menu-icon
India Daily
share--v1

भारतीय वायुसेना में शामिल हुआ घातक हेरोन मार्क-2 ड्रोन, पलक झपकते ही दुश्मन को कर सकता है तबाह, जानिए क्या है इसकी खूबी

Heron Mark 2 Drones : नॉर्दर्न सेक्टर के फॉरवर्ड एयरबेस पर तैनात किए गए एडवांस हेरोन मार्क-2 ड्रोन मिसाइल हमला करने में सक्षम है. यह एयर टू एयर और एयर टू ग्राउंड मिसाइल हमला बड़े आराम से कर सकता है.

auth-image
Gyanendra Tiwari
भारतीय वायुसेना में शामिल हुआ घातक हेरोन मार्क-2 ड्रोन, पलक झपकते ही दुश्मन को कर सकता है तबाह, जानिए क्या है इसकी खूबी

नई दिल्ली. Indian Air Force:  भारतीय वायुसेना दिनों दिन मजबूत होती जा रही है. चीन और पाकिस्तान आए दिन भारत को आंख उठाकर देखते रहते हैं. अब हमारे पड़ोसियों को हमारी ओर आंख उठाकर देखने के लिए एक बार सोचना होगा क्योंकि भारतीय वायुसेना के बेड़े में हेरोन मार्क 2 शामिल हो गया है. ये ड्रोन कई प्रकार के हथियारों से लैश है. हेरोन मार्क-2 को  इजरायल की इजरायल एयरोस्पेस इंडस्ट्रीज (IAI) ने  निर्मित किया है.

यह भी पढ़ें- Independence Day Special: हाथ में गीता लेकर 18 साल की उम्र में चूम लिया फांसी का फंदा... जानें सबसे कम उम्र के क्रांतिकारी खुदीराम बोस की कहानी

हेरोन ड्रोन मार्क 2 दुश्मन के किसी भी ठिकाने को निशाना बनाने में सक्षम है. जैसे अमेरिका ने पाकिस्तान में घुसकर अलकायदा के चीफ ओसामा बिन लादेन को मौत के घाट उतार दिया था ठीक उसी प्रकार भारतीय वायुसेना में शामिल हुआ ये ड्रोन भी पाकिस्तान के कब्जे वाले कश्मीर में घुसकर दुश्मनों का सफाया कर सकता है. इस ड्रोन की खासियत है कि यह पलक झपकते ही विरोधियों को तबाह कर सकता है.

36 घंटो तक उड़ सकता है
न्यूज एजेंसी एएनआई  के मुताबिक हेरोन ड्रोन मार्क 2 हवा में 36 घंटों तक लगातार उड़ने की क्षमता रखता है. इसे आधुनिक तकनीक से लैश किया गया है. ये ड्रोन रिमोट प्रणाली से बड़ी आसानी से काफी दूर से भी संचालित किया जा सकता है. ज्यादा ठंड वाले इलाके जैसे लद्दाख और कश्मीर में भी ये अपने काम को अंजाम देने की ताकत रखता है.

मिसाइल हमला करने में सक्षम
नॉर्दर्न सेक्टर के फॉरवर्ड एयरबेस पर तैनात किए गए एडवांस हेरोन मार्क-2 ड्रोन मिसाइल हमला करने में सक्षम है. यह एयर टू एयर और एयर टू ग्राउंड मिसाइल हमला बड़े आराम से कर सकता है. इसे एंटी टैंक हथियारों और बड़े-बड़े बमों से लैस किया जा सकता है.

ऊंची उड़ान
हेरोन ड्रोन में सैटेलाइट कम्युनिकेशन सिस्टम की सुविधा दी गई है. ये 35 हजार फीट की ऊंचाई पर जाकर हिंदुस्तान की निगरानी करने में सक्षम हैं. भारतीय वायुसेना प्रोजेक्ट चीता पर काम कर रही है. इसके तहत 70 हेरोन ड्रोन को अपग्रेड करके नई तकनीक से लैश किया जाएगा.

यह भी पढ़ें-  Independence Day Special: दक्षिण की वो वीरांगना 'लक्ष्मीबाई' जिसने अंग्रेजों को चटाई थी धूल, घुटनों पर आ गए थे दुश्मन