menu-icon
India Daily
share--v1

मणिपुर हिंसा पर अमित शाह के बयान के बाद तस्वीर हुई साफ, CM बीरेने सिंह को न हटाने की बतायी वजह ?

No Confidence Motion Debate : .मणिपुर हिंसा पर गृह मंत्री अमित शाह ने कहा कि सीएम बिरेन सिंह को इसलिए नहीं हटाया क्योंकि वह इस मुद्दे पर केंद्र सरकार का सहयोग कर रहे है. सीएम तब बदलना पड़ता है जब सहयोग ना करे वहां के सीएम एन बीरेन सिंह सहयोग कर रहे हैं.

auth-image
Avinash Kumar Singh
मणिपुर हिंसा पर अमित शाह के बयान के बाद तस्वीर हुई साफ, CM बीरेने सिंह को न हटाने की बतायी वजह ?

नई दिल्ली: विपक्ष की ओर से लाए गए अविश्वास प्रस्ताव पर लोकसभा में चर्चा जारी है.केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह सदन के चर्चा में हिस्सा लेते हुए मणिपुर हिंसा को लेकर बड़ा बयान दिया है.मणिपुर हिंसा पर गृह मंत्री अमित शाह ने कहा कि सीएम बिरेन सिंह को इसलिए नहीं हटाया क्योंकि वह इस मुद्दे पर केंद्र सरकार का सहयोग कर रहे है. सीएम तब बदलना पड़ता है जब सहयोग ना करे वहां के सीएम एन बीरेन सिंह सहयोग कर रहे हैं.

अमित शाह ने कहा कि विपक्ष कहता है कि राज्य में 356 राष्ट्रपति शासन क्यों नहीं लगाया. यह तब लगता है जब हिंसा के वक्त राज्य सरकार सहयोग ना करे. हमने डीजीपी बदला, उन्होंने स्वीकार किया. हमने चीफ सेक्रेटरी बदला, उन्होंने स्वीकार कर लिया. सीएम तब बदलना पड़ता है जब सहयोग ना करे. वहां के सीएम पूरा सहयोग कर रहे हैं.

महिलाओं की वायरल वीडियो पर अमित शाह ने कहा कि किसी ने पूछा कि यह वीडियो संसद के मानसून सत्र शुरू होने से एक दिन पहले ही क्यों सामने आया? अगर किसी के पास वीडियो था तो उसे पुलिस तंत्र को या संसद को देना चाहिए था. इसे सार्वजनिक करने की क्या जरूरत थी? महिलाओं के सम्मान की चिंता करनी चाहिए. चार तारीख की घटना का वीडियो था अगर उसे सार्वजनिक करने की जगह डीजीपी तक पहुंचाया जाता तो पांच तारीख को ही कार्रवाई हो जाती.

मणिपुर हिंसा पर केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने कहा कि मैं मैतेई और कुकी दोनों समुदायों से बातचीत में शामिल होने की अपील करता हूं.हिंसा किसी भी समस्या का समाधान नहीं है. मैं आपको विश्वास दिलाता हूं कि हम राज्य में शांति लाएंगे. इस मुद्दे पर राजनीति नहीं की जानी चाहिए.विपक्ष कहता है कि पीएम मोदी ध्यान नहीं रखते. मैं बताना चाहता हूं कि 3, 4 और 5 मई को पीएम लगातार एक्टिव थे. 3 मई को ही वहां हिंसा शुरू हुई थी. रात को 4 बजे मोदी ने फोन पर मुझसे मणिपुर पर बात की. फिर अगले दिन 6.30 बजे फिर फोन करके मुझे उठाया और चर्चा की. तीन दिन तक हमने लगातार काम किया.

अमित शाह ने राहुल गांधी पर निशाना साधते हुए कहा कि उनका मणिपुर जाना अच्छा था. सभी की संवेदनाएं थीं लेकिन उनका दौरा पूरी तरह से राजनीतिक था. मणिपुर हिंसा अब नियंत्रण में है लेकिन लोगों को आग में घी नहीं डालना चाहिए. राहुल गांधी की यात्रा के दौरान उन्होंने सड़क मार्ग से चुराचांदपुर जाने पर जोर दिया जबकि हमने उनके लिए हेलीकॉप्टर की व्यवस्था की थी. देश ने सारा ड्रामा टीवी पर देखा. अगले दिन वह हेलीकॉप्टर का उपयोग करने गए लेकिन वह पहले ऐसा नहीं कर सके क्योंकि वह अपना विरोध प्रदर्शित करना चाहते थे. संकट के समय इस तरह की राजनीति नहीं की जानी चाहिए. 

यह भी पढ़ें: 'आर्टिकल-370 नेहरू की गलत नीतियों का परिणाम था, अब कश्मीर में कोई...'- संसद में बोले शाह