menu-icon
India Daily
share--v1

Purnia Lok Sabha Result 2024: शान से जीती साख की लड़ाई, पूर्णिया से पप्पू यादव ने लहराया परचम

Purnia Lok Sabha Result 2024:​​​​​​​ बिहार की पूर्णिया सीट पर निर्दलीय उम्मीदवार पप्पू यादव ने बड़ी जीत हासिल की है. पप्पू यादव ने जेडीयू के मौजूदा सांसद संतोष कुशवाहा को हराया है.

auth-image
India Daily Live
Purnia Lok Sabha Seat
Courtesy: IDL

Purnia Lok Sabha Result 2024: लोकसभा चुनाव के दौरान बिहार की एक सीट सबसे ज्यादा चर्चा में रही. यह सीट थी बिहार की पूर्णिया सीट. इस सीट पर इंडिया गठबंधन की ओर से पप्पू यादव उम्मीदवार थे, लेकिन राजद ने जेडीयू की विधायक बीमा भारती को अपना प्रत्याशी बना दिया. इससे नाराज होकर पप्पू यादव निर्दलीय ही चुनावी मैदान में कूद पड़े. उन्होंने कांटे के मुकाबले में जेडीयू के संतोष कुमार को 23 हजार से ज्यादा वोटों से पराजित कर दिया. राजद की उम्मीदवार बीमा भारती तीसरे पायदान पर रहीं. 

क्या हैं स्थानीय मुद्दे?

इस बार यहां से निर्दलीय पप्पू यादव का चुनाव लड़ना एक बड़ा मुद्दा था. मौजूदा सांसद संतोष कुशवाहा के सामने आरजेडी की बीमा भारती भी चुनावी मैदान में थी.  मक्के की खेती के लिए मशहूर पूर्णिया में चुनावी मुद्दा भी मक्का ही बना. इनकी बिक्री के लिए लोगों का इंतजार अब गुस्से में बदल चुका है. इसके अलावा, सिंचाई की समस्या के साथ-साथ विकास कार्य और बेरोजगारी तो हर चुनाव की तरह ही चर्चित मुद्दा है.


जातीय समीकरण

पूर्णिया लोकसभा सीट पर 60 पर्सेंट हिंदू और 40 पर्सेंट मुस्लिम हैं. इनमें 5 लाख SC-ST हैं. इसके अलावा, 1.5 लाख यादव, 1.25 लाख ब्राह्मण और 1.25 लाख मतदाता हैं. इस सीट पर 7 लाख मुस्लिम मतदाता भी हैं जो निर्णायक भूमिका निभा सकते हैं. बनमनखी, कसबा और कोढ़ा के मुस्लिम मतदाताओं को रिझाने के लिए इस बार पार्टियों ने खूब पसीना भी बहाया है. 

2019 में कौन जीता था?

बिहार के पूर्णिया लोकसभा निर्वाचन क्षेत्र से 2019 के आम चुनाव में जनता दल यूनाइटेड के उम्मीदवार संतोष कुमार कुशवाहा ने बाजी मारी. उन्हें कुल 632,924 वोट मिले जो कुल डाले गए मतों का 54.85 फीसदी थे. इस क्षेत्र के विरोधी दावेदार कांग्रेस के उदय सिंह थे. उदय सिंह को कुल 3.69 लाख यानी कुल मतों का 32 फीसदी वोट मिले. वही तीसरे निर्विरोध दावेदार सुभाष कुमार ठाकुर को कुल 31,795 वोट मिले थे.

लोकसभा सीट का इतिहास

इस सीट के इतिहास की बात करें तो पिछले चार चुनावों में दो बार बीजेपी तो दो बार जेडीयू को जीत मिली है. साल 1996 में पप्पू यादव यहां से समाजवादी पार्टी के टिकट पर चुनाव जीत चुके हैं. पप्पू यादव यहां से कुल तीन बार सांसद बने हैं जिसमें से दो बार वह निर्दलीय सांसद बने हैं. इस सीट पर 1952 से 1977 तक कांग्रेस का ही कब्जा रहा था. पहली बार जनता पार्टी के लखन लाल कपूर ने यहां से कांग्रेस को हराया था. कांग्रेस पार्टी यहां आखिरी बार साल 1984 में चुनाव जीती थी.