menu-icon
India Daily
share--v1

कैबिनेट मंत्री, राज्य मंत्री और मंत्री में क्या है अंतर, शपथ से पहले ही समझ लीजिए

PM Modi Cabinet: नरेंद्र मोदी तीसरी बार प्रधानमंत्री पद की शपथ लेने वाले हैं. पीएम मोदी के साथ कई कैबिनेट मंत्री भी शपथ ले सकते हैं. क्या आपको कैबिनेट मंत्री, राज्य मंत्री और मंत्री के अंतर के बारे में पता है. अगर नहीं तो आइए विस्तार से इसके बारे में जानते हैं.

auth-image
India Daily Live
PM Modi Oath Ceremony
Courtesy: Social Media

PM Modi Oath Ceremony: लोकसभा चुनाव 2024 में जीत हासिल करने के बाद BJP ने एक बार फिर से नरेंद्र मोदी को अपना नेता चुन लिया है. लोकसभा चुनाव में BJP ने 543 सीटों में से 240 सीटें हासिल की जो बहुमत से 32 सीटें कम थी. वहीं, BJP ने साल 2019 में 303 सीटें जीती थी. 

बता दें, नरेंद्र मोदी तीसरी बार प्रधानमंत्री पद की शपथ लेने वाले हैं. मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक नौ जून को नरेंद्र मोदी प्रधानमंत्री पद की शपथ लेंगे. पीएम मोदी के साथ कई कैबिनेट मंत्री भी शपथ ले सकते हैं. क्या आपको कैबिनेट मंत्री, राज्य मंत्री और मंत्री के अंतर के बारे में पता है. अगर नहीं तो आइए विस्तार से इसके बारे में जानते हैं.

कैबिनेट मंत्री

केंद्रीय मंत्रिमंडल में तीन तरह के मंत्री होते हैं. जहां पहले नंबर पर कैबिनेट मंत्री इसके बाद राज्य मंत्री और अंत में मंत्री आते हैं. इन तीनों में से सबसे ज्यादा पावर कैबिनेट मंत्री के पास होती है. कैबिनेट मंत्री के पास अपने मंत्रालय की पूरी जिम्मेदारी होती है. कैबिनेट मंत्री के पास एक से ज्यादा मंत्रालय भा हो सकते हैं. कैबिनेट की हर हफ्ते होती है जिसमें कैबिनेट मंत्री का शामिल होना जरूरी है. कैबिनेट की बैठक में ही सरकार अपने फैसले लेती है. 

राज्यमंत्री

आमतौर पर कैबिनेट मंत्री को राज्य मंत्री रिपोर्ट करते हैं. इसके साथ उनके पास मंत्रालय की जिम्मेदारी संभालते हैं. 1 कैबिनेट मंत्री के पास कई राज्य मंत्री भी हो सकते हैं. एक मंत्रालय में कई विभाग होते है जिसकी वजह से ये राज्य मंत्रियों को बांट दिए जाते हैं. जिसकी मदद से कैबिनेट मंत्री को मंत्रालय संभालने में आसानी हो. 

मंत्री

मंत्री को जूनियर मंत्री के नाम से भी जाना जाता है. मंत्री कैबिनेट की बैठक में शामिल नहीं होते हैं और सीधा पीएम को रिपोर्ट करते हैं. जो मंत्रालय मंत्री को दिया जाता है उसकी जिम्मेदारी उनके पास ही होती है. खास मौके पर उन्हें मंत्रालय के मुद्दों पर चर्चा करने की बैठक में बुलाया जाता है.