menu-icon
India Daily
share--v1

Lok Sabha Elections 2024: मछली, सुअर या घोड़ा खाओ, लेकिन... राजनाथ सिंह ने किसके लिए कही ये बात?

Lok Sabha Elections 2024: भाजपा के सीनियर नेता और रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने बिना नाम लिए बिहार के पूर्व डिप्टी सीएम और राजद के नेता तेजस्वी यादव पर तंज कसा. उन्होंने कहा कि कई मछली, सुअर या हाथी खा सकता है, लेकिन इसका दिखावा करके लोगों की संवेदनाओं और उनकी भावनाओं को ठेस नहीं पहुंचानी चाहिए.

auth-image
India Daily Live
Rajnath Singh dig at Tejashwi Yadav for eating non veg during Navratri

Lok Sabha Elections 2024: 'आप कुछ भी खा सकते हैं, मछली, सुअर, घोड़ा या हाथी. लेकिन आपने उस समय इसका दिखावा करके लोगों की संवेदनाओं को आहत नहीं करना चाहिए, जब लोग उपासना कर रहे हों'. ये बातें रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने एक चुनावी रैली में कही. राजनाथ सिंह का ये बयान बिहार के पूर्व डिप्टी सीएम की ओर से हेलिकॉप्टर में मछली फ्राई खाने के दौरान जारी किए गए एक वीडियो के बाद आया है. दरअसल, कुछ दिनों पहले तेजस्वी यादव ने मुकेश सहनी के साथ एक वीडियो जारी किया था, जिसमें वे हेलिकॉप्टर में उनके साथ लंच में मछली फ्राई खा रहे थे.

बिहार के जमुई जिले में एक चुनावी सभा को संबोधित करते हुए राजनाथ सिंह ने तेजस्वी यादव का नाम लिए बिना कहा कि रक्षा मंत्री ने कहा कि किसी को भी इस तरह के कृत्य (काम) का दिखावा नहीं करना चाहिए. तेजस्वी यादव की ओर से वीडियो शेयर किए जाने के बाद विवाद खड़ा हो गया है. भाजपा ने आरोप लगाया है कि चैत्र नवरात्रि में मछली खाकर वीडियो शेयर करना बिलकुल गलत है. कई भाजपा नेताओं ने इस वीडियो के लिए तेजस्वी यादव की आलोचना की है.

नवरात्रि के एक दिन पहले शेयर किया था वीडियो

तेजस्वी यादव ने नवरात्रि से एक दिन पहले मछली फ्राई खाने वाले वीडियो शेयर किया था. वीडियो को पोस्ट किए जाने के बाद सोशल मीडिया पर हंगामा मच गया. हालांकि, तेजस्वी यादव ने कहा कि ये वीडियो नवरात्रि के पहले का है. वीडियो के सामने आने के बाद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी समेत बीजेपी के कई दिग्गजों ने विपक्षी नेताओं पर 'मुगल मानसिकता' का प्रदर्शन करने और नवरात्रि के दौरान मांसाहारी भोजन करके देश के लोगों को चिढ़ाने का आरोप लगाया.

किसी का नाम लिए बिना, पीएम मोदी ने कहा कि व्यक्तियों को अपनी आहार संबंधी प्राथमिकताएं चुनने की आजादी है, लेकिन उनके कार्यों के पीछे विपक्षी नेताओं की मंशा महत्वपूर्ण है. उन्होंने उधमपुर में एक चुनावी रैली को संबोधित करते हुए कहा कि क़ानून किसी को कुछ भी खाने से नहीं रोकता है और न ही मोदी को. सभी जब चाहें शाकाहारी और मांसाहारी भोजन करने के लिए स्वतंत्र हैं, लेकिन इन नेताओं का मकसद अलग था.

उन्होंने कहा कि मुगलों को मंदिरों को तोड़ने से संतुष्टि मिलती थी, राजाओं को हराने से नहीं. वे इससे खुशी प्राप्त करते थे. इसी तरह, वे (इंडिया ब्लॉक नेता) नवरात्रि के दिनों में इस तरह के वीडियो जारी करके देश के लोगों को चिढ़ाने की कोशिश करते हैं, सिर्फ अपने वोट बैंक को मजबूत करने के लिए.