menu-icon
India Daily
share--v1

'पीएम मोदी चाहें तो 2-3 दिन में मणिपुर की आग को बुझा सकते हैं', जानें बांसवाड़ा में राहुल गांधी के भाषण की 10 बड़ी बातें

Rahul Gandhi: कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने बुधवार को राजस्थान के बांसवाड़ा में एक सार्वजनिक रैली को संबोधित किया.

auth-image
Sagar Bhardwaj
'पीएम मोदी चाहें तो 2-3 दिन में मणिपुर की आग को बुझा सकते हैं', जानें बांसवाड़ा में राहुल गांधी के भाषण की 10 बड़ी बातें

नई दिल्ली: कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने बुधवार को राजस्थान के बांसवाड़ा में एक सार्वजनिक रैली को संबोधित किया. सांसदी बहाल होने के बाद यह राहुल गांधी की पहली रैली थी.

रैली को संबोधित हुए राहुल गांधी ने कहा कि हम आपको आदिवासी कहते हैं जबकि बीजेपी आपको वनवासी कहती है, बीजेपी चाहती है कि आप जंगल में ही रहें जबकि हम आपको देश का मालिक समझते हैं. उन्होंने कहा कि मैंने अपनी दादी से 45 साल पहले पूछा था कि ये आदिवासी क्या होते हैं? इस पर उन्होंने कहा था कि ये हिंदुस्तान के लोग हैं. जल, जंगल, जमीन पहले आदिवासियों की हुआ करती थी.

आप लोग ही हिंदुस्तान के असली मालिक थे, लेकिन धीरे-धीरे आपको बेदखल कर दिया गया. हम चाहते हैं कि आदिवासी भाई-बहन पढ़ें, लिखें और तरक्की करें लेकिन बीजेपी आपको केवल जंगलों तक ही सीमित करना चाहती है. बीजेपी आपको वनवासी कहती है.

जानिए राहुल के भाषण की 10 बड़ी बातें...

. बीजेपी आपको वनवासी कहती है, आपके जंगलों को छीनकर अडाणी को सौंप देती है.

. बीजेपी की सोच ने मणिपुर में आग लगा दी. मणिपुर में भारतमाता की हत्या हुई है.

. मणिपुर में 4 महीने से आग लगी हुई है, पीएम चाहें तो 2-3 दिन में आग बुझा सकते हैं.

. हिंदुस्तान को आजादी दिलवाने में आप लोगों के योगदान के लिए आपका आभार.

. आदिवासी दिवस पर राहुल ने सभी आदिवासी भाइयों को शुभकामनाएं भी दीं.

. मेरी दादी आदिवासियों को बहुत प्यार मोहब्बत करती थीं.

. बीजेपी ने एक नया शब्द निकाला है वनवासी

. आदिवासी देश-धरती के पहले निवासी थे.

. वो कहते हैं कि आप आदिवासी नहीं वनवासी हैं, ये आपका अपमान है.

. ये पूरा देश आपका है, हम चाहते हैं कि जो भी आपका सपना है वो पूरा होना चाहिए.

यह रैली विश्व आदिवासी दिवस के मौके पर आयोजित की गई थी. इस रैली के साथ ही कांग्रेस ने राजस्थान में इस साल के अंत में होने वाले विधानसभा चुनाव के प्रचार अभियान की भी शुरुआत कर दी है.

यह भी पढ़ें: दिल्ली सरकार ने कृषि भूमि के सर्कल रेट में बढ़ोत्तरी को दी मंजूरी, जानें क्या होंगी नई दरें