menu-icon
India Daily
share--v1

अमित शाह ने लोकसभा में 3 अविश्वास प्रस्ताव का किया जिक्र, बोले- "कांग्रेस ने करोड़ों रुपये देकर बचाई थी सरकार"

no confidence motion debate in lok sabha : लोकसभा में अविश्वास प्रस्ताव पर बहस हो रही है. केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह सदन के चर्चा में हिस्सा लेते हुए कहा कि अविश्वास प्रस्ताव पर कोई आपत्ति नहीं है.

auth-image
Avinash Kumar Singh
अमित शाह ने लोकसभा में 3 अविश्वास प्रस्ताव का किया जिक्र, बोले- "कांग्रेस ने करोड़ों रुपये देकर बचाई थी सरकार"

नई दिल्ली: लोकसभा में अविश्वास प्रस्ताव पर बहस हो रही है. केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह सदन के चर्चा में हिस्सा लेते हुए कहा कि अविश्वास प्रस्ताव पर कोई आपत्ति नहीं है.विपक्ष को पूरा अधिकार है अविश्वास प्रस्ताव लेकर आए लेकिन विपक्ष के इस कदम से पार्टियों और गठबंधन के चरित्र उजागर होते हैं. तीन अविश्वास प्रस्ताव का जिक्र करूंगा. दो यूपीए सरकार के खिलाफ थे और एक NDA सरकार के खिलाफ.

1- 1993 में नरसिम्हा सरकार थी. उसके खिलाफ प्रस्ताव आया. नरसिम्हा को सरकार किसी भी तरह सत्ता में बने रहना था. नरसिम्हा अविश्वास प्रस्ताव जीत गई. बाद में कई लोगों को जेल की सजा हुई, इसमें नरसिम्हा राव भी शामिल थे. क्योंकि झारखंड मुक्ति मोर्चा को घूस देकर प्रस्ताव पर जीत हासिल की गयी थी.

2-2008 में मनमोहन सरकार विश्वास प्रस्ताव लेकर आई. ऐसा माहौल था कि इनके पास बहुमत नहीं है. बहुमत था भी नहीं. उस वक्त सबसे कलंकित घटना देखी गई. सांसदों को करोड़ो रुपये की घूस दी गई. कुछ सांसद सदन के सामने आए और संरक्षण मांगा. हालांकि तब सरकार को बचा लिया गया था.

3- 1999 में अटल बिहारी वाजपेयी सरकार थी. अविश्वास प्रस्ताव आया. कांग्रेस ने जो किया वो हम भी कर सकते थे. घूस देकर सरकार बचा सकते थे. लेकिन हमने ऐसा नहीं किया. अटलजी ने इसी जगह बैठकर कहा कि संसद के फैसले को सिर पर चढ़ाऊंगा और सिर्फ एक वोट से सरकार गई. UPA की तरह हम सरकार नहीं बचा सकते थे? बचा सकते थे लेकिन कई बार प्रस्ताव के वक्त चरित्र उजागर होता है.कांग्रेस का चरित्र भ्रष्टाचार का है. वहीं बीजेपी चरित्र सिद्धांत के लिए राजनीति करने वाला है. वाजपेयी की सरकार गई लेकिन अगली बार भारी बहुमत से बिहारी वाजपेयी जीते और पीएम बने.

गृह मंत्री अमित शाह ने यूपीए पर तीखा प्रहार किया. उन्होंने कहा कि यूपीए का सबसे भ्रष्ट चरित्र है. एनडीए का चरित्र सिद्धांतों की राजनीति का है.कांग्रेस ने करोड़ों रुपये देकर सरकार बचाई थी.आज पीएम मोदी ने भ्रष्टाचार भारत छोड़ो,वंशवाद भारत छोड़ो और तुष्टिकरण भारत छोड़ो का नारा दिया है.

यह भी पढ़ें: लोकसभा में अमित शाह का विपक्ष पर चुन-चुन कर वार, "सिर्फ जनता को गुमराह करने के लिए लाया गया अविश्वास प्रस्ताव"