menu-icon
India Daily
share--v1

NIA की वांटेड लिस्ट कम हुआ एक नाम, कनाडा में मारा गया खालिस्तानी सुक्खा

कनाडा में खालिस्तानी गैंगस्टर सुक्खा दुन्नेके की गोली मारकर हत्या कर दी गई है. कनाडा के पीनीपेग सिटी में सुक्खा को गोली मारी गई.

auth-image
Gyanendra Sharma
NIA की वांटेड लिस्ट कम हुआ एक नाम, कनाडा में मारा गया खालिस्तानी सुक्खा

Sukha Duneke: कनाडा में खालिस्तानी गैंगस्टर सुक्खा दुन्नेके की गोली मारकर हत्या कर दी गई है. कनाडा के पीनीपेग सिटी में भारत के A कैटेगरी गैंगस्टर सुखदूल सिंह गिल उर्फ ​​सुक्खा दुन्नेके का कत्ल कर दिया गया है. सूत्रों से मिल रही जनाकारी के अनुसार सुक्खा की हत्या गैंगवार में हुई है. हत्या के पीछ दविंदर बंबीहा गैंग का हाथ बताया जा रहा है. सुक्खा एनआईए के वॉटेड लिस्ट में शामिल था.

शुरुआती जानकारी के अनुसार सुक्खा दुन्नेके को कनाडा के विनीपिग में गोलियां मारी गई हैं. मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक दुनेके पर करीब 15 राउंड फायरिंग हुई है. मौके पर ही उसकी मौत हो गई. यह उन 41 आतंकियों व गैंगस्टरों की सूची में शामिल था, जिसे NIA ने भी जारी किया था. सुक्खा कनाडा में बैठकर भारत में उगाही करता था.

2017 में कनाडा भाग गया था सुक्खा 

सुक्खा पंजाब से साल 2017 में जाली पासपोर्ट तैयार करवा कनाडा फरार हुआ था. उसके खिलाफ भारत में कई केस दर्ज हैं. वह काफी समय से कनाडा में सरण लिए हुए था. सुक्खा को खालिस्तानी आतंकी-गैंगस्टर अर्शदीप सिंह उर्फ अर्श डल्ला का राइट हैंड माना जाता था. वह कनाडा में बैठकर अपने गुर्गों से भारत में रंगदारी वसूलता था. सुक्खा दुन्नेके पंजाब के मोगा के गांव दुन्नेके कलां का रहने वाला है. कैटेगरी 'A' गैंगस्टर सुक्खा दुन्नेके अपराध की दुनिया में प्रवेश करने से पहले मोगा DC कार्यालय में काम करता था. वह 2017 में पुलिस की मदद से जाली दस्तावेजों पर पुलिस क्लीयरैंस सर्टिफिकेट प्राप्त करने के बाद कनाडा भाग गया था.

निज्जर की हो चुकी है हत्या

बता दें कि इसी साल खालिस्तानी नेता हरदीप सिंह निज्जर की कनाडा में गोली मारकर हत्या कर दी गई थी. निज्जर को गुरुद्वारे के बाहर दो नकाबपोश ने गोली मार दी थी. उसकी हत्या के बाद कनाडा से लेकर लंदन तक खालिस्तानी समर्थकों ने प्रदर्शन किया था. हत्या के लिए भारत सरकार को जिम्मेदार ठहराया था.

हरदीप सिंह निज्जर के हत्या को लेकर भारत और कनाडा के बीच तल्खी बढ़ी हुई है. कनाडा के प्रधानमंत्री जस्टिन ट्रू़डो ने संसद से निज्जर की हत्या के लिए भारतीय खुफिया विभाग की संलिप्तता की आशंका जताई. जिसके बाद भारत की तरफ से कड़ी प्रतिक्रिया देते हुए सबूत की मांग की गई.