menu-icon
India Daily
share--v1

रमेश बिधूड़ी को BJP ने जारी किया कारण बताओ नोटिस, विवादित बयान को लेकर ओम बिड़ला की कड़ी चेतावनी

Ramesh Bidhuri: बीजेपी अध्यक्ष जेपी नड्डा ने दक्षिण दिल्ली से बीजेपी सांसद रमेश बिधूड़ी को असंसदीय भाषा के प्रयोग को लेकर कारण बताओ नोटिस जारी किया है.

auth-image
Avinash Kumar Singh
रमेश बिधूड़ी को BJP ने जारी किया कारण बताओ नोटिस, विवादित बयान को लेकर ओम बिड़ला की कड़ी चेतावनी

नई दिल्ली: बीजेपी अध्यक्ष जेपी नड्डा ने दक्षिण दिल्ली से बीजेपी सांसद रमेश बिधूड़ी को असंसदीय भाषा के प्रयोग को लेकर कारण बताओ नोटिस जारी किया है. अब बीजेपी सांसद रमेश बिधूड़ी को कारण बताओ नोटिस का 15 दिन के अंदर जवाब देना होगा. जारी किये गए नोटिस में बिधूड़ी से पूछा गया है क्यों नहीं उनके खिलाफ असंसदीय भाषा के इस्तेमाल के लिए कार्रवाई की जाए?

'मामले को विशेषाधिकार समिति को भेजा जाने की मांग'

अपने ऊपर किये गए विवादित बयान को लेकर BSP सांसद दानिश अली ने लोकसभा स्पीकर ओम बिरला को लेटर लिखा. सांसद दानिश अली ने इस मामले को विशेषाधिकार समिति को भेजा जाने की मांग की है. विवाद बढ़ते देख लोकसभा स्पीकर ओम बिरला के आदेश पर बीजेपी सांसद रमेश बिधूड़ी के विवादित बयान को रिकॉर्ड से हटा दिया गया है. इसके साथ ही साथ लोकसभा अध्यक्ष ओम बिरला ने सदन में बीजेपी सांसद रमेश बिधूड़ी को भविष्य में इस तरह के व्यवहार पर कड़ी कार्रवाई की चेतावनी दी.

पढ़िए सांसद रमेश बिधूड़ी ने क्या दिया था विवादित बयान

दरअसल संसद के विशेष सत्र के चौथे दिन यानी गुरुवार को लोकसभा में चंद्रयान-3 की सफलता पर बीजेपी सांसद रमेश बिधूड़ी बोल रहे थे. तभी बीएसपी सांसद दानिश अली ने कोई टिप्पणी की. इस पर रमेश बिधूड़ी ने भड़कते हुए कहा कि "ओए ...ओए उग्रवादी, ऐ उग्रवादी बीच में मत बोलना, ये आतंकवादी-उग्रवादी है, ये मुल्ला आतंकवादी है. इसकी बात नोट करते रहना अभी बाहर देखूंगा इस मुल्ले को'. जब सांसद रमेश बिधूड़ी यह बात बोल रहे थे. उसी दौरान सदन में मौजूद बीजेपी सांसदों की चुप्पी ने विपक्ष को सत्ता पक्ष पर हमला करने का मौका दे दिया.

संसद में रमेश बिधूड़ी की बयान पर बीजेपी सांसद हर्षवर्धन हंसते हुए दिखाई दिखे थे. जिसके बाद उन्होंने सफाई पेश करते हुए कहा कि ''मैंने ट्विटर पर अपना नाम ट्रेंड होते देखा है, जहां लोगों ने मुझे इस दुर्भाग्यपूर्ण घटना में बेवजह घसीटा है, जहां दो सांसद सदन में एक-दूसरे के खिलाफ असंसदीय भाषा का इस्तेमाल कर रहे थे.''

यह भी पढ़ें: Land For Job Scam: नौकरी के बदले जमीन मामले में लालू परिवार की बढ़ी मुश्किलें, कोर्ट ने लालू, राबड़ी, तेजस्वी समेत 17 को जारी किया समन