menu-icon
India Daily
share--v1

अशोक गहलोत का बड़ा बयान, कहा- 'मोदी की उनकी पार्टी में कम हो रही इज्जत, बीजेपी में उनके खिलाफ हो सकता है विद्रोह'

Ashok Gehlot: अशोक गहलोत ने कहा कि हर घर में एक कांग्रेसी है, बीजेपी का कांग्रेस मुक्त भारत का सपना कभी पूरा नहीं होगा.

auth-image
Sagar Bhardwaj
अशोक गहलोत का बड़ा बयान, कहा- 'मोदी की उनकी पार्टी में कम हो रही इज्जत, बीजेपी में उनके खिलाफ हो सकता है विद्रोह'

नई दिल्ली: राजस्थान सीएम अशोक गहलोत ने पीएम मोदी पर जोरदार निशाना साधा है. उन्होंने कहा कि मोदी सरकार में नफरत बढ़ रही है और घृणा का माहौल है. सीएम गहलोत ने कहा कि जगह-जगह हिंसा हो ही है, संविधान की धज्जियां उड़ रही हैं, लोकतंत्र खतरे में है.

'चुनाव आते ही आ जाती है नेहरू की याद'
अशोक गहलोत ने कहा कि हम चाहते हैं कि सभी धर्मों को लोग मिलजुलकर रहें. कांग्रेस का यही सिद्धांत है. उन्होंने कहा कि भाजपा पिछले 75 सालों से नेहरू, गांधी और सरदार पटेल का नाम नहीं ले रही, लेकिन चुनाव आते ही उन्हें उनकी याद आ जाती है.

'इंदिरा, राजीव ने जान पर खेलकर की सभी धर्मों की रक्षा'
सीएम ने कहा कि बीजेपी वाले हमें पाठ सिखाते हैं लेकिन इंदिरा गांधी और राजीव गांधी ने अपनी जान पर खेलकर सभी धर्मों की रक्षा की है. उन्होंने कहा कि ये लोग हम पर वंशवाद की राजनीति का आरोप लगाते हैं लेकिन क्या हमने पूछा कि बीजेपी और आरएसएस वाले क्या कर रहे हैं?

'कभी कांग्रेस मुक्त नहीं होगा भारत'
राजस्थान सीएम ने कहा कि बीजेपी वाले कांग्रेस मुक्त भारत की बात करते हैं लेकिन इन्हें नहीं पता कि हर घर में एक कांग्रेसी है, इनका यह सपना कभी भी पूरा नहीं होने वाला.

मोदी के खिलाफ उनकी ही पार्टी में हो सकता है विद्रोह
उन्होंने कहा कि मोदी जी की खुद की इज्जत कम होती जा रही है. देश के अलावा पार्टी में भी उनकी इज्जत कम हो रही है. उनकी पार्टी में ही उनके खिलाफ विद्रोह हो सकता है. 

गहलोत ने कहा कि पीएम मोदी ओबीसी समाज से आते हैं. कम से कम वे ओबीसी समाज का तो सम्मान रखें. पहले बीजेपी की संसदीय दल की बैठक में मोदी जी की जो इज्जत होती थी क्या वैसी इज्जत अब उन्हें मिलती है?  उन्हें अपने पद की गरिमा को समझना चाहिए. उन्होंने कहा कि मोदी जी आपकी पार्टी आपके खिलाफ हो रही है.

यह भी पढ़ें: पुलिस को क्रूर शक्तियों का प्रयोग करने की अनुमति देता है भारतीय न्याय संहिता विधेयक- कपिल सिब्बल