menu-icon
India Daily
share--v1

बजरंग पूनिया और विनेश फोगाट को ट्रायल्स से छूट देने बृजभूषण सिंह के बोल- "इस फैसले से कुशती के खेल का होगा नुकसान"

Brijbhushan Singh: रेसलर बजरंग पुनिया और विनेश फोगाट को ट्रायल के बिना ही एशियन गेम में खेलने के लिए सीधे एंट्री मिल गई है.

auth-image
Avinash Kumar Singh
बजरंग पूनिया और विनेश फोगाट को ट्रायल्स से छूट देने बृजभूषण सिंह के बोल- "इस फैसले से कुशती के खेल का होगा नुकसान"

नई दिल्ली: रेसलर बजरंग पुनिया और विनेश फोगाट को ट्रायल के बिना ही एशियन गेम में खेलने के लिए सीधे एंट्री मिल गई है. बृजभूषण शरण सिंह के खिलाफ यौन अपराधों के लिए जंतर मंतर पर प्रदर्शन करने वाले पहलवान विनेश फोगाट और बजरंग पुनिया को बिना ट्रायल के ही एशियन गेम्स में खेलने के लिए एंट्री मिलने के बाद सांसद बृजभूषण शरण सिंह ने अपनी प्रतिक्रिया जाहिर की है.

बजरंग पूनिया और विनेश फोगाट को ट्रायल्स से छूट देने पर भड़के बृजभूषण सिंह

बृजभूषण शरण सिंह ने बड़ा बयान देते हुए कहा कि "मैं एड हॉक समिति के फैसले से निराश हूं. इससे इस देश में कुश्ती के खेल को नुकसान होगा. ये नियम मैंने खुद नहीं बनाया. हमने कई देशों के नियमों का अध्ययन किया, कुछ कोचों की सलाह ली और पिछले साल छूट की अवधारणा को समाप्त करने से पहले पहलवानों से भी सलाह ली. इसे पहले कार्यकारी समिति और फिर सामान्य सभा की बैठक में पारित किया गया"

बीजेपी सांसद ने कहा कि "तदर्थ समिति ने जो फैसला किया, उससे मैं काफी दुखी हूं. ये निर्णय इस देश की कुश्ती को गर्त में मिला देगा. इस खेल को ऊपर लाने में काफी लोगों ने मेहनत की है. खिलाड़ियों ने उनके माता-पिता ने और इस खेल के प्रशंसकों ने बहुत मेहनत की है आज देश के अंदर एक ही खेल कुश्ती ऐसा है जिसके अंदर ओलंपिक में पदक गारंटी माना जाता है. एशियाई खेल जैसे टूर्नामेंट में बिना ट्रायल्स के इन पहलवानों को भेजने का फैसला बहुत ही दुर्भाग्यपूर्ण है"

यह भी पढ़ें: देश मे गरीबी की सीमा तय करने का क्या रहा है इतिहास, आजाद भारत से लेकर नीति आयोग की रिपोर्ट में क्या कुछ बदला

एशियन गेम्स के लिए बिना ट्रायल बजरंग पूनिया और विनेश फोगाट को मिली एंट्री

भारतीय कुश्ती महासंघ की तदर्थ समिति ने ओलंपिक पदक विजेता बजरंग पूनिया और विश्व चैंपियनशिप पदक विजेता विनेश फोगाट को बड़ी राहत दी है. WFI की तदर्थ समिति ने इन दोनों खिलाड़ियों को एशियाई खेलों के लिए बिना ट्रायल सीधे प्रवेश दे दिया है. राष्ट्रीय मुख्य कोच की सहमति के बिना ये निर्णय लिया गया है. ऐसे में इस फैसले पर अंतरराष्ट्रीय पहलवान योगेश्वर दत्त ने सवाल खड़े किए हैं.

यह भी पढ़ें: BJP ने हिमाचल प्रदेश में किया बड़ा बदलाव, 17 संगठनात्मक जिलों में नियुक्ति किए गए जिला अध्यक्ष