menu-icon
India Daily
share--v1

पोलिंग बूथ के अंदर EVM मशीन पर ही चढ़ा दी माला, इस कैंडिडेट के खिलाफ दर्ज हो गई FIR

Lok Sabha Elections 2024: लोकसभा चुनाव के 5वें चरण के लिए आज वोटिंग के दौरान नासिक में अजीब घटना सामने आई. एक निर्दलीय प्रत्याशी ने वोट देने के दौरान पोलिंग बूथ में ईवीएम पर माला चढ़ा दी. मामले की जानकारी के बाद इंडिपेंडेंट प्रत्याशी के खिलाफ FIR दर्ज कर ली गई.

auth-image
India Daily Live
Maharashtra Nashik Independent candidate Shantigiri Maharaj puts garland over EVM

Lok Sabha Elections 2024: लोकसभा चुनाव के लिए 5वें चरण के दौरान महाराष्ट्र के नासिक से एक तस्वीर सामने आई. यहां एक इंडिपेंडेंट प्रत्याशी ने वोट देने के दौरान पोलिंग बूथ के अंदर ईवीएम पर माला चढ़ा दी. इस पूरे मामले का वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल है. वीडियो के वायरल होने के बाद इलेक्शन कमीशन ने निर्दलीय प्रत्याशी के खिलाफ FIR दर्ज करा दी. निर्दलीय प्रत्याशी की पहचान नासिक लोकसभा सीट से प्रत्याशी शांतिगिरी महाराज के रूप में हुई है. उनके खिलाफ त्र्यंबकेश्वर पुलिस स्टेशन आचार संहिता के उल्लंघन का मामला दर्ज किया गया है. 

शांतिगिरी महाराज ने कहा कि मुझे जरा भी अंदेशा नहीं था कि ईवीएम पर माला पहनाने से मेरे खिलाफ केस दर्ज हो जाएगा. उन्होंने बताया कि आज सुबह त्रंबकेश्वर के मंदिर में पूजा की. फिर 7 बजे के बाद वोट डालने पोलिंग बूथ पर गए. कहा जा रहा है कि पोलिंग बूथ में स्वामी शांतिगिरि महाराज ने ईवीएम मशीन पर माला चढ़ाई. इस दौरान का वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो गया. इसके बाद कुछ लोगों ने शांतिगिरी महाराज के खिलाफ मामला दर्ज करने की मांग गकी. फिर, EC के निर्देश पर नासिक के त्र्यंबकेश्वर पुलिस स्टेशन में मामला दर्ज किया गया.

राज्य महिला आयोग की अध्यक्ष ने भी की थी ईवीएम की पूजा

महाराष्ट्र में ईवीएम की पूजा का ये पहला मामला नहीं है. इससे पहले राज्य महिला आयोग की अध्यक्ष रूपाली चाकणकर ने भी EVM की पूजा की थी. बाद में चाकणकर को काफी आलोचना का सामना करना पड़ा था. अब इसी वजह से शांतिगिरि महाराज की मुश्किलें बढ़ गई हैं. 

हालांकि, शांतिगिरी महाराज ने कहा कि उन्हें भाजपा समेत सभी हिंदूवादी संगठनों का समर्थन प्राप्त है. उन्होंने विश्वास जताया कि जीत हमारी होगी. हम इस साल का चुनाव जीतना चाहते हैं. महाराज ने कहा, मतदाता हमें भरपूर वोट देंगे. महाराज से सवाल पूछा गया कि आखिर ईवीएम पर फूलों की माला क्यों चढ़ाई? इस पर उन्होंने कहा कि मतदान करना पवित्र है. इसी मशीन से मतदाता वोट डालेंगे. ऐसा इसलिए किया है, क्योंकि हर मतदाता का वोट भारत माता के काम आए.

कौन हैं शांतिगिरी महाराज?

शांतिगिरी महाराज नासिक जिले में लाखलगांव के रहने वाले हैं. वे वेरुल मठ के मठाधीश और जनार्दन स्वामी के उत्तराधिकारी भी हैं. नासिक लोकसभा सीट से निर्दलीय प्रत्याशी शांतिगिरी महाराज ने टिकट के लिए एकनाथ शिंदे और उद्धव ठाकरे से मुलाकात की थी, लेकिन जब उन्हें कही से टिकट नहीं मिला, तो निर्दलीय चुनाव मैदान में उतर गए. फिलहाल, इस सीट से हेमंत गोडसे सांसद हैं. उन्होंने 2014 में भी इस सीट से जीत दर्ज की थी. इस बार भी वे शिवसेना (एकनाथ शिंदे गुट) की ओर से प्रत्याशी हैं, जबकि उद्धव ठाकरे वाली शिवसेना ने यहां से राजाभाऊ वाजे को अपना प्रत्याशी बनाया है.