menu-icon
India Daily
share--v1

Mandi Lok Sabha Result: विक्रमादित्य सिंह को हराकर सांसद बन गईं कंगना रनौत, अब छोड़ देंगी बॉलीवुड?

Mandi Lok Sabha Seat Result: हिमाचल प्रदेश की मंडी लोकसभा सीट पर पहली बार चुनाव लड़ने उतरीं एक्ट्रेस कंगना रनौत ने दिग्गज नेता विक्रमादित्य सिंह को हरा दिया है और अब वह लोकसभा की सांसद बन गई हैं.

auth-image
India Daily Live
Mandi Lok Sabha Seat
Courtesy: IDL

हिमाचल प्रदेश की राजनीति में अब बॉलीवुड की 'क्वीन' की सफल एंट्री हो गई है. मंडी लोकसभा सीट से पहली बार चुनाव लड़ने उतरीं कंगना रनौत ने हिमाचल प्रदेश सरकार के दिग्गज मंत्री विक्रमादित्य सिंह को चुनाव हरा दिया है. कंगना रनौत ने विक्रमादित्य को 74 हजार वोटों के अंतर शिकस्त दी. कंगना रनौत ने ऐलान किया था कि अगर वह चुनाव जीतती हैं तो फिल्मों में काम करना छोड़ देंगी और फुल टाइम नेता बनकर हिमाचल प्रदेश की सेवा करेंगी.

बीजेपी की कंगना रनौत को कुल 5,37,022 वोट मिले. वहीं, कांग्रेस के विक्रमादित्य सिंह को 4,62,267 वोट मिले. इसी सीट पर बसपा के प्रकाश चंद भारद्वाज सिर्फ 4393 वोट पाकर तीसरे नंबर पर रहे. NOTA को यहां 5645 वोट मिले

क्या हैं स्थानीय मुद्दे?

मंडी में इस बार विक्रमादित्य सिंह को कांग्रेस ने उतारा है. वह अपने परिवार के साथ-साथ कांग्रेस की भी उम्मीद हैं. वहीं, बीजेपी ने बड़ा दांव खेला है और हिमाचल प्रदेश से ही आने वाली कंगना रनौत को चुनाव में उतारा. पिछले साल की बारिश और बाढ़ के बाद से यहां मची तबाही और उसके बाद की अव्यवस्था यहां सबसे अहम मुद्दा है. इसके अलावा, बीफ का मुद्दा भी काफी समय से चर्चा में है. सड़कों और विकास के मुद्दों को लेकर भी यहां खूब चर्चा हो रही है. हालांकि, दिग्गज नेताओं की जंग में ये मुद्दे इस बार दब भी गए.

जातीय समीकरण

हिमाचल प्रदेश की इस सीट पर राजपूत और ब्राह्मण नेताओं का दबदबा है. मंडी के पहले लोकसभा चुनाव में SC कैंडिडेट गोपी राम की जीत हुई थी. इसके बाद हर बार मंडी का सांसद राजपूत या ब्राह्मण बना है. कुछ मौके ऐसे भी आए जब दो राजपूत चेहरे आमने-सामने थे. इस सीट पर सबसे ज्यादा राजपूत मतदाता हैं. उसके बाद ब्राह्मण, अनुसूचित जाति और अनुसूचित जनजाति के वोटर आते हैं. 33.6 पर्सेंट राजपूत, 29.85 पर्सेंट SC, 21.4 पर्सेंट ब्राह्मण वोटर हैं. इस लोकसभा सीट में आने वाली कुल 17 विधानसभा सीटों में से कुल 5 सीटें SC के लिए आरक्षित हैं.

2019 में कौन जीता था?

हिमाचल प्रदेश के मंडी लोकसभा निर्वाचन क्षेत्र से 2019 के आम चुनाव में बीजेपी नेता राम स्वरूप शर्मा ने बाजी मारी. इनको कुल 647,189 वोट मिले जो कुल डाले गए वोट का 68.75 प्रतिशत है. वही, विरोधी दावेदार इंडियन नेशनल कांग्रेस पार्टी के नेता आश्रय शर्मा को कुल 2,41,730 वोट मिला. जो डाले गए वोट का 25.68 प्रतिशत है. इस चुनाव में नोटा को कुल 5,298 वोट मिला. हालांकि, 2021 के उपचुनाव में कांग्रेस की प्रतिभा सिंह ने बीजेपी के ब्रिगेडियर कुशल ठाकुर को मामूली अंतर से हराकर यह सीट अपने नाम कर ली.

लोकसभा सीट का इतिहास

इस सीट के इतिहास को देखें तो बीजेपी अभी तक यहां कुल पांच बार ही चुनाव जीत पाई है. हिमाचल प्रदेश के वीरभद्र सिंह का परिवार इस सीट का प्रमुख दावेदार रहा है. खुद वीरभद्र सिंह तीन बार और उनकी पत्नी प्रतिभा सिंह तीन बार सांसद बन चुकी हैं. 1952 में यहां राजकुमारी अमृत कौर भी सांसद बनी थीं. इसके अलावा, सुखराम, महेश्वर सिंह और राम स्वरूप शर्मा जैसे नेता भी मंडी का प्रतिनिधित्व कर चुके हैं.