share--v1

यूपी में जज ने फांसी लगाकर दी जान; पीछे रह गए कई अनसुलझे सवाल

मूलरूप से मऊ जिले की रहने वाली ज्योत्सना राय सिविल जज जूनियर डिवीजन के पद पर तैनात थीं. बताया गया है कि करीब एक साल पहले उनकी बदायूं में पोस्टिंग हुई थी. इससे पहले वे अयोध्या में नियुक्त थीं.

auth-image
Naresh Chaudhary
फॉलो करें:

Crime News: उत्तर प्रदेश बदायूं जिले से एक सनसनीखेज खबर सामने आ रही है. यहां एक सिविल कोर्ट की एक न्यायाधीश का शव उनके सरकारी आवास में फांसी के फंदे पर लटका मिला है. जानकारी मिलते ही पूरे शहर में सनसनी फैल गई. जिला जज, जिलाधिकारी, एसएसपी समेत बड़ी संख्या में न्याय विभाग के अधिकारी मौके पर पहुंचे. वहीं पुलिस ने घर का दरवाजा तोड़कर उनका शव बाहर निकाला. फोरेंसिक टीम ने भी मौके से कई साक्ष्य जुटाए हैं. वहीं पुलिस ने जज के परिवार वालों को भी मामले की जानकारी दे दी है. 

जानकारी के मुताबिक ये घटना बदायूं के जजी कॉलोनी की है. मूलरूप से मऊ जिले की रहने वाली ज्योत्सना राय सिविल जज जूनियर डिवीजन के पद पर तैनात थीं. बताया गया है कि करीब एक साल पहले उनकी बदायूं में पोस्टिंग हुई थी. इससे पहले वे अयोध्या में नियुक्त थीं.

यहां वे अपनेसरकार आवास में रह रही थीं. एक स्थानीय मीडिया रिपोर्ट में बताया गया है कि शनिवार यानी आज सुबह काफी देर तक उनके घर में कोई हलचल नहीं हुई. आसपास के लोगों को कुछ शक हुआ तो पुलिस को मामले की जानकारी दी गई.

पुलिस की सूचना पर पहुंचे जिले के बड़े अधिकारी

सूचना पर पहुंची पुलिस ने दरवाजे को काफी खटकाया, लेकिन अंदर से कोई भी जवाब नहीं मिला. इसके बाद पुलिस ने अपने वरिष्ठ अधिकारियों को मामले की सूचना दी. सूचना पर पुलिस विभाग के आला अधिकारी, न्याय विभाग के अधिकारी और प्रशासनिक अधिकारी मौके पर पहुंच गए.

उधर पुलिस ने सरकारी आवास का दरवाजा तोड़कर जज का शव बाहर निकाला. पुलिस ने शव को पोस्टमार्टम के लिए भेजा है. उधर फोरेंसिक टीम छानबीन में लग गई है. हालांकि पुलिस को अभी तक आत्महत्या का कारण पता नहीं चल पाया है. 

Also Read

First Published : 03 February 2024, 01:45 PM IST