menu-icon
India Daily
share--v1

'चाचा' को हार का डर या बेटे के भविष्य की चिंता, बदायूं के मैदान से पीछे क्यों हट गए शिवपाल सिंह यादव?

समाजवादी पार्टी ने शिवपाल यादव के बेटे आदित्य यादव को बदायूं से उम्मीदवार बनाया है. कई दिनों से चर्चा चल रही थी कि शिवपाल अपने बेटे को यहां से चुनाव लड़ाना चाहते हैं.

auth-image
India Daily Live
Shivpal Singh Yadav, Aditya Yadav,

लोकसभा चुनाव को लेकर समाजवादी पार्टी ने रविवार को अपने उम्मीदवारों की एक और लिस्ट जारी की, जिसमें दो उम्मीदवारों के नामों का ऐलान किया गया. सपा ने बदायूं और सुल्तानपुर से अपना उम्मीदवार बदला है. पार्टी ने बदायूं से शिवपाल सिंह यादव की जगह उनके बेटे आदित्य यादव को और सुल्तानपुर से राम भुआल निषाद को उम्मीदवार बनाया है. एक तरफ जहां विपक्ष शिवपाल सिंह का टिकट काटे जाने को उनकी हार की डर की वजह बता रहा है वहीं दूसरी तरफ यह भी चर्चा है कि शिवपाल सिंह ने अपने बेटे के भविष्य को देखते हुए खुद अपना नाम वापस लिया है.

सपा ने बदायूं से चौथी बार बदला अपना उम्मीदवार
पिछले 68 दिनों में बदायूं सीट पर सपा ने चौथी बार उम्मीदवार बदला है. शिवपाल यादव से पहले पूर्व सांसद धर्मेंद्र यादव को इस सीट पर उम्मीदवार बनाया गया था. वहीं शिवपाल ने कई दिनों पहले से इस बात के संकेत दे दिए थे कि वह अपने बेटे को इस सीट से चुनाव लड़ाना चाहते हैं.

बीजेपी ने लगाया परिवारवाद का आरोप
आदित्य यादव को टिकट दिए जाने पर भाजपा ने सपा पर परिवारवाद का आरोप लगाया है. केंद्रीय राज्य मंत्री बीएल वर्मा ने कहा कि यह समाजवादी नहीं परिवारवादी पार्टी है.  इस पार्टी में सभी सांसद और विधायक मुलायम सिंह यादव के परिवार के लोग ही बनते हैं, यहां कार्यकर्ताओं का कोई सम्मान नहीं होता. उन्होंने कहा कि बीजेपी की कार्यकर्ता बूथ से लेकर देश के सर्वोच्च पद पर पहुंच सकता है. उन्होंने कहा कि बदायूं सीट को जीतना समाजवादियों के लिए अब आसान नहीं रह गया है, शिवपाल ने किरकिरी से बचने के लिए अपने बेटे को आगे कर दिया है. 

इन नामों का भी हुआ ऐलान
सपा ने आज 7 उम्मीदवारों के नामों का ऐलान किया था जिसमें फूलपुर से अमरनाथ मौर्य, श्रावस्ती से राम शिरोमणि वर्मा, डुमरियागंज से भीष्म शंकर, संतकबीरनगर से लक्ष्मीकांत, सलेमपुर से रमाशंकर राजभर, जौनपुर से बाबू सिंह कुशवाहा, मछलीशहर से प्रिया सरोज को उम्मीदवार बनाया है.