा दिया है. उनके सामने मिजोरम में पार्टी को जीत दिलाने की बड़ी चुनौती होगी.

अनिल एंटनी ने बीते दिनों बीबीसी की विवादित डॉक्यूमेंट्री 'India: The Modi Question' को लेकर कड़ी आलोचना की थी. इसको लेकर उनको कांग्रेस के भीतर ही विरोध झेलना पड़ा था. जिसके बाद उन्होंने कांग्रेस से इस्तीफा देकर बीजेपी का दामन थाम लिया.

मिजोरम में 40 सीटों पर एक ही चरण में वोटिंग

चुनाव आयोग ने पिछले हफ्ते घोषणा की थी कि पूर्वोत्तर राज्य मिजोरम में 40 सीटों पर एक ही चरण में मतदान होगा. वहीं वोटों की गिनती राजस्थान, छत्तीसगढ़, मध्य प्रदेश और तेलंगाना के साथ 3 दिसंबर को होगी. मिजोरम की विधानसभा का कार्यकाल इस साल 17 दिसंबर को समाप्त हो रहा है. बीजेपी की सहयोगी मिजो नेशनल फ्रंट (एमएनएफ) पूर्वोत्तर राज्य में सत्ता में है.

यह भी पढ़ें: Inside Story: गहलोत-पायलट या फिर राहुल-अशोक, जानें कहां फंसा है राजस्थान में कांग्रेस का चुनावी पेंच