menu-icon
India Daily
share--v1

'ये भवन और ये सेंट्रल हॉल हमारी भावनाओं से भरा हुआ है', संसद में बोले PM मोदी

संसद के विशेष सत्र की कार्यवाही आज से नए संसद भवन में चलेगी. इस मौके पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि ये भवन ये सेंट्रल हॉल एक प्रकार से हमारी भावनाओं से भरा हुआ है.

auth-image
Gyanendra Sharma
'ये भवन और ये सेंट्रल हॉल हमारी भावनाओं से भरा हुआ है', संसद में बोले PM मोदी

नई दिल्ली: संसद के विशेष सत्र के दूसरे दिन पुरानी संसद के सेंट्रल हॉल में विदाई कार्यक्रम रखा गया. सत्र की कार्यवाही आज से नए संसद भवन में चलेगी. इस मौके पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि ये भवन ये सेंट्रल हॉल एक प्रकार से हमारी भावनाओं से भरा हुआ है. हमें भावुक भी करता है और कर्तव्य के लिए प्रेरित भी करता है. आजादी पूर्व ये खंड एक प्रकार से लाइब्रेरी के लिए इस्तेमाल होता था.

हम सब मिलकर नए भविष्य का श्रीगणेश करने जा रहे हैं-पीएम मोदी 

पीएम मोदी ने कहा कि आज नए संसद भवन में हम सब मिलकर, नए भविष्य का श्रीगणेश करने जा रहे हैं. आज हम यहां विकसित भारत का संकल्प दोहराने, संकल्पबद्ध होने और उसको परिपूर्ण करने के लिए जी-जान से जुटने के इरादे से नए भवन की तरफ प्रस्थान कर रहे हैं. संसद को संबोधित करते हुए  प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि यहीं पर 1947 में अंग्रेजी हुकूमत ने सत्ता हस्तांतरण किया. यह सेंट्रल हॉल उस प्रकिया का भी साक्षी है. हमारे राष्ट्रगान और तिरंगे को भी यहीं अपनाया गया. यहीं पर चार हजार से ज्यादा कानून पास हुए. इसी संसद में मुस्लिम बहन बेटियों को न्याय की जो प्रतीक्षा थी, शाहबानों केस के कारण गाड़ी कुछ उलटी पाटी पर चल गई थी. इसी सदन ने हमारी उस गलती को ठीक किया.

अनुच्छेद-370 से मुक्ति पाने में संसद की बहुत बड़ी भूमिका

पीएम मोदी ने कहा- संसद ने बीते वर्षों में ट्रांसजेंडर को न्याय देने वाले कानूनों का भी निर्माण किया. इसके माध्यम से हमने ट्रांसजेंडर को भी सद्भाव और सम्मान के साथ नौकरी, शिक्षा, स्वास्थ्य और बाकी सुविधाएं देने की दिशा में कदम बढ़ाया है. उन्होंने कहा हमने इस सदन में अनुच्छेद-370 से मुक्ति पाने, अलगाववाद एवं आतंकवाद के खिलाफ लड़ाई लड़ने का महत्वपूर्ण कदम उठाया. इस काम में माननीय सांसदों और संसद की बहुत बड़ी भूमिका है. जम्मू कश्मीर में इसी सदन में निर्मित संविधान लागू किया गया.

बड़े कैनवास पर काम करना ही होगा-पीएम मोदी

पीएम मोदी ने कहा-टेक्नोलॉजी की दुनिया में भारत का नौजवान जिस प्रकार आगे बढ़ रहा है, वो पूरे विश्व के लिए आकर्षण और स्वीकृति का केंद्र बन रहा है. अमृतकाल के 25 वर्षों में भारत को अब बड़े कैनवास पर काम करना ही होगा. हमें आत्मनिर्भर भारत बनाने के लक्ष्य को सबसे पहले परिपूर्ण करना चाहिए. हमें अब मैन्युफैक्चरिंग सेक्टर में दुनिया में सर्वश्रेष्ठ बनने की दिशा में काम करना होगा. हमारे यहां निर्मित डिजाइन, हमारे सॉफ्टवेयर, हमारे कृषि उत्पाद, हमारे हस्तशिल्प हर क्षेत्र में अब हमें वैश्विक मापदंडों को पार करने के इरादे से ही चलना होगा.