menu-icon
India Daily
share--v1

ममता बनर्जी के 13 vs PM मोदी के 10 साल, बंगाल में किसके खिलाफ एंटी इनकंबेंसी ?

Bengal Lok Sabha Chunav: लोकसभा चुनाव 2024 के छठवें चरण यानी 25 मई को पश्चिम बंगाल की 8 लोकसभा सीटों पर वोटिंग होनी है. ऐसे में अब राज्य में चर्चा हो रही है कि केंद्र में मोदी सरकार के 10 साल बनाम राज्य में ममता बनर्जी सरकार के 13 साल  एंटी इनकंबेंसी किसके खिलाफ है.

auth-image
India Daily Live
Mamata Banerjee PM Modi
Courtesy: ANI

Bengal Lok Sabha Chunav: देश में लोकसभा का चुनाव अपने छठवें चरण में पहुंच चुका है. 25 मई को कुल 58 सीटों पर मतदान होने हैं. इसमें श्चिम बंगाल की 8 लोकसभा सीटें शामिल हैं. इससे पहले यहां की चुनावी लड़ाई बड़ी दिलचस्प हो गई है. यहां लड़ाई मोदी सरकार के 10 साल और ममता बनर्जी के 13 साल की सरकार के बीच है. ऐसे में कुल जानकार एंटीइनकैंबेसी टीएमसी सरकार के खिलाफ बता रहे हैं. आइये जानें किन मुद्दों पर ऐसा कहा जा रहा है.

TMC के पक्ष में सकारात्मक बातें

पश्चिम बंगाल सरकार लक्ष्मी भंडार योजना चलाती है. इसके तहत 25 साल से अधिक की महिलाओं को 1000 से 1200 रुपये दिए जाते हैं. इसे लेकर TCM को महिलाओं का समर्थन मिलता है.

इन मुद्दों पर घिर रही ममता सरकार

- हुगली, पश्चिम मेदिनीपुर और बांकुरा जिलों में नौकरियों की कमी
- स्कूलों में लगभग 26,000 शिक्षकों की भर्ती पर घोटाले के आरोप
- प्रदेश में उद्योगों की कमी भी एक बड़ी समस्या बन रही है

पिछले नतीजे चिंता का विषय

ममता बनर्जी ने 2021 के विधानसभा चुनाव में राज्य में बढ़ रहे भाजपा के कदमों को काफी हद तक रोका था लेकिन इससे पहले BJP ने 2019 के लोकसभा चुनाव में TMC को हिला दिया था. 42 सीटों में से TMC ने 22 और BJP ने 18 सीटों पर जीत हासिल की थी. वहीं कांग्रेस के पास महज 2 सीटें गई थी. वहीं 2021 के चुनाव में BJP ने अपने सीटें को 3 से बढ़ाकर 77 कर लिया था.

BJP के बढ़ रहे वोट शेयर

साल 2019 से ही भारतीय जनता पार्टी पश्चिम बंगाल में लगातार अपने वोट शेयर बढ़ा रही है. अब कयास यही लगाए जा रहे हैं कि पिछले 6 महीने से जो माहौल बंगाल में बन रहा है बीजेपी उसका पूरा फायदा लेगी. इसी के कारण कही न कहीं ममता बनर्जी जमीनी स्तर पर काफी सक्रिय है और वो लगातार सारे आरोपों के जवाब भी दे रही है. खैर रिजल्ट क्या होंगे ये तो सबके सामने 4 जून को ही आएगा.