share--v1

भारत की वह टीम जिसने 200 घंटे बातचीत, 300 द्विपक्षीय बैठकों के बाद G 20 घोषणापत्र पर दिगग्ज नेताओं से भरवाई हामी

भारत के जी 20 शेरपा अमिताभ कांत ने रविवार को भारतीय राजनयिकों की टीम को सराहा है.उन्होंने कहा कि उनकी टीम के प्रयासों की वजह से जी 20 घोषणापत्र पर आम सहमति बन पाई है.

auth-image
Shubhank Agnihotri


नई दिल्लीः भारत के जी 20 शेरपा अमिताभ कांत ने रविवार को भारतीय राजनयिकों की टीम को सराहा है. उन्होंने बताया कि उनकी इस टीम ने जी 20 शिखर सम्मेलन में अपनाए गए नई दिल्ली घोषणापत्र पर आम सहमति बनाने के लिए 200 घंटों की बातचीत और 300 द्विपक्षीय बैठकों का सहारा लिया है.   

पहले दिन ही मिल गई सहमति 
जी 20 शेरपा अमिताभ कांत ने सोशल मीडिया एक्स पर कहा कि ज्वाइंट सेक्रेटरी एनम गंभीर और के नागराज सहित राजनयिकों की एक टीम ने अन्य देशों के सचिवों के साथ 300 द्विपक्षीय बैठकें कीं और रूस-यूक्रेन वॉर को लेकर 15 मसौदे जारी किए. कांत ने कहा कि जी 20 के नेताओं के शिखर सम्मेलन के पहले दिन ही दिल्ली घोषणापत्र पर आम सहमति बन गई. कांत ने एक्स पर लिखा कि जी 20 का सबसे जटिल मुद्दा भी-राजनीतिक ( रूस-यूक्रेन ) पर आम सहमति को बनाना था.


पोस्ट की तस्वीर 
जी 20 में भारत के शेरपा कांत ने कहा कि नायडू और गंभीर की मेहनत और प्रयासों की बदौलत उन्हें सफलता मिली. कांत ने एक तस्वीर पोस्ट करते हुए कैप्शन में लिखा कि अपनी युवा और प्रतिबद्ध अधिकारियों की टीम के साथ. जिन्होंने जी 20 घोषणापत्र को सफल बनाने के लिए जी-तोड़ मेहनत की है.


शशि थरूर ने भी सराहा 
इस बीच कांग्रेस के सीनियर लीडर शशि थरूर ने दिल्ली घोषणापत्र पर सभी देशों के द्वारा अपनाए जाने पर अमिताभ कांत की सराहना की है. उन्होंने कहा कि जी 20 भारत के लिए गर्व का पल था. उन्होंने अपनी एक्स पोस्ट में लिखा कि ऐसा लगता है जब आपने आईएस चुना तो आईएफएस ने एक टॉप राजनयिक को खो दिया.

 

यह भी पढ़ेंः जी 20 की तैयारियों में मुझे अपने समकक्षों से मिली बेहद चुनौती: अमिताभ कांत