menu-icon
India Daily
share--v1

Forbes की 30 अंडर 30 एशिया लिस्ट में भारतीयों का कमाल, किंग-अरपण समेत जानें किन्हें मिली जगह, देखें पूरी लिस्ट

Forbes 30 Under 30 Asia List: फोर्ब्स ने 16 मई को अपनी प्रतिष्ठित 30 अंडर 30 एशिया लिस्ट का नौवां संस्करण जारी किया. यह लिस्ट युवा प्रतिभाओं की तलाश का एक वार्षिक कार्यक्रम है, जो एशिया-प्रशांत क्षेत्र के 30 साल से कम उम्र के उद्यमियों, नेताओं और इनोवेटरों को सम्मानित करता है.

auth-image
India Daily Live
Pop Singer King

Forbes 30 Under 30 Asia List:  फोर्ब्स की ओर से हर साल रिलीज की जाने वाली मशहूर 30 अंडर 30 एशिया लिस्ट जारी कर दी गई है. इस बार 2024 में कला, मनोरंजन, स्पोर्ट्स, फाइनेंस एंड वेंचर कैपिटल, मार्केटिंग एंड एडवरटाइजिंग, रिटेल एंड ई-कॉमर्स, एंटरप्राइज टेक्नॉलजी, मैन्युफैक्चरिंग एंड एनर्जी, हेल्थकेयर एंड साइंस, सोशल इम्पैक्ट एंड कन्ज्यूमर टेक्नॉलजी के 300 युवाओं को शामिल किया गया है.

खुशखबरी यह है कि इस साल कई भारतीयों ने भी इस सम्मानित लिस्ट में जगह बनाई है जिसमें मनोरंजन की फील्ड से अरपण चंदेल (किंग) और पवित्रा चारी का नाम भी शामिल है.

कौन हैं किंग उर्फ अरपण चंदेल

25 वर्षीय अरपण चंदेल, जिन्हें उनके स्टेज नाम किंग से जाना जाता है, ने भारतीय हिप-हॉप जगत में धूम मचा दी है. उन्हें असली पहचान तब मिली जब अमेरिकी पॉप स्टार निक जोनास ने उनके गाने "मान मेरी जान" को पसंद किया और गाया. इसके बाद किंग ने पीछे मुड़कर नहीं देखा. वह 2019 में लोकप्रिय रियलिटी शो एमटीवी हसल में भी नजर आए और तब से उन्होंने कई एल्बम जारी किए हैं. उनकी व्यावसायिक सफलता के अलावा, सोनी ऑडियो ने उन्हें पिछले साल अपना ब्रांड एंबेसडर बनाया और उन्होंने अपनी खुद की खुशबू "ब्लैंको" भी लॉन्च की.

ग्रैमी के लिए नॉमिनेटेड हैं पवित्रा चारी

दूसरी ओर, पवित्रा चारी एक प्रशिक्षित गायिका-संगीतकार हैं, जिन्हें 29 साल की उम्र में ही बड़ी सफलता मिल चुकी है. उन्हें असली पहचान तब मिली जब उनकी जोड़ी "शैडो एंड लाइट" (जिसमें उनके साथी अनिंदो बोस थे) के सहयोग से बने गाने को बर्कली इंडियन एनसेंबल के साथ मिलकर 2023 में ग्रैमी के लिए नॉमिनेट किया गया. पवित्रा की प्रतिभा सिर्फ गाने तक सीमित नहीं है, वह एक बेहतरीन भरतनाट्यम डांसर भी हैं.

कई अन्य युवा भारतीय प्रतिभाओं ने भी फोर्ब्स 30 अंडर 30 एशिया लिस्ट में जगह बनाई है. आइये उस पर भी एक नजर डालते हैं-

कन्ज्यूमर टेक्नॉलजी

कुश जैन ने 2018 में बैंगलोर के एक स्कूल में स्वयंसेवा करते समय दृष्टिबाधित लोगों द्वारा सामना की जाने वाली चुनौतियों का पता लगाया. मदद करने के लिए प्रेरित होकर, उन्होंने ओरामा एआई की सह-स्थापना की. उनका इनोवेटिव सॉल्यूशन एक स्मार्ट ग्ल्व्स है जिसमें नेत्रहीन और कम दृश्यता वाले लोगों को ब्रेल सीखने में मदद करता है. इस दस्ताने में एक एम्बेडेड कैमरा और स्पीकर है, जो उंगली की गतिविधियों को ट्रैक करता है और स्पर्श किए गए ब्रेल डॉट्स का ऑडियो रिकॉगनिशन करता है.

इंडस्ट्री, मैन्युफैक्चरिंग और एनर्जी

  • अक्षित बंसल और रागव अरोड़ा (स्टेटिक) - स्टेटिक इलेक्ट्रिक वाहनों के लिए चार्जिंग स्टेशन का एक राष्ट्रीय नेटवर्क चलाती है.
  • अंकित जैन और नारायण लाल गुर्जर (ईएफ पॉलीमर) - एक फार्मिंग स्टार्टअप है जिसने बायो डिग्रेडेबल सामान से बने वॉटर रिटेंशन प्रोडक्टस विकसित किए हैं.
  • चिराग जैन और राम कृष्णा मेंदु (एंड्यूएयर सिस्टम्स) - एक ड्रोन स्टार्टअप है जिसने मैपिंग, निगरानी और लॉजिस्टिक्स के लिए तीन ड्रोन मॉडल बनाए थे.

एंटरप्राइज टेक्नॉलजी

  • कुणाल अग्रवाल - 2019 में उन्होंने Credflow लॉन्च किया, जो छोटे और मध्यम उद्यमों के लिए कैशफ्लो प्रबंधन सॉफ्टवेयर प्रदान करता है.
  • गौरव पियूष, मयंक वर्ष्णेय और यश शर्मा - 2020 में मिलकर उन्होंने ब्लिट्ज (पूर्व में ग्रो सिंपली) की स्थापना की. यह गोदामों और पूर्ति केंद्रों के नेटवर्क का उपयोग करके उसी दिन या अगले दिन डिलीवरी सेवाएं प्रदान करने वाला एक लॉजिस्टिक स्टार्टअप है.
  • आदित्य दादिया - 2022 में उन्होंने AIwrite की स्थापना की, जो भारत के बीमा क्षेत्र के लिए नया डिजिटल सॉफ्टवेयर प्रदान करता है.

फाइनेंस एंड वेंचर कैपिटल

  • आलेश अवलानी (सीडब्ल्यूसी) - उन्होंने 2019 में क्रेडिट वाइज कैपिटल (सीडब्ल्यूसी) की सह-स्थापना की, जो मोटरसाइकिल के लिए ऋण प्रदान करने में विशेषज्ञता वाली एक वित्त कंपनी है.
  • श्रीनिवास सरकार और कुशाग्र मांगलिक (कपल) - इन्होंने कपल की सह-स्थापना की, जो भारत का सभी प्रकार के जोड़ों के लिए बनाया गया बैंक है.
  • अन्य उल्लेखनीय नामों में अनिकेत दामले (ब्लैकस्टोन), यशवर्धन कनोई (ऑल्टर ग्लोबल), मनीष मार्यादा (फेलो), अनुज श्रीवास्तव और प्रियेश श्रीवास्तव (ऑनफाइनेंस एआई) शामिल हैं.

हेल्थकेयर एंड साइंस

  • करण आहूजा - एक कंप्यूटर वैज्ञानिक जो स्मार्टवॉच के लिए बॉडी-मूवमेंट सेंसिंग और स्मार्टफोन नियंत्रण के लिए गेज-ट्रैकिंग जैसे प्रोजेक्ट्स पर काम कर रहे हैं.
  • आर्य चव्हाण - अपनी मां मोनिका चव्हाण के साथ उन्होंने मधुमेह के इलाज में मदद करने के लिए जिवोव की सह-स्थापना की.

मीडिया, मार्केटिंग और एडवरटाइजिंग

  • कवन अंतरानी - वह मुंबई स्थित ऑन-डिमांड टैलेंट मार्केटप्लेस IndieFolio के सह-संस्थापकों में से एक हैं.

फॉर्ब्स की 30 अंडर 30 की लिस्ट में इतने सारे भारतीय युवाओं की एंट्री इस बात का संकेत देती है कि भारत प्रतिभाशाली युवाओं का पावरहाउस बनकर उभर रहा है, जो न केवल राष्ट्रीय बल्कि अंतरराष्ट्रीय स्तर पर भी अपना नाम रोशन कर रहे हैं.