menu-icon
India Daily
share--v1

मानसून की पहली ही बारिश में बदहाल हुई मुंबई, जलभराव को लेकर शिवसेना यूबीटी ने सीएम शिंदे पर साधा निशाना

जलभराव को लेकर विपक्षी दल शिवसेना यूबीटी के प्रवक्ता आनंद दुबे ने महाराष्ट्र की शिंदे सरकार पर जमकर निशाना साधा. उन्होंने कहा, 'सीएम ने जल निकासी को लेकर कई बैठकें की थीं, सीएम लगातार साफ-सफाई का जायजा लेते रहे लेकिन कुछ नहीं बदला.'

auth-image
Manish Pandey
मानसून की पहली ही बारिश में बदहाल हुई मुंबई, जलभराव को लेकर शिवसेना यूबीटी ने सीएम शिंदे पर साधा निशाना

Mumbai Rain: मुंबई में रविवार को मानसून की पहली बारिश हुई और पहली बारिश में ही मुंबई हर साल की तरह पानी-पानी हो गई। बारिश के कारण मुंबई के कई इलाके जलमग्न हो गए जिसकी वजह से लोगों को परेशानी का सामना करना पड़ रहा है. शनिवार से हो रही बारिश के कारण मुंबई और उसके आसपास के इलाकों में जलभराव हो गया। इससे रविवार को सड़कों पर वाहनों की आवाजाही प्रभावित हुई। भारी बारिश की वजह से तटीय इलाकों में बाढ़ जैसे हालात बन गए. हालांकि सीएम शिंदे ने बाद में बाढ़ प्रभावित तटीय इलाकों का जायजा लिया।

जलभराव को लेकर शिवसेना यूबीटी ने सीएम शिंदे पर साधा निशाना
बारिश की वजह से मुंबई के कई इलाकों में सड़कों पर जलभराव की समस्या देखने को मिली. जलभराव को लेकर विपक्षी दल शिवसेना यूबीटी के प्रवक्ता आनंद दुबे ने महाराष्ट्र की शिंदे सरकार पर जमकर निशाना साधा. उन्होंने कहा, 'सीएम ने जल निकासी को लेकर कई बैठकें की थीं, सीएम लगातार साफ-सफाई का जायजा लेते रहे लेकिन कुछ नहीं बदला.'

उन्होंने कहा कि मानसून की पहली बरसात में ही मुंबई की हालत क्या हो गई ये आप देख रहे हैं। जगह-जगह पानी भर गया है, जलजमाव हो गया है। पिछले दो महीने से मुख्यमंत्री जी बड़े-बड़े अधिकारियों के साथ, दल-बल के साथ नालियों की सफाई का जायजा ले रहे हैं। गली-गली घूम रहे थे, नालियों की सफाई जिस ढंग से होनी चाहिए थी नहीं हुई. उन्होंने कहा कि इसमें बहुत बड़े भ्रष्टाचार की आशंका है।

सोमवार-मंगलवार के लिए जारी हुआ येलो अलर्ट
आईएमडी मुंबई की वैज्ञानिक सुषमा नायर ने बताया कि तेज बारिश की आशंका के मद्देनजर मुंबई में सोमवार और मंगलवार के लिए येलो अलर्ट जारी किया गया है. उन्होंने कहा कि अगर हम मानसून के बारे में बात करें तो सक्रिय मानसून की स्थिति की वजह से हम मानसून के बढ़ने की उम्मीद कर रहे हैं और आने वाले चार से पांच दिनों में हम तटीय इलाकों और आंतरिक महाराष्ट्र के कुछ इलाकों में ज्यादा बारिश की उम्मीद कर रहे हैं.