menu-icon
India Daily
share--v1

Baramati Lok Sabha Result 2024: बारामती में खड़ीं थीं ननद-भौजाई, जानें किसने विजय पाई

Baramati Lok Sabha Result 2024: महाराष्ट्र की बारामती सीट से इस लोकसभा चुनाव में ननद और भौजाई की लड़ाई में ननद ने बाजी मारी है. अपनी ही भाभी को हराकर बड़े अंतर से हराकर दिल्ली का रास्ता तय कर लिया है.

auth-image
India Daily Live
सुनेत्रा पवार
Courtesy: IDL

Baramati Lok Sabha Result 2024: महाराष्ट्र की सबसे हॉट सीटों में से एक बारामती इस बार सबसे ज्यादा चर्चा का विषय रहीं. क्योंकि इस सीट पर ननद-भौजाई एक दूसरे के आमने सामने थीं. इस सीट के नतीजे आ चुके हैं. चुनावी नतीजें ननद के पक्ष में हैं. ननद यानी सुप्रिया सुले ने अपनी भाभी सुनेत्रा पवार को हराया है. उन्होंने 158333 मतों के अंतर से चुनाव जीता. सुप्रिया को 732312 वोट मिले, जबकि सुनेत्रा को 573979 वोट मिले.

इस बार यहां का सबसे अहम मुद्दा पवार परिवार का आपसी विवाद रहा. पहली बार परिवार के लोग ही आमने-सामने थे. सुप्रिया सुले बारामती की सांसद हैं लेकिन इस बार उन्हें उनकी ही भाभी सुनेत्रा पवार ने चुनौती दी. महा विकास अघाड़ी बनाम महायुति की जंग की वजह से इस बार कांग्रेस, शिवसेना या बीजेपी ने यहां से अपने उम्मीदवार नहीं उतारे. मौजूदा सांसद को चुनौती देने वाली उनकी ही भाभी हैं ऐसे में मुद्दों को लेकर बेहद कम चर्चा हुई है. 

जातीय समीकरण

पवार परिवार का गढ़ मानी जाने वाली इस लोकसभा सीट मराठी वोटरों का वर्चस्व रहा है. इस सीट पर एक लाख मुस्लिम मतदाता भी हैं. पवार जाति के 70 हजजार, शिंदे 65 हजार, ब्राह्मण 80 हजार, गायकवाड़ 30 हजार, चौहान 25 हजार और अनुसूचित जाति के 2.5 लाख मतदाता हैं. हालांकि, हर बार यहां पवार परिवार का दबदबा बना रहता है. इस बार परिवार में दोफाड़ हो जाने की वजह से यहां का मुकाबला बेहद रोमांचक रहा.

2019 में कौन जीता था?

महाराष्ट्र राज्य के लोकसभा निर्वाचन क्षेत्र बारामती से 2019 के आम चुनाव में एनसीपी की सुप्रिया सुले ने बाजी माजी. उन्हें कुल 686,714 वोट मिलें जो कुल मतों का 52.63 प्रतिशत है. वहीं, बीजेपी कैंडिडेट कंचन राहुल को कुल को 5,30,940 वोट मिले, जो कि कुल मतों का 40.69 प्रतिशत है. वंचित बहुजन अघाड़ी के उम्मीदवार ननवंत पडालकर को सिर्फ 44 हजार वोट मिले थे.


लोकसभा सीट का इतिहास

महाराष्ट्र की यह लोकसभा सीट इस बार प्रदेश की सबसे चर्चित सीट है. पवार परिवार की सीट रही इस सीट पर खुद शरद पवार 6 बार चुनाव जीत चुके हैं. अजित पवार एक बार और सुप्रिया सुले तीन बार यहां से जीत चुकी हैं. इस सीट पर कांग्रेस कुल मिलाकर 12 बार चुनाव जीत चुकी है. पवार परिवार के अलावा, 1957 में केशवराव जेधे, 1960 और 1962 में गुलाबराव जेधे, 1967 में तुलसीदास जाधव, 1971 में आर के खडलिकर, 1977 में शंभाजीराव काकड़े, 1980 में शंकरराव बाजीराव पाटिल और 1994 में बापूसाहब थिटे चुनाव जीते हैं.