menu-icon
India Daily
share--v1

क्या है आयुष्मान भारत योजना, क्या है ट्रांसजेंडर और बुजुर्गों के लिए BJP का प्लान?

BJP Manifesto: दिल्ली में भाजपा मुख्यालय में आज यानी रविवार को पार्टी का 'संकल्प पत्र' जारी किया गया. लोकसभा चुनाव 2024 के लिए पीएम मोदी ने संकल्प पत्र के बारे में चर्चा करते हुए आयुष्मान भारत योजना का जिक्र किया. उन्होंने इस योजना के तहत ट्रांसजेंडर कम्यूनिटी और बुजुर्गों को स्वास्थ्य लाभ देने का वादा किया है.

auth-image
India Daily Live
BJP Manifesto  Sankalp Patra pm modi Ayushman Bharat Yojana

BJP Manifesto: प्रधानमंत्री मोदी ने भाजपा मुख्यालय में लोकसभा चुनाव 2024 के लिए पार्टी के 'संकल्प पत्र' के बारे में बताते हुए कहा कि भाजपा ने संकल्प लिया है कि 70 साल की उम्र से ऊपर के हर बुजुर्ग को आयुष्मान योजना के दायरे में लाया जाएगा. चाहे वे गरीब हों, मिडिल क्लास के हों या फिर अपर मिडिल क्लास के हों. उन्हें 5 लाख रुपये तक के मुफ्त इलाज की सुविधा मिलेगी. आइए, आपको बताते हैं कि आयुष्मान भारत योजना क्या है? इसकी शुरुआत कब हुई? इसके उद्देश्य क्या हैं?

देश में आर्थिक रूप से कमजोर लोगों को बेहतर स्वास्थ्य सुविधाओं को देने के लिए साल 2018 में 'आयुष्मान भारत योजना' की शुरुआत की गई. 23 सितंबर 2018 को पीएम मोदी ने झारखंड की राजधानी रांची से इस योजना को लॉन्च किया था. बाद में इस योजना का नाम बदलकर प्रधानमंत्री जन-आरोग्य योजना यानी PM-JAY कर दिया गया. इस योजना के तहत गरीबों को 5 लाख रुपये तक का मुफ्त इलाज मिलता है. इस योजना का लाभ लेने के लिए आयुष्मान गोल्डन कार्ड बनवाना होता है. कार्ड मिलने के बाद मरीज, योजना से लिस्टेड देशभर के 13 हजार से भी ज्यादा सरकारी और प्राइवेट अस्पताल में इलाज करा सकता है. 

गोल्डन कार्ड के जरिए मरीज, कैंसर लेकर दिल से संबंधित बीमारियों समेत करीब 1500 बीमारियों का इलाज करा सकता है. इस योजना का लाभ लेने के लिए जनसेवा केंद्र जाकर आवेदन किया जा सकता है. इसके बाद वैरिफिकेशन होगा और फिर आपका रजिस्ट्रेशन. योजना के गोल्डन कार्ड के लिए अप्लाई करने के दौरान आपके पास आधार कार्ड, राशन कार्ड, मोबाइल नंबर, निवास प्रमाण पत्र होना जरूरी है. 

दुनिया का सबसे बड़ा सरकारी हेल्थ सर्विस प्रोग्राम

50 करोड़ से अधिक लाभार्थियों को टार्गेट करने वाली ये योजना दुनिया की सबसे बड़ी सरकारी स्वास्थ्य सेवा कार्यक्रम है. इस योजना के चला रही केंद्र सरकार का मानना है कि इससे गरीबों को बीमारी के इलाज में आने वाले महंगे खर्च से निजात पाने में मदद मिलेगी. 2018 के बजट में तत्कालीन वित्त मंत्री अरुण जेटली ने इस योजना की घोषणा की थी.

सरकारी आंकड़ों के मुताबिक, केंद्र सरकार की इस योजना से अब तक 12 करोड़ परिवार यानी 55 करोड़ लोग जुड़ चुके हैं. 20 दिसंबर, 2023 तक आयुष्मान भारत योजना के तहत करीब साढ़े 29 करोड़ लोगों को आयुष्मान कार्ड जारी किया जा चुका है. इसमें पिछले साल ही यानी 2023 में करीब साढ़े 9 करोड़ आयुष्मान कार्ड जारी किया गया था. 

अगर आपने आयुष्मान कार्ड नहीं बनवाया है, तो ऐसे करे अप्लाई

अगर आपने अभी तक अपना आयुष्मान कार्ड नहीं बनवाया है तो हम आपको इसे बनवाने का ऑनलाइन तरीका भी बता देते हैं. आपको ऑनलाइन आयुष्मान कार्ड बनाने के लिए वेबसाइट या फिर आयुष्मान भारत ऐप का यूज करना होगा. वेबसाइट के जरिए बनवाना चाहते हैं, तो गूगल में beneficiary.nha.gov.in टाइप कर उस पर क्लिक करना होगा. इसके बाद आपसे मोबाइल नंबर मांगा जाएगा. इसे डालते ही एक OTP आएगा. इसके बाद आपसे आपके राज्य का नाम, जिला और राशन कार्ड या आधार कार्ड का डिटेल डालना होगा. इसके बाद आप अपने आयुष्मान कार्ड के लिए अप्लाई कर सकते हैं.

ऐप से आयुष्मान कार्ड के आवेदन के लिए App डाउनलोड करना होगा, जिसके बाद ओटीपी और अन्य वैरिफिकेशंस के बाद लॉगइन करना होगा. इसके बाद वेबसाइट की ही तरह अन्य डिटेल्स को भरना होगा. फिर आप आयुष्मान कार्ड के लिए अप्लाई कर सकते हैं.