menu-icon
India Daily
share--v1

बंगाल पंचायत चुनाव में महिला उम्मीदवार से हुई थी हैवानियत? बीजेपी के आरोपों पर क्या बोली पुलिस जानें

West Bengal: पश्चिम बंगाल पंचायत चुनाव की एक महिला उम्मीदवार ने टीएमसी के कार्यकर्ताओं पर उत्पीड़न का आरोप लगाया है. महिला का आरोप है कि उसे निर्वस्त्र कर उससे छेड़छाड़ की गई.

auth-image
Sagar Bhardwaj
बंगाल पंचायत चुनाव में महिला उम्मीदवार से हुई थी हैवानियत? बीजेपी के आरोपों पर क्या बोली पुलिस जानें

नई दिल्ली: मणिपुर में कुकी समुदाय की दो महिलाओं के साथ हुई दरिंदगी को लेकर पूरे देश में उबाल है. समाज के हर वर्ग ने इस घटना की निंदा करते हुए दोषियों को कड़ी से कड़ी सजा देने की मांग की है.

इसी बीच पश्चिम बंगाल पंचायत चुनाव की एक महिला उम्मीदवार ने टीएमसी के कार्यकर्ताओं पर उत्पीड़न का आरोप लगाया है. महिला का आरोप है कि उसे निर्वस्त्र कर उससे छेड़छाड़ की गई.

महिला ने टीएमसी कार्यकर्ताओं पर लगाया यौन उत्पीड़न का आरोप

यह घटना 8 जुलाई की बताई जा रही है. बताया जा रहा है कि महिला पंचायत चुनाव में बीजेपी की उम्मीदवार रही है. महिला ने ईमेल के माध्यम से इसकी शिकायत की है जिसमें उसने कहा है कि 8 जुलाई को हेमंत रॉय और अन्य टीमसी कार्यकर्ताओं ने उसे मतदान केंद्र से जबरन बाहर निकाला, उसके कपड़े फाड़े और यौन उत्पीड़न किया.  पांचला पुलिस स्टेशन में यह मामला दर्ज किया गया है.

आरोपों पर अब तक नहीं मिले कोई सबूत

आरोप लगाने वाली महिला से मेडिकल दस्तावेज पेश करने और CRPC की धारा 164 के तहत अपना बयान दर्ज करने को कहा गया था, लेकिन अभी तक महिला ने इस पर अपना कोई जवाब नहीं दिया है. 

वहीं स्थानीय प्रत्यक्षदर्शियों का कहना है कि 8 जुलाई को ऐसी कोई घटना नहीं हुई थी. फिलहाल इस घटना के कोई सबूत नहीं मिले हैं लेकिन आगे की जांच जारी है.

'मुझे जमीन पर पटका गया, मेरी साड़ी खींची गई'

महिला का आरोप है कि पश्चिम बंगाल पंचायत चुनाव के दौरान 8 जुलाई को दिन में 11 बजे के आसपास काफी बवाल हो रहा था. मैं मतदान केंद्र पर ही थी और मैं वहां से बीजेपी की उम्मीदवार थी. तभी टीएमसी के कुछ लोग आए और मेरे बाल पकड़कर मुझे जमीन पर पटक दिया. 

मेरी साड़ी पकड़कर खींची. मतदान केंद्र पर काफी तोड़फोड़ की गई. मैं अपने इलाके मैं ऐसा नहीं चाहती, यहां के लोग बहुत गरीब हैं और दिहाड़ी मजदूरी करके अपना पेट पालते हैं. इस घटना के बाद में डरी हुई हूं. पुलिस ने भी कुछ नहीं किया और मार खाकर चली गई.

आरोपों पर अब तक नहीं मिले सबूत- पुलिस

इस पूरे मामले को लेकर पश्चिम बंगाल के डीजी और आईजीपी मनोज मालवीय ने कहा कि हमें ईमेल के माध्यम से मामले की शिकायत मिली थी. हावड़ा ग्रामीण के एसपी इस मामले को देख रहे थे,  14 जुलाई को इस मामले में FIR दर्ज कर ली गई.

 पिछले कुछ दिनों से हम इस मामले की जांच कर रहे हैं लेकिन अब तक हमें ऐसी किसी घटना के सबूत नहीं मिले हैं. उन्होंने कहा कि सबूत इकट्ठा करने के लिए हमने सीसीटीवी फुटेज भी खंगाले लेकिन कुछ नहीं मिला.

यह भी पढ़ें: यूपी से 2024 का लोकसभा चुनाव लड़ेंगे सीएम नीतीश कुमार? इन 3 सीटों को लेकर अटकलें हुई तेज