share--v1

Bihar Floor Test: मांझी का डोलेगा मन! राजद विधायक 'नजरबंद'; बिहार में फ्लोर टेस्ट से सियासत तेज

Bihar Floor Test: बिहार में फ्लोर टेस्ट से पहले राजनीति तेज हो गई है. विपक्ष का दावा है कि फ्लोर टेस्ट वाले दिन खेला होगा. वहीं, सत्ता पक्ष में शामिल दलों के नेताओं का कहना है कि खेला वाले दावे में कोई दम नहीं है, सब अफवाह है.

auth-image
Om Pratap
फॉलो करें:

Bihar Floor Test: बिहार में फ्लोर टेस्ट से पहले सियासी हलचल तेज हो गई है. राजद विधायकों को नजरबंद करने की खबर है, तो वहीं विपक्ष के विधायक ने जीतनराम मांझी से मुलाकात की है. उधर, जेडीयू खेमे ने अपने विधायकों को व्हिप जारी किया है, जबकि भाजपा अपने विधायकों को लेकर बोधगया में मौजूद है. फ्लोर टेस्ट के एक दिन 'यही रात अंतिम यही रात भारी' वाली स्थिति हो गई है. कहा जा रहा है कि सभी पार्टियां अपने-अपने विधायकों पर पूरी नजर रखे हुए है और विधायकों को ठीक फ्लोर टेस्ट से पहले विधानसभा ले जाया जाएगा. 

इन तमाम खबरों के बीच सबकी नजर जीतनराम मांझी पर टिकी हुई है. जीतनराम मांझी अपनी पार्टी के दो विधायकों को मंत्री बनाए जाने की मांग को लेकर नाराजगी जता चुके हैं. हालांकि उनके बेटे नीतीश सरकार में मंत्री हैं, लेकिन उनकी मांग है कि उनकी पार्टी के एक और विधायक को मंत्री बनाया जाए.

बाराचट्टी से उनकी पार्टी की विधायक ज्योति देवी (जीतनराम मांझी की समधन) भी खुद को मंत्रिमंडल में देखने की इच्छा जता चुकी है. उनका तर्क है कि हर बार पुराने मंत्रियों को ही सरकार में शामिल किया जाता है, नए मंत्रियों को आखिर कब मौका मिलेगा. उन्होंने ये भी तर्क दिया कि मंत्रिमंडल में एक भी महिला मंत्री नहीं है, लिहाजा मुझे भी मंत्री बनाया जाए.

जीतनराम मांझी का डोलेगा मन?

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, जीतनराम मांझी ही वो शख्स हैं, जिनका मन डोल सकता है, क्योंकि उन्हें राजद की ओर से मुख्यमंत्री पद का ऑफर भी दिया जा चुका है, जबकि शनिवार शाम उनकी विपक्ष के एक एमएलए से मुलाकात भी हुई है. कहा जा रहा है कि विपक्ष के जिस एमएलए ने मांझी से मुलाकात की है, वो लालू यादव के खास हैं और कोई मैसेज लेकर मांझी के पास पहुंचे थे.

 

हालांकि, जीतनराम मांझी ने विपक्ष के एमएलए महबूब आलम से मुलाकात को लेकर कहा है कि मेरी और महबूब आलम की पुरानी दोस्ती है, वो अक्सर मुझसे मुलाकात करने आते हैं. सियासी चर्चा को लेकर पूछे गए सवाल पर जीतनराम मांझी ने साफ कहा कि कोई सियासी चर्चा नहीं हुई है.

राजद के विधायक नजरबंद?

मीडिया रिपोर्ट्स में दावा किया जा रहा है कि शनिवार को राजद के कुछ विधायकों को तेजस्वी यादव ने अपने आवास पर बुलाया था. इस दौरान बैठक में आगामी रणनीति पर चर्चा हुई. इसके बाद तेजस्वी यादव ने सभी विधायकों को अपने आवास पर रोक लिया. ये दावा भाजपा के नेता निखिल आनंद की ओर से किया गया है. उन्होंने कहा कि तेजस्वी अपने विधायकों में टूट की आशंका के मद्देनजर उन्हें नजरबंद कर लिया है. सभी विधायकों को फ्लोर टेस्ट से ठीक पहले विधानसभा ले जाया जाएगा. 

भोज के बाद जदयू ने जारी किया व्हिप

उधर, जदयू ने अपने विधायकों के लिए शनिवार को मंत्री श्रवण कुमार के घर पर लंच का आयोजन किया था, लेकिन कुछ विधायक लंच पर नहीं पहुंचे. कहा जा रहा है कि आज भी जदयू विधायकों के लिए डिनर का आयोजन किया गया है. देखने वाली बात होगी कि सभी विधायक डिनर पर आते हैं या नहीं. दावा ये भी किया जा रहा है कि जदयू की ओर से व्हिप भी जारी किया गया है. व्हिप में सभी विधायकों से 12 फरवरी को विधानसभा में मौजूद रहने के लिए कहा गया है. 

सियासी उठापटक के बीच NDA सरकार का नौकरी वाला दांव

राज्य में जारी सियासी हलचल के बीच एनडीए सरकार की ओर से नौकरी वाला दांव खेला गया है. राज्य में NDA सरकार की ओर से 30 हजार से ज्यादा नई नौकरियों का पिटारा खोला गया है. राज्य के डिप्टी सीएम सम्राट चौधरी ने सोशल मीडिया पोस्ट के जरिए नई नौकरियों की जानकारी दी. उन्होंने पोस्ट में लिखा- मैंने मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के निर्देश के अनुसार 30 हजार 547 नए पदों की स्वीकृति प्रदान की है. 

28 जनवरी को बिहार में नई सरकार के बनने के बाद अब बारी फ्लोर टेस्ट की है. कल यानी सोमवार को विधानसभा में फ्लोर टेस्ट होना है. इस दौरान नए स्पीकर का भी चुनाव होगा. 

 

Also Read

First Published : 11 February 2024, 06:42 AM IST