menu-icon
India Daily
share--v1

Gujarat: गरबा बना मौत का खेल! पिछले 24 घंटे में 10 लोगों की मौत

एक दिन पहले भी राज्य में इसी तरह की घटना सामने आई थी जब बड़ौदा के दाभोई में कार्डियक अरेस्ट से एक 13 साल के बच्चे की मौत हो गई थी.

auth-image
Sagar Bhardwaj
Gujarat: गरबा बना मौत का खेल! पिछले 24 घंटे में 10 लोगों की  मौत

Gujarat: गुजरात के कपड़वंज खेड़ा जिले में 17 साल के वीर शाह नवरात्रि समारोह के दौरान गरबा डांस कर रहे थे तभी उन्हें अचानक चक्कर आया और वह बेहोश होकर गिर गये.

उन्हें तुरंत प्राथमिक उपचार दिया गया और अस्पताल ले जाया गया जहां उन्हें मृत घोषित कर दिया. डॉक्टरों ने बताया कि गरबा खेलने के दौरान उन्हें कार्डियक अरेस्ट (दिल की धड़कन रुक जाना) आया जिसके बाद उनकी मौत हो गई.

वीर के केस के बारे में बताता हुए एमडी मेडिसिन डॉक्टर आयुष पटेल ने कहा कि हमारी टीम ने तुरंत उनका उपचार शुरू किया और कार्डियो रेस्पिरेटरी रिसेसिटेशन किया. हमने उनकी नब्ज टटोली लेकिन उसमें कोई धड़कन नहीं थी. हमें उनमें सांस के कोई संकेत नहीं मिले. उन्हें तीन चरण में सीपीआर दिया गया. इसके बाद हमने उन्हें दूसरे हॉस्लिटल में शिफ्ट किया लेकिन उन्हें मृत घोषित कर दिया गया.

पिछले 24 घंटे में गरबा करते 10 लोगों की मौत


एक रिपोर्ट के मुताबिक, गुजरात में पिछले 24 घंटे में गरबा करते हुए 10 लोगों की मौत हो चुकी है. वीर शाह उन्हीं में से एक थे.

वीर की मौत शुक्रवार को यानी नवरात्रि के छठे दिन हुई. एक दिन पहले भी राज्य में इसी तरह की घटना सामने आई थी जब बड़ौदा के दाभोई में कार्डियक अरेस्ट से एक 13 साल के बच्चे की मौत हो गई थी.

शुक्रवार को ही हुए अन्य मामलों में गरबा खेलने के दौरान अहमदाबाद में 28 साल के रवि पांचाल की  दिल की धड़कन रुक गई, वहीं वड़ौदरा में  55 वर्षीय शंकर राना को भी गरबा खेलने के दौरान कार्डियक अरेस्ट आया और उनकी मौत हो गयी.

इंडिया टुडे की रिपोर्ट के मुताबिक नवरात्रि के शुरुआती 6 दिनों में 108 इमरजेंसी एंबुलेंस सेवाओं को हार्ट से संबंधित 521 फोन कॉल आईं जबकि 609 लोगों ने सांस लेने में दिक्कत की बात कही. इनमें से ज्यादातर फोन शाम 6 बजे से रात 2 बजे के बीच में आए. आम तौर पर इसी समय गरबा का आयोजन होता है.

सरकार ने अस्पतालों को हाई अलर्ट पर किया

हार्ट अटैक के अचानक से बढ़े मामलों के मद्देनजर सरकार ने सभी अस्पतालों को अलर्ट रहने को कहा है. हार्ट अटैक के बढ़ते मामलों ने सरकार के साथ साथ गरबा आयोजकों को भी चिंता में डाल दिया है. राज्य सरकार ने गरबा स्थलों के निकट सभी सरकारी अस्पतालों और सीएचसी (सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र) से हाई अलर्ट पर रहने को कहा है.

गरबा स्थलों पर डॉक्टरों और एम्बुलेंस के इंतजाम किये गए

इसके अलावा गरबा आयोजकों से आपात स्थिति में एम्बुलेंस के आने जाने के लिए स्पेशल कॉरिडोर बनाने को भी कहा गया है.
वहीं कई गरबा आयोजकों ने आयोजन स्थल पर आपात स्थिति के लिए खुद से डॉक्टरों और एम्बुलेंस की तैनाती की है. वे आयोजन स्थलों पर प्रतिभागियों के लिए पर्याप्त मात्रा में पानी की उपलब्धता भी सुनिश्चित कर रहे हैं.

यह भी पढ़ें: डर के साए में आजम खान, जेल शिफ्टिंग के दौरान बोले- मेरा भी हो सकता है एनकाउंटर